डॉक्टर के प्रोफेशन्‍स को सबसे श्रेष्ठ माना जाता है। उन्हें पृथ्वी पर ईश्वर के रूप में भी जाना जाता है, क्योंकि वे जीवन को बचाते हैं। जब गायनोकोलॉजिस्ट की बात आती है तो यह पृथ्वी पर एक नया जीवन लाने में भी मदद करते हैं। आज हम इस आर्टिकल के माध्‍यम से ऐसे ही एक गायनोकोलॉजिस्ट और ऑब्स्टेट्रिक्स सर्जन डॉक्‍टर अरुणा कालरा के बारे में बात कर रहे हैं।

एक डॉक्टर होने के अलावा, उसने कई तरह से कम्युनिटी की मदद भी की है। इस बार महिला दिवस के मौके पर हमने ऐसी महिलाओं से बातचीत की जिन्‍हें अपनी कुछ अलग पहचान बनाई हैं। जी हां हरजिंदगी डॉक्‍टर कालरा की की जर्नी के बारे में जानने के लिए विशेष रूप से बातचीत की।

डॉक्‍टर अरुणा कालरा की शिक्षा

Dr Aruna Kalras Education hindi

डॉक्‍टर अरुणा एक फेमस गायनोकोलॉजिस्ट है जिन्‍हें 22 से अधिक वर्षों का अनुभव है। उन्‍होंने बीआरडी मेडिकल कॉलेज, गोरखपुर से एमबीबीएस पूरा किया। ग्रेजुएशन की उपाधि प्राप्त करने के बाद, उन्होंने मास्टर्स किया और केएमसी, मंगलौर से गायनोकोलॉजिस्ट और ऑब्स्टेट्रिक्स में मास्टर्स एमडी किया। डॉक्‍टर कालरा यहीं रुकी नहीं। आगे उन्‍होंने अल्ट्रासोनोग्राफी और इनफर्टिलिटी में एक प्रमाणित ट्रेनिंग कोर्स किया। वह अकादमिक उत्कृष्टता में स्वर्ण पदक विजेता भी है, जो उसने अपने पोस्‍ट-ग्रेजुएशन में प्राप्त की थी।

इसे जरूर पढ़ें:जानें कौन हैं मीनल खरे? इनकी कहानी है कई महिलाओं के लिए प्रेरणा

डॉक्‍टर अरुणा की जर्नी

Dr Arunas Journey hindi

अपने 22 साल के लंबे करियर में डॉक्‍टर कालरा को कई उतार-चढ़ावों का सामना करना पड़ा। हालांकि, वह हमेशा दृढ़ बनी रही और आगे बढ़ती रही। वह मरीजों के साथ संवेदनशील होने के लिए सबसे अधिक ध्यान रखती है। डॉक्‍टर कालरा को ऑब्स्टेट्रिक्स में व्यापक अनुभव है। डिलीवरी के समय उनके कुशल व्यवहार के परिणामस्वरूप पिछले सीजेरियन के बावजूद, वह 90 प्रतिशत नॉर्मल वेजाइनल डिलीवरी कर चुकी हैं। 

उसने कई सम्मानित ऑर्गेनाइजेशन के साथ काम किया है, जैसे कि कस्तूरबा हॉस्पिटल, बत्रा हॉस्पिटल, पारस हॉस्पिटल, आदि। वह अब सीके बिड़ला हॉस्पिटल, गुरुग्राम से जुड़ी हुई हैं, जिसमें डॉक्‍टर कालरा डारेक्‍टर और सीनियर गायनोकोलॉजिस्ट सर्जन हैं। वह गुरुग्राम में मॉम्स क्लिनिक की एमडी भी हैं।

Recommended Video

डॉक्‍टर अरुणा कालरा सोशल वर्कर

Dr Aruna Kalras Social Work hindi

डॉक्टर होने का मतलब है, आपको आपात स्थिति और परेशानियों से निपटने के लिए कई गतिविधियों के लिए समय निकालना होगा। हालांकि, इसने डॉक्‍टर कालरा को कम्‍युनिटी के लिए कुछ उल्लेखनीय काम करने से नहीं रोका। उनके कुछ बेहतरीन सामाजिक कार्य हैं:

पिताओं के लिए बूट कैंप

जब एक महिला मां बनने वाली होती है तो उसको कई तरह के बदलावों से गुजरना पड़ता है, एक पुरूष को भी जीवन में बदलाव और नएपन से गुजरना पड़ता है। सहज यात्रा के लिए डॉक्‍टर कालरा ने होने वाले पिताओं के लिए एक बूट शिविर का आयोजन किया। यह बूट कैंप अपनी तरह की पहल थी, जिसका उद्देश्य होने वाले पिता को नई छोटी जिम्मेदारी की तैयारी को आसानी से निभाने में मदद करना है।

इसे भी पढ़ें:गीता टंडन हैं कुछ ख़ास, पढ़ें बॉलीवुड की स्टंट वूमेन की ये कहानी

मातृत्व मुद्दों को हल करने के लिए स्‍पेशल सेशन

मातृत्व मुद्दों को संबोधित करने के लिए, डॉक्‍टर अरुणा कालरा ने नई माताओं के लिए स्‍पेशल सेशन आयोजित किए। सेशन के दौरान, डॉक्टरों ने पोस्‍टपार्टम डिप्रेशन, आहार, योग और उनके लिए ग्रूमिंग टिप्स पर महत्वपूर्ण जानकारी शेयर की।

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहिए।