हेल्‍दी रहने के लिए हमें अच्‍छी डाइट लेनी चाहिए और अपने रूटीन में एक्‍सरसाइज को शामिल करना चाहिए, यह बात तो हम सभी जानती हैं। लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि हेल्‍दी रहने के लिए नींद भी बहुत जरूरी होती है। जी हां हेल्‍दी रहने के लिए डाइट और एक्‍सरसाइज के अलावा नींद बहुत जरूरी होती है। खासतौर पर महिलाओं को तो भरपूर नींद लेना चाहिए क्‍योंकि वह घर और ऑफिस की दोहरी जिम्‍मेदारियां निभाते-निभाते ज्‍यादा थक जाती है। यह बात एक नई रिसर्च से भी सामने आई है कि महिलाओं के लिए भरपूर नींद लेना बहुत जरूरी है। 

महिलाओं में नींद की समस्‍याएं ना केवल कार्डियावैस्‍कुलर हेल्‍थ को बल्कि ब्‍लड प्रेशर को भी प्रभावित करती है। कोलंबिया यूनिवर्सिटी इरविंग मेडिकल सेंटर द्वारा आयोजित एक अध्ययन के मुताबिक, हल्की नींद की समस्याएं, जैसे सोते समय परेशानी होना, महिलाओं में ब्‍लड प्रेशर बढ़ा सकता है।

Read more: उड़ी हुई हैं रातों की नींद? तो इस juice में छिपा है अच्‍छी नींद का secret

heart problem sleep

हार्ट पर पड़ता है असर

लगभग एक-तिहाई वयस्कों को पर्याप्त नींद नहीं मिलती है। महिलाओं के लिए, समस्या बहुत बड़ी हो सकती है। अध्ययनों ने सुझाव दिया कि महिलाओं को नींद की समस्याओं का अधिक जोखिम होता है, कुछ शोधकर्ताओं ने रिपोर्ट किया है कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं क्रोनिक अनिद्रा दोगुना हो सकती है। अध्ययन के मुख्य लेखक ब्रुक अग्रवाल ने कहा, "अध्ययन से यह पता चला है कि नींद में कमी और हल्की नींद की समस्याएं महिलाओं में कार्डियोवैस्कुलर स्वास्थ्य पर असमान प्रभाव डाल सकती हैं।"

नए अध्ययन ने 323 हेल्‍दी महिलाओं में ब्‍लड प्रेशर और नींद की आदतों की जांच की और पाया कि हल्की नींद की गड़बड़ी - खराब गुणवत्ता वाली नींद, सोने में अधिक समय लगना, और अनिद्रा - गंभीर नींद की गड़बड़ी की तुलना में लगभग तीन गुना अधिक आम है, जैसे अवरोधक स्लीप एप्निया।

sleeping health inside

नींद और हार्ट हेल्थ में संबंध

जिन महिलाओं को हल्की नींद की समस्याएं थीं - उन महिलाओं को शामिल किया गया जो रात में सात से नौ घंटे तक नींद लेती थी और इसे कलाई की तरह डिवाइस द्वारा मापा गया - इनमें ब्‍लड प्रेशर बढ़ने की संभावना अधिक थी। कुछ महिलाओं ने शोधकर्ताओं को कार्डियोवैस्कुलर बीमारी के विकास में निहित प्रो-भड़काऊ प्रोटीन की तलाश करने के लिए एक आर्म वेन के अंदर से कुछ एंडोथेलियल कोशिकाओं को निकालने की अनुमति दी। अध्ययन के वरिष्ठ लेखक संजा जेलिक के नेतृत्व में शोधकर्ताओं ने एंडोथेलियल सूजन और हल्के नींद की गड़बड़ी के बीच एक संबंध पाया।

Read more: अगर चाहती हैं कि रात में आए गहरी नींद तो आजमाएं ये 10 उपाय

अग्रवाल ने कहा, "हमारे निष्कर्ष बताते हैं कि हल्की नींद की समस्याएं संभवतः वैस्‍कुलर एंडोथेलियल सूजन से शुरू होती हैं जो कार्डियोवैस्कुलर बीमारी में महत्वपूर्ण योगदानकर्ता है।" "चल रहे नैदानिक परीक्षण के परिणाम इन परिणामों की पुष्टि करते हैं। इस बीच, कार्डियोवैस्कुलर बीमारी को रोकने में मदद के लिए महिलाओं को हल्के नींद की गड़बड़ी के लिए स्क्रीन करना समझदारी हो सकती है।"यह अध्ययन अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के जर्नल में है।