2020 से ही हम कोरोना बीमारी की वजह से बहुत परेशान हुए हैं और पूरी दुनिया में 50 लाख से भी ज्यादा लोग इस बीमारी से अपनी जान गंवा चुके हैं। ये तो सिर्फ आधिकारिक आंकड़ा है और स्थिति और भी भयावह हो सकती है। धीरे-धीरे कर नए-नए कोविड वेरिएंट्स और भी ज्यादा परेशान करने वाले रहे हैं। 2022 में अब फिर से नए वेरिएंट ओमिक्रॉन ने हमें परेशान कर दिया है। पर इसी बीच ओमिक्रॉन और डेल्टा की बात होते-होते अचानक फ्लोरोना का जिक्र बढ़ गया है।

लोगों को ये चिंता होने लगी है कि आखिर ये फ्लोरोना क्या है और क्यों इसके पहले केस को लेकर ही पूरी दुनिया में चिंता जताई जा रही है। तो इसके बारे में आज हम आपसे विस्तार से बात करते हैं और साथ ही साथ वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन इसके बारे में क्या कहता है ये भी बताते हैं।

क्या है फ्लोरोना और क्यों है न्यूज़ में?

फ्लोरोना यानी इन्फ्लूएंजा और कोरोना का मिला जुला वेरिएंट। इसे एक तरह से डबल इन्फेक्शन माना जा सकता है। इजराइल में एक प्रेग्नेंट महिला के शरीर में इन्फ्लूएंजा और कोरोना दोनों के ही इन्फेक्शन मिले हैं। इसका पहला मामला 30 दिसंबर को सामने आया है। अभी तक इसके बारे में बहुत ही कम जानकारी मिली है और इसे अभी आधिकारिक तौर पर किसी वेरिएंट की पुष्टि भी नहीं मिली है। इसलिए ये ना सोचें कि ये कोई वेरिएंट है बल्कि अभी इसे पूरी दुनिया का एक मात्र केस माना जा रहा है।

florona dose

इसे जरूर पढ़ें- कोरोना वायरस किन फूड्स को खाने से फैलता है? आपके मन में भी हैं सवाल तो जानें सच्‍चाई

अभी तक कितनी जानकारी मिली है फ्लोरोना के बारे में?

फ्लोरोना का मतलब है 'फ्लू और कोरोना', ये कोई नई बात नहीं है कि किसी कोविड-19 वेरिएंट की वजह से डबल इन्फेक्शन हो गया हो। किसी इंसान की इम्यूनिटी पर एक साथ बहुत सारी चीज़ें असर कर सकती हैं और ऐसा हो सकता है कि उस इंसान के शरीर में दो अलग-अलग तरह के वायरस मौजूद हों। इजराइली न्यूजपेपर Yedioth Ahronoth के मुताबिक जिस महिला में ये दोनों वायरस एक साथ पाए गए हैं उसे ना तो कोरोना का वैक्सीन लगा था और ना ही इन्फ्लूएंजा का।

florona in isreal

WHO के मुताबिक क्या है फ्लोरोना?

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने अभी तक इसको लेकर कोई कंफर्म रिपोर्ट नहीं जारी की है, लेकिन कुछ मीडिया आउटलेट्स के स्टेटमेंट के हिसाब से WHO की तरफ से एक स्टेटमेंट जारी हो चुका है। 'ये मुमकिन है कि दो वायरस एक साथ शरीर में मौजूद हों और इन दोनों की ही गंभीरता को कम करने के लिए ये जरूरी है कि कोविड-19 और इन्फ्लूएंजा दोनों के लिए वैक्सीन लिया जाए।' 

अभी इसके बारे में जानकारी काफी कम है और इसलिए आधिकारिक तौर पर फ्लोरोना की कोई डेफिनेशन नहीं जारी की गई है। 

Recommended Video

इसे जरूर पढ़ें- कोरोना काल में ऑफिस रिज्यूम कर रही हैं तो अपनाएं ये टिप्स 

सुरक्षा का पूरा इंतजाम रखें- 

एक बात जो हमेशा आपको समझनी चाहिए वो ये कि आपको अपनी सुरक्षा के पूरे इंतज़ाम रखने होंगे। मास्क का इस्तेमाल जरूर करें, बिल्कुल किसी भी हाल में वैक्सीन अवॉइड ना करें। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें जिससे आपका सुरक्षा चक्र बढ़ सके। अगर किसी को लक्षण दिखते हैं तो घर से बाहर ना जाएं। 

इजराइल में तीसरे बूस्टर डोज के बाद अब चौथा डोज भी लगने लगा है और लोग वैक्सीन को लेकर ज्यादा जागरूक हो रहे हैं। अपनी सेहत के लिए आप भी वैक्सीन जरूर लगवाएं। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।