ऑफिस हो या चाहे घर, अगर एक ही टॉयलेट का इस्तेमाल एक साथ बहुत सारी महिलाएं करती हैं तो इसके चलते ना केवल खीझ आती है बल्कि uninary tract infection (यूटीआई) या यूरीन मार्ग के इंफेक्शन होने खतरा बना रहता है। अगर आपको भी अक्सर इस समस्या का सामना करना पड़ता है तो आपके लिए कुछ बातों को जानना और इस पर अमल करना बहुत जरूरी हैं। आइए जानें कौन सी है ये बातें। लेकिन सबसे पहले हम आपको बताते है कि यूटीआई क्या हैं। 

क्या है यूटीआई

यूटीआई इंफेक्शन एक ऐसा इंफेक्शन है जिसमें यूरीन मार्ग के हिस्से पर असर पडता है, जिससे यूरीन में करते समय आपको जलन और दर्द का अहसास होता है। इसके अन्य लक्षणों में बुखार आना और बार-बार यूरीन आना शामिल हैं। जब कोई हानिकारक बैक्टीरिया यूरीन मार्ग के किसी हिस्से में प्रवेश करता है तो उस हिस्से में सूजन आ जाती है और बाद में वह हिस्सा संक्रमित हो जाता है। इस बारे में जब मैंने अपनी लेडी डॉक्‍टर कविता से बात की तब उन्होंने बताया कि 'गंदे टॉयलेट के कारण यूटीआई का खतरा कई गुना बढ़ जाता है। इससे बचने के लिए निजी अंगों की साफ-सफाई के साथ कुछ बेहद आसान से टिप्स कारगर साबित हो सकते हैं।'  

Read more: Urine leakage से क्या होती है आपकी skirt गीली? तो try कीजिये ये exercises

उन्होंने ये भी बताया कि यूटीआई से बचने के लिए खूब सारा पानी पीना और अपनी डाइट में खट्टे फलों को शामिल करना बहुत जरूरी है। इसके अलावा करौंदे का जूस और प्याज भी इसमें बहुत मददगार होता है। यूटीआई का खतरा पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में ज्यादा होता है। लेकिन परेशान ना हो क्योंकि कुछ बातों का ध्यान रखकर आप इस समस्या से बच सकती हैं।

uti problem  ()

निजी सफाई है जरूरी

रोजाना सुबह टिश्यु पेपर की मदद से आगे से पीछे कर तरफ के हिस्से को साफ करें। ध्यान रहें कि कभी भी उल्टे तरीके से कोशिश ना करें। यानी कभी भी पीछे से आगे की तरफ ना करें। नहीं तो मल मार्ग के बैक्टीरिया हाथ के साथ टिश्यु पर भी आ सकते है। एक बार इस्तेमाल करने के बाद टिश्यु का दोबारा इस्तेरमाल ना करें।

यूरीन ज्यादा देर तक ना रोकें

कई बार घर से बाहर होने के कारण हम वॉशरूम का इस्तेमाल करने से बचती हैं और घंटों तक यूरीन को रोके रहती हैं। यह आदत मैंने कई महिलाओं के अंदर देखी हैं। यहां तक कि मेरी बेटी को भी ये गंदी आदत है। लेकिन ऐसा करना ठीक नहीं है। क्‍योंकि इससे इंफेक्‍शन होने का खतरा कई गुणा बढ़ जाता है। यानी यूरीन को ज्यादा देर रोककर रखने से बैक्टीरिया को पनपने का मौका मिल जाता है और यूरीन इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए जब तक आप जाग रही हैं, हर तीन से चार घंटे के अंतराल में आपको यूरीन करने जरूर जाना चाहिए।

यूरीन के रंग पर ध्यान दें

यूरीन के दौरान उसका कलर भी हमेशा नोट करना चाहिए। अगर यूरीन का कलर हल्के पीले कलर से थोड़ा भी गहरा है तो इसका मतलब बॉडी में पानी की कमी है। ऐसा होने पर हर बार खाना खाने के आधे घंटे बाद एक गिलास ज्यादा पानी पिएं।

uti problem  ()

कब्ज से बचें

कब्ज होने पर ब्लैडर खाली करने में दिक्क‍त आती हैं यानी यूरीन पूरी तरह से नहीं निकल पाता है। इससे बैक्टीरिया को पनपने और फैलने का मौका मिलता है। कब्ज से बचने की को‍शिश करें। इसके लिए भरपूर मात्रा में पानी और फाइबर युक्त आहार लें। 

सही अंडरवियर का चुनाव करें

टाइट अंडरवियर पहनने से बचें। सिंथेटिक कपड़े से बने अंडरवियर स्किन तक हवा को पहुंचने नहीं देते। इस तरह से त्वचा हमेशा गीली रहती हैं जिससे बैक्टीरिया को पनपने का मौका मिलता है। इसलिए हमेशा कॉटन के अंडरवियर ही पहनें। क्‍योंकि इससे आपकी त्‍वचा हमेशा ड्राई रहती है। 

पीरियड्स के दौरान सफाई

पीरियड्स के दौरान नियमित अंतराल पर पैड या टैम्पून बदलें। गंदे पैड पर बैक्टीगरिया आसानी से पनपने लगते हैं और यूटीआई का खतरा बढ़ने लगता है। इसलिए हर चार घंटे में पैड को जरूर बदलें।

इस तरह के उपायों को अपनाकर आप यूटीआई की समस्‍या से बची रह सकती हैं। तो देर किस बात की आज से ही अपनाएं ये टिप्‍स।

कब्‍ज से बचने के लिए आप इस वीडियो में दिये उपायों को अपना सकती हैं।

Read more: हर 5 में 1 महिला होती है UTI से परेशान, कहीं आप भी तो नहीं?