हम अपने शरीर, मन और हेल्‍थ की देखभाल कैसे कर सकते हैं यह कई कारणों से समय के साथ विकसित हुआ है। जबकि उन परिवर्तनों में से कुछ (जैसे लो फैट वाली चीजें, वजन कम करना और शुक्रिया अदा करना) को हम भूल जाते हैं। लेकिन कुछ स्वास्थ्य रुझान ध्यान आकर्षित करते हैं क्योंकि उनके पीछे विज्ञान है और हम उन्हें अपनाकर खुद को बेहतर समझते हैं। इस आर्टिकल में कुछ ऐसे हेल्‍थ ट्रेंड्स हैं जो 2010 से लेकर 2020 तक, यानि 10 सालों तक ट्रेंड में रहे हैं और फिट रहने के लिए आप भी इन्‍हें आजमा सकती हैं।

एनर्जी मेडिसीन

भारतीय संस्कृति में मेडिटेशन, योग एवं अध्यात्म को महत्व इसीलिए दिया गया है क्योंकि एनर्जी सिस्टम को संतुलित रखने के लिए इनकी बड़ी भूमिका है। आधुनिक बनने की होड़ में हमने इनसे दूरी बना ली जिसके चलते एनर्जी-तंत्र बिगड़ने लगा है और शारीरिक व मानसिक परेशानियां बढ़ गई हैं। ऐसे में एक्‍सपर्ट एनर्जी मेडिसीन पद्धति के जरिए हेल्‍थ को दुरुस्त करने की दिशा में कदम बढ़ा रहे हैं। एनर्जी मेडिसीन खुद को हेल्‍दी एवं सुखी बनाए रखने का माध्यम है। इससे एनर्जी-सिस्‍टम को व्यवस्थित बनाकर बीमारियों से बचा जा सकता है।

टेलीमेडिसिन

Telemedicine inside

जब डॉक्‍टर और रोगी एक दूसरे के साथ शारीरिक रूप से मौजूद नहीं होते हैं तब टेलीमेडिसिन रोगियों को दूर से देखभाल करने के अभ्यास को संदर्भित करता है।  आधुनिक तकनीक ने डॉक्टरों को HIPAA अनुरूप वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग टूल का उपयोग करके रोगियों से परामर्श करने में सक्षम बनाया है। टेलीमेडिसिन सॉफ्टवेयर का उपयोग करने के लिए सबसे मजबूत और आसान है। दूसरे शब्‍दों में कहा जा सकता है कि टेलीमेडिसिन इलेक्ट्रॉनिक संचार के माध्यम से एक साइट से दूसरी साइट पर चिकित्सा जानकारी का आदान-प्रदान है। यह किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के उद्देश्य से किया जाता है। टेलीमेडिसिन लगभग 40 वर्षों से अधिक समय से है। यह तेजी से बढ़ने वाला क्षेत्र है। टेलीमेडिसिन आपको और डॉक्टर को और अधिक कुशलता से एक साथ लाने में मदद कर सकता है।

इसे जरूर पढ़ें:ये nutrition trends जिसे follow कर आप भी रह सकती हैं हेल्‍दी

बायोहॉकिंग

बायोहॉकिंग को नागरिक या डू-इट-ही-बायोलॉजी के रूप में वर्णित किया जा सकता है। कई ''बायोहैकर्स'' के लिए, यह आपके स्वास्थ्य और कल्याण में सुधार करने के लिए डाइज या लाइफस्‍टाइल में छोटे बदलाव है। बायोहॉकिंग आपके शरीर की जीव विज्ञान को "हैक" करने और अपना सर्वश्रेष्ठ महसूस करने के लिए आपकी लाइफस्‍टाइल में परिवर्तन करने की प्रक्रिया है। खुद की बायोहॉकिंग करके, आप वास्तव में अपने शरीर को बदल सकती हैं ताकि आप सबसे अधिक ऊर्जावान, अधिक उत्पादक और समग्र रूप से बेहतर महसूस कर सकें। आमतौर पर, बायोहॉकिंग तीन श्रेणियों में आता है: न्यूट्रिग्नोमिक्स, DIY बायोलॉजी और ग्राइंडर बायोहॉकिंग।

प्लांट बेस्ड डाइट

plant base diet inside

प्लांट बेस्ड डाइट को वेजिटेरियन डाइट के रूप में भी जाना जाता है। इस प्रकार की डाइट में ज्यादातर मात्रा उन चीजों की शामिल होती है, जो हमें सीधेतौर पर पेड़-पौधों से प्राप्त होती है। इसमें फल, सब्जी, नट्स आदि शामिल हैं। इस तरह की डाइट के कई फायदे होते हैं, जो बॉडी को फिट रखने के साथ ही उसे बीमारियों से दूर रखने में मदद करते हैं। साथ ही फल, सब्जियां, ग्रेन्स आदि प्लांट बेस्ड चीजों से कैंसर का खतरा कम होता है। इनमें कई ऐसे तत्व मौजूद होते हैं, जो ट्यूमर ग्रोथ को बनने से रोकने के साथ ही हेल्दी बॉडी सेल्स के नुकसान होने से रोकते हैं। साथ ही डैमेज हुए सेल्स को रिपेयर करने में भी मदद करते हैं।

मेडिशनल मारिजुआना

Medicinal Marijuanainside

हालांकि मारिजुआना या कैनबिस, आमतौर पर एक मनोरंजक दवा के रूप में जानी जाती है और इसे हजारों वर्षों से एक दवा के रूप में उपयोग किया जा रहा है। आज, कई अमेरिकी राज्यों में यह वैध नहीं है और केवल मुट्ठी भर नॉनमेडिकल कैनबिस का उपयोग करने की अनुमति है। कैनबिस में मन-परिवर्तन करने वाला घटक टीएचसी होता है, छोटा डेल्टा-9-टेट्राहाइड्रोकार्बनबिनोल। कैनबिस में टीएचसी की मात्रा बदलती रहती है और पिछले कुछ दशकों में लगातार बढ़ रही है।

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑन ड्रग एब्यूज (NIDA) के अनुसार, 1990 के दशक में जब्त नमूनों की औसत THC सामग्री 3.7 प्रतिशत थी। 2013 में यह 9.6 प्रतिशत थी। जब THC शरीर में प्रवेश करता है, तो यह मस्तिष्क में कैनाबिनोइड रिसेप्टर्स को जोड़ता है और उत्तेजित करता है। इन रिसेप्टर्स की उत्तेजना शरीर को विभिन्न तरीकों से प्रभावित करती है। इसके प्रभाव में दर्द और सूजन, भूख में वृद्धि, मतली और अनिद्रा को कम किया जाता है। मारिजुआना में एक और केमिकल सीबीडी है, जिसका लाभकारी स्वास्थ्य प्रभाव होता है।

जेनेटिक टेस्टिंग

genetic engineering inside

जेनेटिक टेस्टिंग एक प्रकार का मेडिकल टेस्ट है, जो हमारे माता-पिता से विरासत में मिले जीन में हुए बदलावों की पहचान करता है, जिसे हम आमतौर पर अपने बच्चों को देते हैं। हमारे जीन में "गलतियां" (जिसे "रोगजनक रूपांतर कहा जाता है") रोग को प्रकट करता है और रोग निदान की पुष्टि करने के लिए जेनेटिक टेस्टिंग का उपयोग किया जा सकता है। एक जेनेटिक टेस्टिंग हमारे डीएनए और सेल्‍स में जेनेटिक सामग्री का विश्लेषण है, जो हमें विशिष्ट विशेषताएं प्रदान करता है और हमारे शरीर को विभिन्न कार्यों को करने में सक्षम बनाता है। हमारे डीएनए के तेजी से और विश्वसनीय परीक्षण के लिए कई अलग-अलग तरीके मौजूद हैं।

गट माइक्रोबायोम

आपका शरीर बैक्टीरिया, वायरस और कवक से भरा हुआ है। उन्हें सामूहिक रूप से माइक्रोबायोम के रूप में जाना जाता है। जबकि कुछ बैक्टीरिया बीमारी से जुड़े होते हैं, अन्य वास्तव में आपकी इम्‍यूनिटी, हार्ट, वजन और हेल्‍थ के कई अन्य पहलुओं के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं। बैक्टीरिया, वायरस, कवक और अन्य सूक्ष्म जीवित चीजों को लघु के लिए सूक्ष्मजीव या रोगाणुओं के रूप में जाना जाता है। ये अरबों रोगाणु मुख्य रूप से आपकी आंतों के अंदर और त्वचा पर मौजूद होते हैं।

आपकी आंतों के अधिकांश रोगाणुओं को आपकी बड़ी आंत की "पॉकेट" में पाया जाता है जिसे सीकुम कहा जाता है, और उन्हें गट माइक्रोबायोम कहा जाता है। हालांकि कई अलग-अलग प्रकार के रोगाणुओं आपके अंदर रहते हैं, बैक्टीरिया सबसे अधिक अध्ययन किए जाते हैं। वास्तव में, आपके शरीर में मानव कोशिकाओं की तुलना में अधिक बैक्टीरिया कोशिकाएं हैं। आपके शरीर में लगभग 40 ट्रिलियन जीवाणु कोशिकाएं हैं और केवल 30 ट्रिलियन मानव कोशिकाएं हैं। इसका मतलब है कि आप मानव की तुलना में अधिक बैक्टीरिया हैं। मानव आंत माइक्रोबायोम में बैक्टीरिया की 1,000 से अधिक प्रजातियां हैं, और उनमें से प्रत्येक आपके शरीर में एक अलग भूमिका निभातेे हैं। उनमें से अधिकांश आपके स्वास्थ्य के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण हैं, जबकि अन्य बीमारी का कारण बन सकते हैं।

Recommended Video

मेडिटेशन

meditation inside

मेडिटेशन का अर्थ होता है, एकाग्र भाव से ध्यान लगाना। इसका उद्देश्य मनुष्य को आत्मिक शांति प्रदान करना होता है। मेडिटेशन एक प्रकार की क्रिया है, जिसमें इंसान अपने मन को चेतन की एक विशेष अवस्था में लाने की कोशिश करता है। इसमें अपने मन को शांति देने से लेकर आंतरिक एनर्जी या जीवन-शक्ति का निर्माण करना हो सकता है, जो हमारी जिंदगी मे सकरात्मकता और खुशहाली लाती है। इसकी साहयता से कोई भी इंसान अपने उद्देश्य पर अपना ध्यान केंद्रित करके अपने लक्ष्य की प्राप्ति कर सकता है। मेडिटेशन बढ़ते तनाव को कम कर, हॉर्मोनल असंतुलन जैसी परेशानियों को दूर कर हमारे तन- मन को तरोताजा करता है।

इसे जरूर पढ़ें:महिलाओं ने वेट लॉस के लिए ये फिटनेस ट्रेंड सबसे ज्‍यादा अपनाएं

मेडिटेशन करने का सबसे बड़ा हेल्‍थ बेनिफिट्स यह है कि इसे करने से दिल पर पड़ने वाला प्रेशर कम होता है, जिससे हमारे शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार होता है। अगर हमारे दिमाग को कुछ जरूरी पोषक तत्व नहीं मिलते हैं तो वह कमजोर होने लगता है, जिसकी वजह से हमारी याददाश्त भी कमजोर हो जाती है। इस समस्या से बचने के लिए मेडिटेशन करना इसका रामबाण इलाज है। इसके अलावा मेडिटेशन आपके शरीर के सेल्‍स और इंद्रियों को नियंत्रित करके मांसपेशियों को आराम देता है और नए स्किन सेल्‍स का निर्माण करके हमारे शरीर को क्रियाशील बनाता है।

इन हेल्‍थ ट्रेंड्स को अपनाकर आप भी खुद को फिट रख सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।

Image Credit: Freepik.com