रोजमर्रा की जिंदगी में महिलाएं इतनी ज्यादा स्ट्रेस्ड रहती हैं कि अक्सर इसकी वजह से उन्हें कई हेल्थ इशुज हो जाते हैं। लेकिन अच्छी बात ये है कि स्ट्रेस के कारण होने वाली परेशानियों को आप इन लक्षणों से पहचान सकती हैं। 

स्किन प्रॉब्लम्स

स्ट्रेस से सोरायसिस, मुंहासे और दूसरी स्किन डिजीज हो जाती हैं। वैज्ञानिकों की तरफ से हुई रिसर्च में पाया गया कि साइकोलॉजिकल स्ट्रेस और स्किन प्रॉबलम्स में सीधा संबंध है। चूहों पर होने वाले प्रयोग में ऐसे ही नतीजे पाए गए थे। 

वजन में बदलाव

stress creates health problems weight gain inside

कई बार डाइट या बढ़ते वजन की वजह से भी स्किन प्रॉब्लम्स हो जाती हैं। कई स्ट्रेस ऐसे होते हैं, जो इंसान को बहुत गहरे प्रभावित करते हैं। इनकी वजह से वजन तेजी से बढ़ता है और इनके कारण कार्टिसोल हार्मोन का प्रोडक्शन बढ़ने लगता है। इन हार्मोन के बढ़ने से भूख बढ़ जाती है और टेस्टोस्टेरॉन भी बढ़ते हैं, जिससे कैलोरी कम खर्च हो पाती है। 

सर्दी-जुकाम होना

cold and cough due to stress inside

स्ट्रेस के कारण इम्यून सिस्टम सेंसिटिव हो जाता है और इससे इन्फ्लेमेशन की समस्या बढ़ जाती है। और इसी का नतीजा होता है कि लोगों को आसानी से सर्दी-जुकाम जैसे इन्फेक्शन हो जाते हैं।

इसे जरूर पढ़ें: महिलाओं को तुरंत एनर्जी देती है लीची, गर्मियों में इसे जरूर खाएं

पेट की गड़बड़ी

वैज्ञानिकों ने अपनी कई रिसर्च में यह बात साबित की है कि स्ट्रेस के कारण पेट में भी परेशानी होने लगती है। कई बार पेट दर्द की दवाइयों से भी आराम नहीं मिल पाता। ऐसी स्थिति में साइकोलॉजिस्ट से सलाह लेना ठीक रहता है। 

फोकस करने में होती है परेशानी

स्ट्रेस के कारण कौन से काम करने हैं, कब करने हैं और किन चीजों का ध्यान रखना है, इस बारे में महिलाएं ठीक तरह से नहीं सोच पातीं। इसी वजह से आसानी से हो जाने वाले काम भी पूरे नहीं हो पाते।

झड़ते बाल

स्ट्रेस का असर बालों की सेहत पर भी नजर आता है। अगर महिलाओं को बहुत ज्यादा स्ट्रेस हो तो उनके बाल भी तेजी से झड़ने शुरू हो जाते हैं। अगर आपके विटामिन सप्लीमेंट लेने के बावजूद बाल झड़ने की रफ्तार ना थमे तो समझ लीजिए कि यह स्ट्रेस के कारण हो रहा है। इसीलिए अगर आप हेल्दी बाल चाहती हैं तो टेंशन को दूर भगा दीजिए। 

सिरदर्द

headache due to stress inside

वैसे तो सिरदर्द गलत तरीके से सो जाने, हाई ब्लड प्रेशर, साइनस, प्रेग्नेंसी आदि में होता है, लेकिन इमोशनल स्ट्रेस की वजह से भी सिरदर्द होने लगता है। ऐसे में सिरदर्द की दवाइयों के बजाय स्ट्रेस्ड माहौल से खुद को दूर करें, इसी से आपको सिरदर्द से पूरी तरह से राहत मिल पाएगी।