हालांकि इन्फ्लुएंजा को एक मामूली स्वास्थ्य समस्या माना जाता है, लेकिन नजरअंदाज किए जाने पर इसके नकारात्मक नतीजे हो सकते हैं। इसमें निमोनिया होने की संभावना बहुत अधिक रहती है, विशेष रूप से प्रेग्‍नेंसी और डिलीवरी के बाद के समय के दौरान। डॉक्टरों का मानना है कि एक जैसी प्रजनन आयु से संबंधित महिलाएं जो प्रेग्‍नेंट नहीं हैं, उनकी तुलना में प्रेग्‍नेंट महिलाओं के फ्लू के चपेट में आने की संभावना अधिक होती है। ऐसी प्रेग्‍नेंट महिलाओं को तत्काल हॉस्पिटल में भर्ती करने की आवश्यकता के मामले सामने आते हैं, लेकिन शायद ही कभी यह घातक होता है। इस प्रकार, स्‍मूथ प्रेग्‍नेंसी और डिलीवरी के लिए इन्फ्लूएंजा का इंजेक्‍शन लगाया जाना बेहद जरूरी है।

प्रेग्‍नेंसी के दौरान, इम्‍यून सिस्‍टम कमजोर हो जाता है। इसके कमजोर होने पर शरीर इंफेक्‍शन और अन्य हेल्‍थ प्रॉब्‍लम्‍स के प्रति अधिक सेंसिटिव हो जाता है। जिन प्रेग्‍नेंट महिलाओं को वैक्‍सीन नहीं लगा होता है, उन्‍हें इन्फ्लूएंजा का वैक्‍सीन लगी महिलाओं की तुलना में, ज्‍यादा देखभाल की जरूरत होती है। 

influenza vaccination INSIDE

वैकल्पिक रूप से, प्रेग्‍नेंसी के दौरान, इम्‍यून सिस्‍टम उन विशिष्ट स्थितियों के प्रति ज्‍यादा सकारात्मक प्रतिक्रिया देता है जिनमें से एक इन्फ्लूएंजा वैक्‍सीन है। प्रेग्‍नेंट महिला की हेल्‍थ की रक्षा करने के अलावा, इन्फ्लूएंजा शॉट उसके अजन्मे बच्चे को भी कई तरह के फायदे पहुंचाता है। जन्म के बाद बच्चे को इन्फ्लूएंजा शॉट नहीं दिया जाता है जब तक कि वह कम से कम 6 महीने का नहीं हो जाता है। जब एक प्रेग्‍नेंट मां वैक्‍सीन लगवाती है, तो उसका शरीर इन्फ्लूएंजा के खिलाफ एंटीबॉडी का उत्पादन करता है, जो भ्रूण को निष्क्रिय रूप से मिलता हैं, जिससे जीवन के पहले कुछ महीनों में बच्चे को किसी भी इंफेक्‍शन का खतरा कम होता है।

Recommended Video

influenza vaccination INSIDE

डॉक्टर आमतौर पर फर्स्ट ट्राइमेस्टर खत्म होने के बाद इंजेक्‍शन लगवाने की सलाह देते हैं। लेकिन हाई जोखिम वाले मामलों और महामारी की स्थिति में, यह फर्स्ट ट्राइमेस्टर में भी दिया जा सकता है। प्रेग्‍नेंसी के दौरान लाइव इन्फ्लूएंजा का वैक्‍सीन लगाया जाता है। प्रेग्‍नेंसी महिलाओं को इनएक्टिव ड्रीवेलेंट या क्वाड्रीवेलेंट वैक्सीन लेने की सलाह दी जाती है। फ्लू से बचाव के साथ-साथ, प्रेग्‍नेंसी के दौरान इन्फ्लूएंजा वैक्‍सीन पर भी भरोसा किया जाता है, ताकि मां को फ्लू से होने वाले श्वसन संक्रमण से बचाया जा सके। यहां तक कि ब्रेस्‍टफीडिंग कराने वाली मांओं को किसी भी नेगेटिव नतीजों के बारे में चिंता किए बिना सुरक्षित रूप से वैक्‍सीन लगाया जा सकता है। शॉट्स या वैक्‍सीनेशन के बारे में कोई भी निर्णय लेने से पहले किसी प्रशिक्षित चिकित्सक के साथ परामर्श लेना जरूरी होता है।

प्रेग्‍नेंट महिलाओं के लिए इन्फ्लूएंजा वैक्सीन मातृ स्वास्थ्य कार्यक्रम का एक अनिवार्य हिस्सा है, जो डिलीवरी देखभाल और पैदा होने वाले बच्चे की प्रारंभिक इम्‍यून सिस्‍टम के निर्माण के लिए महत्वपूर्ण है।

एक्‍सपर्ट सलाह के लिए डॉक्‍टर वनिता राउत (एमडी, डीजीओ, एल एच हीरानंदानी अस्पताल, पवई में सलाहकार) का विशेष धन्यवाद।

Image Credit: Shutterstock


References: 

https://www.health.harvard.edu/blog/flu-shots-during-pregnancy-2017092712458

https://www.cdc.gov/vaccines/pregnancy/hcp-toolkit/flu-vaccine-pregnancy.html

 

https://www.acog.org/clinical/clinical-guidance/committee-opinion/articles/2018/04/influenza-vaccination-during-pregnancy