होली! इस त्यौहार के बारे में जितना भी लिखा जाए शायद वो कम ही होगा। एक-दूसरे को बधाई देना और रंग लगाना सब पसंद करते है। होली की तैयारी हर घर में लगभग एक से दो सप्ताह पहले ही होने लगती है। कोई रंग बनाने में लगा रहता है, कोई होली के लिए क्या-क्या शॉपिंग करनी है उसमें लगा हुआ रहता है, तो कोई होली के दिन खाने में क्या-क्या बनाना है उसमें लगा हुआ रहता है। 

लेकिन, इन सब तैयारियों के बीच हर कोई एक चीज ज़रूर भूल जाता है। इन चीज का नाम है 'रंगों से होने वाली सांस की परेशानी'। अमूमन किसी-किसी को रंग या गुलाल लगने या लगाने से सांस लेने में परेशानी होने लगती है या फिर एलर्जी भी होने लगती है। ऐसे में सवाल उठता है कि इस परेशानी को कैसे दूर किया जा सकता है क्यूंकि, होली भी खेलना है इस परेशानी से बचना भी है। आज आपके साथ कुछ टिप्स शेयर करने जा रहे हैं, जिन्हें अपनाकर आप जी भर के होली भी खेल सकती हैं और सांसों की परेशानी को दूर भी कर सकती हैं। 

दिन की शुरुआत काढ़ा से 

how to manage breathing during holi inside

होली वाले दिन की शुरुआत आप एक कप गरमा-गरम काढ़ा से करें। शायद आपको मालूम होगा अगर नहीं मालूम है, तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि काढ़ा फेफड़ों में प्रदुषण या रंग जाने से पहले से ही रोक देता है। इससे सांस लेने में कोई परेशानी नहीं होती और इसके सेवन से किसी अन्य एलर्जी से भी दूर रहेंगी। काढ़ा की जगह आप अदरक वाली चाय का भी सेवन कर सकती हैं। 

इसे भी पढ़ें: Expert Tips: सिर्फ 1 चम्‍मच सौंफ में छिपा है वेट लॉस का राज, ये 5 समस्‍याएं भी होती हैं दूर

पुदीना और विटामिन सी फूड्स 

how to manage breathing during holi inside

काढ़ा या अदरक वाली चाय पीने के बाद आप ब्रेकफास्ट की शुरुआत कुछ ऐसे भोजन से करें जो आपके लिए हेल्दी भी हो और रंग की वजह से सांस लेने में कोई परेशानी न भी होने दें। इसके लिए आप ब्रेकफास्ट में पुदीने की पत्तियों का उपयोग ज़रूर करें। यह केमिकल वाले रंग के प्रभाव से आपको बहुत दूर रखता है। इसके साथ-साथ विटामिन-सी फूड्स का इस्तेमाल करने से फेफड़ा हेल्दी रहता है और आपकों सांस और एलर्जी से दूर रखते हैं। इसके लिए संतरा, नींबू आदि को भी भोजन के रूप में सेवन कर सकती हैं।

लौंग का करें इस्तेमाल 

how to manage breathing during holi inside

किचन में मौजूद लौंग एक ऐसी चीज है जो आपको कई बीमारियों से दूर रखने में हेल्प करता है। होली के इस रंगीन मौसम को आप सांसों की परेशानी से दूर रखना चाहती हैं, तो रंग खेलने जाने से पहले एक से दो लौंग को खाकर या फिर जीभ के नीचे रखकर ज़रूर होली खेले। कहा जाता है कि लौंग खाने से रंगों से फ़ैलाने वाले इंफेक्शन या संक्रमण से आपको दूर रखता है। यह पानी की वजह से बंद नाक को खोलने में भी हेल्प करता है।

Recommended Video

इसे भी पढ़ें: नोनी और इसका जूस सेहत के लिए है बेहद फायदेमंद, करें डाइट में शामिल

रंग खेलने के बाद 

how to manage breathing during holi inside

यह ज़रूरी नहीं की रंग खेलने से पहले ही सावधानी रखने से कोई परेशानी नहीं होगी। रंग खेलने के बाद भी परेशानी हो सकती है, इसलिए रंग खेलने के बाद भी अदरक या काढ़ा का सेवन ज़रूर करें। शाम को खाना खाने के बाद किसी एक फल का सेवन ज़रूर करें। वैसे कहा जाता है कि सेब खाने से लंग्स यानी फेफड़े की परेशानी को आसानी से दूर किया जा सकता है। शायद इसलिए भी डॉक्टर नियमित रूप से सेब खाने की सलाह देते हैं।

यक़ीनन इन टिप को अपनाने के बाद होली का रंग फीका नहीं पड़ेगा। इन टिप्स की मदद से आप आसानी से रंगों से होने वाली परेशानी को दूर कर सकती हैं। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@cen.acs.org,static.toiimg.com)