आजकल की भागदौड़ और स्‍ट्रेस से भरी लाइफ में आजकल हमें कई समस्‍याओं से दो चार होना पड़ता हैं, इनमें से एक हाई ब्‍लड प्रेशर भी है। हाई ब्‍लड प्रेशर आधुनिक लाइफस्‍टाइल की सबसे बड़ी देन है। जिसे हम 'साइलेंट किलर' के नाम से भी जानते हैं। खान-पान की गलत आदतें, स्‍ट्रेस और ठीक से नींद ना लेने के अलावा बॉडी में सोडियम इस समस्‍या का मुख्‍य कारण है। इसके आम लक्षणों में सिरदर्द, चक्कर आना और दिल की धड़कन बढ़ना आदि शामिल हैं। यह समस्‍या तब होती है जब हार्ट की आर्टरीज में प्रेशर बढ़ जाता है तब ब्‍लड को ऑर्गन तक सप्लाई करने के लिए ज्यादा प्रेशर लगाना होता है।

हाई ब्‍लड प्रेशर एक गंभीर समस्‍या है और इससे ग्रस्‍त महिलाओं को इसे कंट्रोल करने के उपायों के बारे में सोचना चाहिए। क्‍योंकि अगर समय पर इसे कंट्रोल ना किया जाए तो यह बॉडी के अन्‍य अंगों जैसे हार्ट और किडन को नुकसान पहुंचा सकती है। जी हां हाई ब्‍लड प्रेशर होने पर हार्ट अटैक, किडनी में खराबी आदि जैसी प्रॉब्‍लम्‍स होने की संभावना काफी बढ़ जाती है। अगर आप भी हाई ब्‍लड प्रेशर से ग्रस्‍त हैं तो बहुत ज्‍यादा तनाव लेने से बचें और भरपूर नींद लें। क्‍योंकि काम का प्रेशर और ठीक से नींद न लेना हाई ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या को बढ़ा सकता है। 

इसे जरूर पढ़ें: महिलाओं का बीपी कंट्रोल करेगी ये 3 एक्‍सरसाइज, रोजाना घर में करें

high blood pressure health sleep inside

भरपूर नींद है जरूरी

अगर आपको लगता हैं कि ऑफिस में काम का प्रेशर आप सहन नहीं कर सकती हैं , तो थोड़ा सुस्ता लीजिए। हां, एक और बात आपकी चिंता बढ़ा सकती है, और वह ठीक से नींद न लेना है। क्‍योंकि एक नई रिसर्च से पता चला है कि काम का बोझ, बोझ से तनाव और ठीक से नींद नहीं लेना हाई ब्‍लड प्रेशर से ग्रस्त लोगों में दिल की बीमारी से मौत के खतरे को 3 गुना अधिक बढ़ा देता है।

क्‍या कहती है रिसर्च

जर्मनी के तकनीकी यूनि‍वसिर्टी में म्यूनिख के प्रोफेसर व अध्ययन लेखक कार्ल-हेंज लाडविग का कहना है कि, "नींद से एनर्जी के लेवल को बनाए रखने, आराम दिलाने और तनाव मुक्‍त होने में हेल्‍प मिलती है। अगर आपको काम का तनाव है तो नींद लेने से आप को ठीक होने में हेल्‍प मिलती है।"

high blood pressure health sleep inside

लाडविग ने कहा, "दुर्भाग्य से सही से नींद न ले पाना और काम का तनाव साथ-साथ होता है, और जब यह हाई ब्‍लड प्रेशर के साथ मिलता है तो परिणाम और भी घातक होते हैं।"

रिसर्च का नतीजा

रिसर्च में हार्ट डिजीज या डायबिटीज रहित 25 से 65 की आयु के 2,000 कर्मचारियों ने भाग लिया, जिन्हें हाई ब्‍लड प्रेशर की शिकायत थी। बिना काम के तनाव और अच्छी नींद वाले लोगों की तुलना में, दोनों जोखिम कारकों वाले लोगों में हार्ट डिजीज से मृत्यु की आशंका तीन गुना अधिक थी। 'यूरोपीय जर्नल ऑफ प्रिवेंटिव कार्डियोलॉजी' में प्रकाशित निष्कर्षों से यह पता चला।

इसे जरूर पढ़ें: बिना medicine के ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने के 7 स्‍मार्ट तरीके

रिसर्च में कहा गया है कि अकेले काम के तनाव वाले लोगों में 1.6 गुना अधिक जोखिम था, जबकि केवल खराब नींद वाले लोगों में 1.8 गुना अधिक जोखिम था। लाडविग ने कहा, "एक प्रेशर वाली स्थिति में फंस जाने पर आपके पास बदलने की कोई शक्ति नहीं होना हानिकारक है।"

इसलिए अगर आप हाई ब्‍लड प्रेशर से ग्रस्‍त हैं तो आज से ही काम के बोझ को कम करें और भरपूर नींद लें। 

Image Courtesy: Pxhere.com