ठंड के दिनों में हम सर्द हवाओं से बचने के लिए स्वेटर पहनते हैं, मगर कई बार ठंड के कारण हम कपड़े बदलने में आलास दिखाते हैं, जिस वजह से हम स्वेटर पहनकर ही सो जाते हैं। जाहिर है ठंड के मौसम में गर्म कपड़े उतारने से हम सभी करते हैं, ऐसे में मोटे-मोटे स्वेटर को सोते समय पहनने का असर आपकी सेहत पर भी पड़ता है। 

आज के आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि आखिर क्यों सोते समय आपको वूलन कपड़े नहीं पहनने चाहिए, जिसके लिए हमने हमारे एक्सपर्ट डॉक्टर जुगल किशोर जी से बात की है। उन्होंने हमें बताया कि 'स्वेटर या वूलन कपड़ों को बनाने के लिए ज्यादातर आर्टिफिशियल प्लास्टिक का इस्तेमाल किया जाता है, जिस वजह से वूलन कपड़ों को पहनकर सोने में स्किन में एलर्जी जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं'। आइए जानते हैं कि आखिर आपको वूलन कपड़ों का इस्तेमाल सोते समय क्यों नहीं करना चाहिए- 

स्वेटर पहनने से आपकी स्किन पर पड़ता है कैसा असर- 

expert tips on wearing sweater during sleeping

वूलन कपड़ा आम कपड़ों के मुकाबले काफी मोटा होता है, जिस वजह से कई बार मौसम बदलने से आपकी स्किन को खुजली और एलर्जी जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। हालांकि सर्दियों के मौसम में ड्राई स्किन होने के कारण खुजली होना बहुत कॉमन है मगर कई बार लापरवाही के चलते आपको गंभीर स्किन प्रॉब्लम हो सकती हैं।

रोजाना स्वेटर पहनने से हो सकते हैं स्किन रैशेज- 

skin issues while wearing sweater

अगर आप सोते समय स्वेटर पहनती हैं तो हो आपको स्किन रैशेज या दानों की समस्या हो सकती है। वहीं आपके गर्म कपड़े ऑक्सीजन को ब्लॉक कर देते हैं, इस वजह से कई बार भारी कपड़े पहनने के कारण उलझन महसूस होने लगती है, जिस वजह से आपको घबराहट और घुटन जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं। ऐसे में अगर आपको सांस से जुड़ी समस्याएं हैं तो आपको ऊनी कपड़े पहनकर सोने से बचना चाहिए।

इसे भी पढ़ें- एक्‍सपर्ट टिप्‍स: नेचुरोपैथी के द्वारा कफ की समस्या को इस तरह करें कम

ठंड बर्दाश्त करने की क्षमता हो जाती है कम- 

ज्यादा समय तक मोटे और ऊनी कपड़े पहनने से आपकी ठंड बर्दाश्त करने की क्षमता कम हो जाती है, ऐसे में अगर आप थोड़े कम गर्म कपड़ों के बिना बाहर निकलती हैं तो आपको बड़ी आसानी से ठंड लग जाएगी, कई बार ज्यादा ऊनी कपड़े पहनने से भी स्किन सेंसिटिव होने लगती है।

 इसे भी पढ़ें- सर्दियों में सांस लेने में होती है तकलीफ, तो अपनाएं ये स्‍पेशल थेरेपी

नींद पर पड़ता है असर- 

risk of wearing sweater during sleep

अच्छी नींद के लिए शरीर का तापमान संतुलित होना भी बेहद जरूरी है, ऐसे में आपकी स्किन ज्यादा मोटे कपड़े पहनने के कारण बंधा हुआ सा महसूस करती है। यही वजह है कि आपको सही से रात भर नींद नहीं आती है। इसलिए सोते समय अपने कपड़ो को याद से बदल लेना चाहिए।

हो सकती है बी-पी बढ़ने की समस्या- 

कई हेल्थ एक्सपर्ट्स ऐसा कहते हैं कि रात में वूलन कपड़े पहनकर सोने से आपका ब्लड प्रेशर लो भी हो सकता है। जिस वजह से राज को सोते समय अचानक से आपको ज्यादा पसीना भी निकल सकता है।

Recommended Video

सोते समय किस तरह के कपड़ों को पहनना होगा बेहतर- 

risk while wearing sweater while sleeping

  • सर्दियों में सोने के लिए थर्माकोट फाइबर का कपड़ा काफी बेहतर होता है। इस तरह के कपड़ों में गर्माहट बनी रहती है, वहीं वजन में यह फाइबर काफी हल्का होता है।
  • ठंड रोकने के लिए आप चाहें तो कई हल्के कपड़ो को मिलाकर उनकी लेयर बनाकर पहन सकती हैं, ताकि शरीर में गर्माहट भी बनी रहे और आपकी स्किन कंफर्टेबल भी महसूस कर सके।
  • आप चाहें तो कानों को ठंड से बचाने के लिए स्कॉफ या मफलर पहन सकती हैं। 

तो यह था हमारा आज का आर्टिकल जिसमें हमने आपको बताया कि आखिर क्यों सर्दियों में स्वेटर पहनना आपकी सेहत के लिए खराब हो सकता है। आपको हमारा यह आर्टिकल अगर पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें, साथ ही ऐसी जानकारियों के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी के साथ।

image credit- freepik and newstezonline.com