यूं तो यूरीन आना एक अच्‍छी बात है जिससे बॉडी के सारे टॉक्सिन बाहर निकल जाते हैं।
लेकिन बार-बार बाथरूम जाना किसी को भी पसंद नहीं होता है,
खासतौर पर अगर रात को उठ-उठकर यूरीन के लिए जाना पड़े फिर तो बहुत बुरा लगता है।
लेकिन फिर भी कई महिलाओं को बार-बार यूरीन के लिए जाना पड़ता है।
जबकि वे बहुत ज्‍यादा पानी नहीं पीती, फिर भी ना जाने ऐसा क्‍यों होता है? और अपनी इस आदत के चलते वे बहुत परेशान हो जाती हैं।
अगर आपको भी रात को बार-बार उठकर यूरीन के लिए बार-बार बाथरूम जाना पड़ता है। जिससे आपकी नींद खराब होती है और सुबह आपको थका-थका सा महसूस होता है। तो सावधान हो जाए और सबसे पहले बार-बार यूरीन आने के कारणों के बारे में जानें।

Read more: Urine leakage से क्या होती है आपकी skirt गीली? तो try कीजिये ये exercises

डायबिटीज
diabetes frequent urination inside

डायबिटीज को भी अधिक यूरीन आने का कारण माना जाता है। क्योंकि इस बीमारी में ब्‍लड व बॉडी में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है जो बॉडी में आसानी से डाइजेस्ट नहीं हो पाता और बॉडी उसको बाहर निकालने लगती है। जी हां ब्लड में शुगर लेवल बढ़ने की स्थिति को डायबिटीज कहते हैं। टाइप 1 और टाइप 2 दोनों तरह की डायबिटीज में बॉडी जरूरत से ज्‍यादा ग्लूकोज को यूरीन मार्ग से बाहर निकालने लगता है। इसी वजह से डायबिटीज के मरीजों को बार-बार यूरीन आता है।

यूरिन ब्लैडर का एक्टिव होना

हालांकि बार-बार यूरीन के लिए जाने पर आपके घरवाले आपका मजाक बना सकते हैं। लेकिन यह एक विकट समस्‍या है। क्योंकि बार-बार यूरीन आने का सबसे बड़ा कारण है, आपके यूरिन ब्लैडर का अधिक एक्टिव होना है। यूरिन ब्लैडर के अधिक एक्टिव होने से किसी को भी बार-बार यूरीन आता है।

यूटीआई
frequent urination health inside

यूटीआई जिसे हम यूरीन मार्ग के इंफेक्‍शन के नाम से भी जानते हैं। यह एक बैक्‍टीरिया से होने वाल इंफेक्‍शन है जो यूरीन मार्ग के एक हिस्‍से को संक्रमित करता है। जी हां जब आपको यूटीआई की समस्‍या होती है तब भी आपको बार-बार यूरीन आता है। ना केवल बार-बार यूरीन बल्कि आपको यूरीन करते समय जलन भी महसूस होती है।

किडनी में समस्‍या

किडनी में कोई समस्या होना या किडनी में इंफेक्‍शन होने पर भी बार-बार यूरीन आना बेहद आम बात है। इस बीमारी में यूरीन में जलन भी होती है, इसलिए अगर आपको यह परेशानी है, तो इसका चेकअप जरूर कराएं।

प्रेग्‍नेंसी
pregnancy frequent urination inside

प्रेग्‍नेंसी के दौरान यूटरस बड़ा होने लगता है जिसकी वजह से ब्लैडर पर दबाव बढ़ने लगता है। जिसके कारण महिलाओं को यूरिन रुक रुक कर आता है, और महिला के यूरिन आने वाले भाग का मार्ग आंशिक रूप से बंद हो जाता है, इसीलिए महिला को बार बार यूरिन आने लगता है।

बढ़ती उम्र

हाल ही में हुई एक रिसर्च में पता चला है कि रात में उठकर यूरीन जाने का कारण खाने में नमक की मात्रा है। जी हां न्यूजीलैंड हेरल्ड में छपी एक रिपोर्ट बताती है कि सोने से पहले पानी, चाय या कॉफी पीने का रात में यूरीन जाने से कोई लेना देना नहीं है। रात के वक्त बार-बार पेशाब जाने की स्थिति को मेडिकल साइंस की भाषा में नॉक्टरिया कहा जाता है। आमतौर पर यह 60 वर्ष से ऊपर की महिलाओं को होती है। इस कारण लोगों की दिनचर्या काफी प्रभावित होती है और कई महिलाएं तो इससे बीमार हो जाने की हद तक परेशान रहती हैं।

Read more: हर 5 में 1 महिला होती है UTI से परेशान, कहीं आप भी तो नहीं?

कॉफी का सेवन
coffee frequent urination inside

एक दिन 5 से 8 बार यूरीन सामान्य है। लेकिन अगर आपको बार-बार यूरीन के लिए जाना पड़ता हे तो आपको चाय, कॉफी, सॉफ्ट ड्रिंक और अल्‍कोहल आदि का सेवन कम करें, क्योंकि ये हल्के मूत्रवर्धक (डायरेटिक) होते हैं और आपको बार-बार यूरीन जाना पड़ सकता है।
नोट- इस कारण यूरीन बार-बार आने पर सबसे पहले इसका चेकअप जरूर कराएं।

  • Pooja Sinha
  • Her Zindagi Editorial