क्या आपकी उम्र 50 के आसपास है और आपको लगातार जीभ पर जलन का अहसास होता है। अगर ऐसा है, तो आपको मेनोपॉज में होने वाले Burning Mouth Syndrome के बारे में जरूर जानना चाहिए। अमेरिकन अकेडमी ऑफ ओरल मेडिसिन के अनुसार कुल जनसंख्या के दो फीसदी लोगों में Burning Mouth Syndrome की समस्या पाई जाती है। यह समस्या पुरुषों की तुलना में महिलाओं में ज्यादा पाई जाती है। एक आंकड़े के अनुसार इससे प्रभावित होने वालों पुरुष और महिलाओं का अनुपात 7:1का है। जीभ पर जलन के अहसास को Burning Mouth Syndrome कहा जाता है। मेनोपॉज के दौरान लार बनने में कमी आ जाती है,  जिसकी वजह से मुंह में मेटेलिक टेस्ट आता है, जिससे जलन जैसा अहसास होता है। कुछ महिलाओं को मेनोपॉज के दौरान दर्द का भी अहसास होता है। जीभ पर होने  वाली जलन कम या ज्यादा हो सकती है। कुछ महिलाएं ऐसा अनुभव करती हैं जैसा कि बहुत ज्यादा गर्म खाना खाने पर होता है। वहीं कुछ और मामलों में जीभ पर सुन्नपन या सनसनाहट जैसा अहसास होता है। महिलाओं को यह समस्या 50वें से लेकर 70वें साल में प्रभावित करती है। 

Primary Burning Mouth Syndrome

इस समस्या को  essential/idiopathic burning mouth syndrome का भी नाम दिया जाता है, क्योंकि इसमें कारण का पता नहीं चल पाता। मुंह में जलन की कई वजहें हो सकती हैं। इसीलिए इसकी पहचान करना मुश्किल होता है। सटीक डायग्नोसिस के लिए टेस्ट कराने की जरूरत पड़ती है, ताकि किसी भी तरह के असामान्य लक्षण को पहचाना जा सके। ये टेस्ट इस प्रकार होते हैं-

  • ब्लड टेस्ट-सीबीसी, ब्लड ग्लूकोस, थायरॉइड
  • ओरल स्वैब
  • एलर्जी टेस्ट
  • Saliva flow test

अगर जीभ पर जलन होने की कोई भी ऑर्गेनिक या दूसरी वजह सामने ना आए, तो Primary Burning Mouth Syndrome के तौर पर इसकी पुष्टि की जाती है। जिन महिलाओं को मेनोपॉज हो चुका होता है, उनमें भी यह लक्षण देखने को मिल सकता है। ऐसा 18-33 फीसदी महिलाओं में देखने को मिल सकता है। 

मेनोपॉज के बाद एस्ट्रोजन के स्तर में गिरावट आ जाती है, जिसकी वजह से यह समस्या हो सकती है। इसे लार बनने की प्रक्रिया में कमी आ जाती है, मुंह में मेटेलिक टेस्ट आता है और जलन का अहसास होता है। इसके अलावा कुछ महिलाओं को जीभ पर सनसनाहट या दर्द का अहसास भी हो सकता है। 

इस समस्या में जीभ के आगे के हिस्से में, होंठों पर, दोनों किनारों पर और बीच के हिस्से में जलन महसूस हो सकती है। मुमकिन है कि सुबह में यह जलन कम हो, लेकिन शाम तक इसका प्रभाव ज्यादा महसूस होने लगे। यह भी मुमकिन है कि गर्म खाना खाने, बोलने या स्ट्रेस में रहने की वजह से यह समस्या और भी ज्यादा बढ़ जाए। जो महिलाएं मेनोपॉज के दौर से गुजर रही हैं, उन्हें हार्मोन रीप्लेसमेंट थेरेपी लेने से राहत महसूस हो सकती है। 

इन कारणों से भी होती है जीभ पर जलन

burning sensation mouth

  • हार्मोन में बदलाव
  • एलर्जी
  • मुंह सूखना
  • ड्रग्स
  • न्यूट्रिशन की कमी, आयरन, जिंक या विटामिन बी की कमी
  • मुंह में इन्फेक्शन
  • एसिडिटी
  • Lichen planus की समस्या

इनके कारणों के आधार पर इन समस्याओं का इलाज किया जाता है। मुंह सूखने पर ऐसी दवाएं ली जा सकती हैं, जिनसे लार बढ़ाई जा सके। साथ ही विटामिन सप्लीमेंट भी लिए जा सकते हैं। पेट का एसिड संतुलित करने के लिए भी दवाएं ली जा सकती हैं। मुंह के इन्फेक्शन जैसे कि कैंडिएसिस आदि का इलाज कराने से राहत महसूस होती है।  

Recommended Video

इस तरह करें बचाव

  • बर्फ के टुकड़े चूसें
  • ठंडी ड्रिंक्स लें
  • गर्म और मसालेदार खाना खाने से बचें
  • ऐसे फूड आइटम्स के सेवन से बचें, जिनसे एसिडिटी होने की आशंका रहती है जैसे कि खट्टे फल, सॉफ्ट ड्रिंक्स और कॉफी
  • शराब और तंबाकू के सेवन से बचें
  • अल्कोहल वाली दवाओं का सेवन ना करें 

संभावित इलाज

  • ऐसे पदार्थ, जिनसे लार बढ़ाने में मदद मिल सके, इससे मुंह सूखने की समस्या से राहत मिलती है।
  • आयरन, जिंक और विटामिन बी वाले विटामिन सप्लीमेंट्स
  • दर्द में राहत के लिए capsaicin जैसी दवाएं
  • तनाव और डिप्रेशन में राहत पाने के लिए दवाएं
  • टूथपेस्ट में बदलाव या मुंह साफ रखने के लिए बेकिंग सोडा का इस्तेमाल
  • योग और रिलैक्स करने की तकनीकें 

अगर आपको लगता है कि किसी विशेष दवा के कारण मुंह में जलन हो रही है, तो आप उनसे वैकल्पिक दवा लिखने के लिए कह सकती हैं। 

हालांकि इससे प्रभावित होने वाले मरीजों को यह बताया जाता है कि यह बहुत गंभीर बीमारी नहीं है, इससे कैंसर की आशंका भी नहीं होती। इस विषय पर अभी बहुत ज्यादा शोध नहीं हुए हैं और अभी इस पर डॉक्यूमेंटेशन हो रहे हैं। 

अगर आपको यह खबर अच्छी लगी तो इसे जरूर शेयर करें। हेल्थ से जुड़ी अन्य अपडेट्स पाने के लिए विजिट करती रहें हरजिंदगी।