भारत में तपेदिक (टीबी) सबसे घातक बीमारियों में से एक है। टीबी जो एक एयरबोर्न बैक्टीरिया के कारण होती है, अभी भी कई लोगों को इसके बारे में जानकारी नहीं है। कुछ लोगों को लगता है कि टीबी केवल कम सामाजिक-आर्थिक पृष्ठभूमि वाले लोगों को हो सकती है, जबकि अन्य लोगों का मानना हैं कि टीबी का कोई इलाज नहीं है। लेकिन हां, अगर समय पर इसका इलाज न किया जाए तो टीबी जानलेवा हो सकती है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि इसका कोई इलाज नहीं है।

बड़ी संख्या में भारतीयों को प्रभावित करने के बावजूद, टीबी अत्यधिक बदनाम है। भारत में टीबी के बारे में कई मिथक मौजूद हैं। इस आर्टिकल में ऐसे ही कुछ मिथकों की लिस्‍ट है जो हमें इस बीमारी के बारे में विश्वास कराता हैं। इस बीमारी के बारे में अधिक समझने के लिए इस आर्टिकल को पढ़ें, क्योंकि सार्वजनिक जागरूकता की कमी भी टीबी के प्रमुख कारणों में से एक है। इन मिथकों के कारण, कई लोग टीबी के बारे में अभी भी पूरी तरह से नहीं जानते हैं और तो और ग्रामीण क्षेत्र के लोग टीबी से अपनी जान भी गंवा देते हैं।

इसे जरूर पढ़ें: टीबी के खतरों से ladies ऐसे रहें सावधान

लाइलाज है टीबी

tuberculosis prevention inside

सही दवाओं, एहतियात और पर्याप्‍त मात्रा में आराम से टीबी को ठीक किया जा सकता है। जी हां 1950 के दशक से टीबी की दवा उपलब्ध है। अगर ट्रीटमेंट सही और पूरा लिया जाए, तो मरीज आसानी से सामान्य जीवन जी सकता हैं।

गरीबों को होती है टीबी

ज्‍यादार लोगों के मन में टीबी को लेकर मिथ है कि टीबी सिर्फ गरीब लोगों को ही होती है। लेकिन टीबी, अन्य रोगों की तरह किसी को भी हो सकती हैं। गरीबी वास्तव में टीबी के लिए महत्वपूर्ण जोखिम कारकों में से एक है, लेकिन यह किसी को भी हो सकती है। टीबी बैक्टीरिया का संचरण हवा के माध्यम से होता है; इसलिए, कोई भी इस बीमारी से नहीं बचता है।

टीबी के मरीज होते हैं संक्रामक

types of tuberculosisinside

सबसे पहले आपको इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि टीबी के सभी रूप संक्रामक नहीं होते हैं। हड्डियों, रीढ़, ब्रेन, ब्‍लैडर और प्रजनन प्रणाली सहित फेफड़ों के अलावा शरीर के कई हिस्सों में टीबी हो सकती है। जो मरीज फेफड़ों की टीबी से पीड़ित हैं, वे संक्रामक होते हैं। लेकिन दो महीने के उपचार के बाद, वे भी गैर-संक्रामक हो जाते हैं।

वंशानुगत है टीबी

टीबी का आनुवांशिकी या परिवार के साथ कोई लेना-देना नहीं है। टीबी एयरबोर्न बैक्टीरिया के कारण होता है जो फेफड़ों पर हमला करता है और किसी को भी प्रभावित कर सकता है। तो भले ही आपके मम्मी या डैडी को पहले से टीबी हो, लेकिन इसकी वजह से आपको टीबी होने की संभावना 0 प्रतिशत होती है।

इसे जरूर पढ़ें: टीबी जैसी बीमारी आपसे छीन सकती है संतान पैदा करने का सुख

सिर्फ ब्‍लड टेस्‍ट से मिलती है जानकारी

types of tuberculosis inside  

ज्‍यादातर लोगों के मन में यह भी है कि टीबी का निदान सिर्फ ब्‍लड टेस्‍ट से लगाया जा सकता है। लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि टीबी के निदान के लिए ब्‍लड टेस्‍ट विश्वसनीय तरीका नहीं है। इसका कारण यह है कि जब टीबी का पता चलता है तो ब्‍लड टेस्‍ट गलत होते हैं। अगली बार जब आप एक टीबी निदान के साथ डॉक्टर से मिलें, तो सुनिश्चित करें कि आप ब्‍लड टेस्‍ट के लिए विवश नहीं हैं।

सेक्स करने से फैलता है टीबी

tb health fitness inside

यह सबसे विचित्र मिथ है जो ज्‍यादातर लोग मानते है। सेक्स का टीबी से कोई लेना-देना नहीं है। टीबी एक एयरबोर्न डिजीज है, जिसका सेक्‍स से कुछ लेना-देना नहीं हैं। एक टीबी रोगी जो रेगुलर ट्रीटमेंट करता है, वह बीमारी नहीं फैलता है, खासकर सेक्स के माध्यम से!

अगली बार, जब किसी को पता नहीं हो कि टीबी क्या है, तो आप उन्हें शिक्षित करें, क्योंकि टीबी के बारे में जागरूकता की जरूरत है।