भागदौड़ और स्‍ट्रेस से भरी जिंदगी में हमें कई तरह की समस्‍याओं का सामना करना पड़ता हैं, इनमें से हाई ब्‍लड प्रेशर भी एक है। इसे हाइपरटेंशन के नाम से भी जाना जाता है। हाई ब्‍लड प्रेशर आधुनिक लाइफस्‍टाइल की सबसे बड़ी देन है। जिसे हम 'साइलेंट किलर' के नाम से भी जानते हैं क्‍योंकि इसके बारे में आसानी से पता नहीं लगाया जा सकता है। हालांकि कुछ मामलों में सिरदर्द, चक्कर आना और दिल की धड़कन बढ़ना आदि जैसे लक्षण दिखाई देने लगते हैं। खान-पान की गलत आदतों, स्‍ट्रेस और ठीक से नींद ना लेने के अलावा बॉडी में सोडियम की मात्रा बढ़ने से यह समस्‍या होती है। हाई ब्‍लड प्रेशर एक गंभीर समस्‍या है क्‍योंकि इसे अगर समय पर कंट्रोल ना किया जाए तो यह आपकी बॉडी के अन्‍य अंगों को नुकसान पहुंच सकता हैं। हाई ब्‍लड प्रेशर होने पर हार्ट अटैक, किडनी में खराबी आदि जैसी समस्‍याएं होने की संभावना काफी बढ़ जाती है। इस समस्‍या को लेकर ज्‍यादातर लोगों के मन में कुछ सवाल होते हैं और आजकल जबकि लॉकडाउन के कारण लोग अपने घरों में मौजूद हैं तो इस समस्‍या को लेकर लोगों के मन में कई सवाल हैं। अगर आप भी ऐसे ही लोगों में एक और आपके मन में कुछ सवाल हैं तो आपके कुछ सवालों और उनके जवाब एशियन हार्ट इंस्टीट्यूट, मुंबई के वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञ, डॉक्‍टर संतोष कुमार डोरा दे रहे हैं।

इसे जरूर पढ़ें: आपका high blood pressure अब नही करेगा परेशान 

high blood pressure graphic

सवाल- 1. मुझे कैसे पता चलेगा कि मुझे हाई बीपी है?

जवाब- 2016 में न्यूयॉर्क में एक अध्ययन से पता चला है कि हाइपरटेंशन वाले 95 प्रतिशत व्यक्ति पूरी तरह से एसिम्प्टमैटिक थे। हाई बीपी का 140 या उससे अधिकसिस्टोलिक बीपी और 90 या उससे अधिक डायस्टोलिक को बीपी के रूप में परिभाषित किया जाता है। इसका मतलब है कि आप कभी नहीं जान सकते हैं कि आपको हाई बीपी है। भारत में किए गए अध्ययन और 2019 में प्रकाशित और समाज में हाई बीपी की व्यापकता बताती है कि 20 से कम आयु के 22 प्रतिशत लोग हाई बीपी से पीड़ित हैं, 20 से 44 वर्ष के 44 प्रतिशत लोग हाइपरटेंशन से पीड़ित हैं और 45 या अधिक आयु वर्ग के 50 प्रतिशत लोग हाइपरटेंशन से ग्रस्त हैं। पुरुषों में हाई ब्‍लड प्रेशर, महिलाओं की तुलना में थोड़ा अधिक है। इसलिए अगर आप 50 वर्ष की आयु के हैं, तो 50 प्रतिशत संभावना है कि आप हाइपरटेंशन से ग्रस्त हो सकते हैं और 95 प्रतिशत संभावना है कि आपको कोई लक्षण न हो। 5 प्रतिशत हाई ब्‍लड प्रेशर से ग्रस्त रोगी जो रोगसूचक होते हैं, उनमें सिरदर्द, भ्रम, घबराहट, दृष्टि समस्या आदि हो सकते हैं।

इस प्रकार यह जानने का एकमात्र तरीका है कि आप हाई बीपी से पीड़ित हैं या नहीं। वह समय-समय पर इसकी जांच करना है। एक रेगुलर वार्षिक स्वास्थ्य जांच आपको बताएगी कि आपका बीपी क्या है। डिजिटल बीपी मशीन खरीदना और घर पर ही बीपी की जांच करना एक अच्छा अभ्यास है, भले ही आप हाई ब्‍लड प्रेशर से ग्रस्त न हों। अगर आप हाई ब्‍लड प्रेशर से ग्रस्त हैं और दवाओं या अन्य तरीकों से इसे सामान्य करने के उपाय कर रहे हैं तो इसे खरीदना और घर पर बीपी की जांच करना आवश्यक हो जाता है। होम बीपी माप, व्हाइटेकोएट प्रभाव के कारण डॉक्टर के माप की तुलना में बीपी का अधिक सटीक प्रतिबिंब है। हालांकि, यह सुनिश्चित करने के लिए कि यह ठीक से काम कर रहा है, डिजिटल BP मशीन को आंशिक रूप से कैलिब्रेट किया जाना चाहिए।

high blood pressure inside

सवाल- 2. अगर मुझे हाई बीपी है तो मुझे किस तरह की डाइट फॉलो करनी चाहिए?

जवाब- DASH (हाई ब्‍लड प्रेशर को रोकने के लिए आहार का दृष्टिकोण) हाई बीपी से लड़ने के लिए एक फेमस डाइट प्‍लान है। इसमें फल, सब्जियां, मध्यम मात्रा में साबुत अनाज, दालें, लीन मांस, मछली, लो फैट प्रोडक्‍ट, नट्स आदि शामिल हैं। साथ ही अपनी डाइट में नमक को सीमित (प्रति दिन 5 ग्राम से कम नमक सीमित) करना बहुत महत्वपूर्ण होता है। आपको फैट, तली हुई चीजों, अंडे की जर्दी, ऑर्गन (लीवर, किडनी) और नॉन वेज फूड के त्वचा के अंशों से बचने की जरूरत है, फल पोटैशियम से भरपूर होते हैं जो बीपी को कम करने में मदद करते हैं। नमक पानी को बरकरार रखता है और बीपी को बढ़ाने में मदद करता है, इस तरह इसका सेवन कम करने की आवश्यकता होती है।

Recommended Video

सवाल- 3. अगर लॉकडाउन के दौरान हाई बीपी है, तो इसे कैसे कंट्रोल करना चाहिए?

जवाब- अगर आपको हाई ब्‍लड प्रेशर हैं और दवाओं पर हैं, तो इसे रोकें नहीं। बीपी को कंट्रोल करने के लिए दवाएं लेते रहें। जब तक आप दवाएं जारी रखते हैं, बीपी कंट्रोल में रहता है। एक बार जब आप इसे बंद कर देते हैं, तो बीपी फिर से बढ़ सकता है। डिजिटल बीपी मशीन खरीदना और अपने बीपी को नियमित रूप से रिकॉर्ड करना सबसे अच्छा अभ्यास है। अगर आपको लगता है कि दवाएं लेने के बावजूद बीपी अधिक है, तो अपने डॉक्टर को फोन करक ऑनलाइन अपॉइंटमेंट लें और उनसे बात करें। अपने बीपी को कंट्रोल करने के लिए आपको फिजिकल एग्जामिनेशन की आवश्यकता नहीं है। बीपी को कंट्रोल करने के लिए आपको एक्‍सट्रा दवा या लाइफस्‍टाइल में बदलाव (यानि नमक पर प्रतिबंध और एरोबिक एक्‍सरसाइज) की आवश्यकता हो सकती है। अगर यह गंभीर है, तो आपका डॉक्टर आपको हॉस्पिटल या क्लिनिक आने की सलाह दे सकता है और उचित सलाह दे सकता है। अगर हाई ब्‍लड प्रेशर बहुत गंभीर है, तो कभी-कभी आपको हॉस्पिटल में भर्ती भी होना पड़ सकता है।

high blood pressure inside

सवाल- 4. हाई बीपी से कौन सी स्वास्थ्य समस्याएं जुड़ी हैं?

जवाब- बहुत गंभीर मामलों में रोगी को ब्रेन, आंख, हार्ट, किडनी, महाधमनी आदि अंगों को नुकसान हो सकता है। इसे हाइपरटेंशन आपातकाल के रूप में जाना जाता है। ऐसे में मरीज को बीपी को फिर से सामान्य करने के लिए भर्ती और इलाज की आवश्यकता होती है। लंबे समय तक हाई बीपी भी उपरोक्त अंग प्रणालियों को नुकसान पहुंचा सकता है। ब्रेन को नुकसान होने से पैरालिसिस, बेहोशी और मृत्यु हो सकती है। आंखों को नुकसान पहुंचाने से अंधापन आ सकता है। किडनी को नुकसान होने पर किडनी फेल्यिर हो सकता है। दिल को नुकसान दिल की विफलता, दिल का दौरा आदि होता है, इसलिए यह समझा जाना चाहिए कि अगर बीपी को कंट्रोल में नहीं रखा जाता है, तो इससे गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं, और कई बार मृत्यु हो सकती है।

इसे जरूर पढ़ें: हाई ब्लड प्रेशर को फ्लैक्‍ससीड हेल्‍प से कंट्रोल कर सकती हैं आप, जानें लेने का तरीका

सवाल- 5. क्या हाइपरटेंशन बिना इलाज के चलेगा?

जवाब- हाई ब्‍लड प्रेशर अनिवार्य रूप से डायबिटीज जैसी एक पुरानी समस्या है। प्रारंभिक अवस्था में, कम नमक और लूज़ फैट डाइट, नियमित एरोबिक एक्‍सरसाइज, स्‍मोकिंग बंद करके, शरीर के वजन, योग और ध्यान आदि जैसे जीवन शैली संशोधनों से बीपी कंट्रोल में किया जा सकता है। एक बार जब यह अधिक बढ़ जाता है, तो आपको दवाएं लेनी होंगी। आदर्श रूप से बीपी दवाओं को बंद नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि दवाओं के बंद होने से हाई ब्‍लड प्रेशर हो सकता है जो पहले की तुलना में अधिक गंभीर और भयावह हो सकता है। बीपी की नियमित जांच कराते रहें। लेकिन अगर बीपी का लेवल सामान्‍य से बाहर हो जाता है तो अपने डॉक्‍टर से परामर्श करें। आपका डॉक्टर आपको बीपी को लेवल पर लाने के लिए उस तरह से दवाएं देगा।

अगर आपके मन में भी हाई ब्‍लड प्रेशर से जुड़े ऐसे ही कुछ सवाल हैं? तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़े रहें।  

Image Credit: Freepik.com