Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    अल्जाइमर के रिस्क को कम करते हैं ये योगासन

    अल्जाइमर के रिस्क को कम करने के लिए आप इन योगासनों का सहारा ले सकती हैं।
    author-profile
    • Mitali Jain
    • Editorial
    Updated at - 2023-01-21,10:00 IST
    Next
    Article
    easy yoga poses to reduce alzheimer risk in hindi

    अल्जाइमर एक ऐसा रोग है, जो व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। जब व्यक्ति इसकी जद में आ जाता है तो इससे ना केवल याद रखने की क्षमता प्रभावित होती है, बल्कि इससे निर्णय लेना भी काफी कठिन हो जाता है। साथ ही साथ, इससे व्यक्ति को अपने दैनिक कार्यों को भी सही तरह से करने में परेशानी होती है।

    ऐसा माना जाता है कि बीपी, डायबिटीज या फिर सिर में चोट लग जाने के कारण अल्जाइमर की परेशानी हो सकती है। अमूमन इसे अधिक उम्र से जोड़कर देखा जाता है, लेकिन आज के लाइफस्टाइल के कारण कम उम्र में भी लोग इस समस्या से जूझने लगे हैं।

    चूंकि इस बीमारी से पूरी तरह निजात नहीं पाई जा सकती है। लेकिन अगर आप सही तरीका अपनाते हैं तो इसे मैनेज किया जा सकता है। आप कुछ योगासनों की मदद से अल्जाइमर के रिस्क को कम कर सकती हैं और उसे मैनेज भी कर सकती हैं।

    तो चलिए आज इस लेख में योगा विशेषज्ञ और वुमन हेल्थ रिसर्च फाउंडेशन की प्रेसिडेंट डॉ नेहा वशिष्ट कार्की आपको ऐसे ही कुछ आसनों के बारे में बता रही हैं, जो अल्जाइमर के रिस्क को कम करने में मददगार साबित हो सकते हैं- 

    करें शीर्षासन

    easy yoga poses

    अल्जाइमर के लिए शीर्षासन का अभ्यास करना काफी अच्छा माना जाता है। यह आसन ब्लड की सप्लाई को सिर की तरफ बढ़ा देता है। जिसके कारण व्यक्ति को शॉर्ट टर्म मेमोरी लॉस या फिर अल्जाइमर आदि का रिस्क काफी कम हो जाता है।

    • इस आसन का अभ्यास करने के लिए सबसे पहले वज्रासन में बैठ जाएं। 
    • अब आगे की ओर झुकें और दोनों कोहनियों को जमीन पर टिकाएं।
    • इस दौरान आप अपने दोनों हाथों की उंगलियों को भी आपस में जोड़ लें और सिर को हथेलियों के मध्य रखें।(योग करती है जो नारी, नहीं होती है उसको कोई बीमारी)
    • एक बार जब आप अपना सिर जमीन पर टिका लें तो धीरे-धीरे अपने शरीर को ऊपर की उठाना शुरू करें। 
    • अब आप अपने शरीर को सीधा कर लें। इस अवस्था में कुछ देर रूकें और फिर सामान्य स्थिति में लौट आएं।

    इसे जरूर पढ़ें: कार्डियोरेस्पिरेटरी फिटनेस में सुधार कर इम्‍यूनिटी को मजबूत बनाते हैं ये 6 योग

    भ्रामरी प्राणायाम

    expert for yoga

    भ्रामरी प्राणायाम करने से ब्रेन सेल्स वाइब्रेट होता है और वहां से न्यूरो ट्रांसमीटर डोपामाइन को स्रावित करते हैं। जिससे व्यक्ति की मेंटल हेल्थ सुधरती है और अल्जाइमर का रिस्क काफी कम हो जाता है।

    • भ्रामरी प्राणायाम का अभ्यास करने के लिए सबसे पहले आप सुखासन या पद्मासन में बैठ जाएं।
    • इस दौरान आपकी पीठ सीधी होनी चाहिए और आंखें बंद रखें।
    • अब आप अपने दोनों अंगूठों की मदद से अपने कानों को बंद करें।
    • अब अपनी दो उंगलियों की मदद से आंखों को बंद करें और गहरी सांस लें। (योग की कर रहे हैं शुरुआत, तो इन आसनों को रूटीन में ज़रूर करें शामिल)
    • सांस छोड़ते समय आप हम्म की आवाज निकालें।
    • ध्यान रखें कि आपका मुंह बंद होना चाहिए। जब आप मधुमक्खी की तरह आवाज निकालेंगे तो इससे आपको अपने मस्तिष्क सहित शरीर में कंपन महसूस होगा।
    • आप यथाशक्ति इसका अभ्यास कर सकती हैं।

    इसे ज़रूर पढ़ें- युवाओं में कार्डियक अरेस्ट का खतरा कम कर सकते हैं ये 5 योग

    उद्गीथ प्राणायाम

    yoga poses in hindi

    उद्गीथ प्राणायाम भी आपको मानसिक रोगों से दूर रखने में मददगार साबित हो सकता है। आप उद्गीथ प्राणायाम के नियमित अभ्यास से अल्जाइमर के रिस्क को काफी हद तक कम कर सकती हैं। 

    • इस आसन का अभ्यास करने के लिए पद्मासन, सुखासन या सिद्धासन में बैठ जाएं। 
    • इस दौरान आपकी कमर सीधी होनी चाहिए, लेकिन अपने शरीर में तनाव को महसूस ना करें। 
    • दोनों हाथों से योग मुद्रा बनाएं।
    • अब अपनी आंखें बंद करें और गहरी सांस लें।
    • सांस लेते और छोड़ते हुए ओम् का उच्चारण करें।
    • आप इस प्रक्रिया को 5-11 बार दोहरा सकती हैं।

    तो अब आप भी इन योगासनों का अभ्यास करें और अपनी मेंटल हेल्थ का बेहतर तरीके से ख्याल रखें।

    इस आर्टिकल के बारे में अपनी राय भी आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। साथ ही, अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।  

    Image Credit- freepik

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।