योग मन और शरीर के मिलन की प्राचीन प्रथा है जो कई लाभ देने का वादा करता है। दैवीय विज्ञान यानी योग की खूबी यह है कि इसे सोने से ठीक पहले अपने बिस्तर पर भी कर सकते हैं और यहां तक कि जैसे ही आप जागते हैं। हालांकि, नींद से पहले किए जाने वाले योग से अगले दिन की शुरुआत करने के लिए शांत दिमाग के साथ-साथ टोंड शरीर पाने में मदद मिलती है।

भले ही बिस्तर पर आराम से योग आसनों को शामिल करना संभव हो, लेकिन कृपया ध्यान रखें कि बिस्तर बहुत नरम न हो। बिस्तर पर इतनी दूर तक आसन में नहीं जा पाएंगी जितना योग स्टूडियो में करती हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि फर्श की सख्त सतह स्ट्रेचिंग के लिए अधिक समर्थन और प्रतिरोध प्रदान करती है। किनारे पर अभ्यास करने के बजाय बिस्तर के बीच का उपयोग करके सावधानी बरतें क्योंकि आप गिर सकती हैं और चोट लग सकती है। अपने शरीर में संवेदनाओं पर ध्यान दें: यदि दर्द या बेचैनी है, तो तुरंत बालासन में जाएं (नीचे उल्लेख किया गया है)।

अगर आपका भी सर्दियों में सुबह बिस्‍तर से निकलने का मन नहीं करता है तो आप एक्‍सपर्ट के बताए इन योगासन को रात में सोने से पहले बिस्‍तर में ही करें। इन योगासन के बारे में हमें योगा मास्टर, फिलांथ्रोपिस्ट, धार्मिक गुरू और लाइफस्टाइल कोच ग्रैंड मास्टर अक्षर जी बता रहे हैं।

1. बालासन (बच्चे की मुद्रा)

Balasana in bed

  • चटाई पर घुटनों के बल बैठ जाएं और एड़ी के बल बैठ जाएं। 
  • सांस भरते हुए हाथों को सिर के ऊपर उठाएं।
  • सांस छोड़ें और ऊपरी शरीर को आगे की ओर झुकाएं।
  • माथा बिस्‍तर पर रखें।
  • पेल्विक को एड़ियों पर आराम देना चाहिए।
  • सुनिश्चित करें कि पीठ झुकी हुई न हो।

2. सुखासन - हैप्पी पोज

Sukhasana

  • दंडासनमें दोनों पैरों को फैलाकर सीधी बैठ जाएं।
  • बाएं पैर को मोड़ें और दाहिनी जांघ के अंदर दबाएं।
  • फिर दाहिने पैर को मोड़कर बाई जांघ के अंदर दबाएं।
  • हथेलियों को घुटनों पर रखें।
  • रीढ़ की हड्डी को सीधा करके बैठें।

3. मार्जरी आसन

Urdhva Mukhi Marjari Asana

ऊर्ध्व मुखी मार्जरी आसन

  • घुटनों के बल आ जाएं, हथेलियों को कंधों के नीचे और घुटनों को कूल्हों के नीचे रखें।
  • श्वास अंदर लें, ऊपर देखने के लिए रीढ़ को मोड़ें।

अधो मुखी मार्जरी आसन

  • सांस छोड़ें, रीढ़ को मोड़कर पीठ का एक आर्च बनाएं और गर्दन को नीचे आने दें।
  • निगाहों को अपनी चेस्‍ट की ओर केंद्रित करें।

4. वज्रासन

Vajrasana yoga in bed

  • यह एकमात्र आसन है जिसे पेट भरकर किया जा सकता है। वास्तव में, इसे भोजन करने के ठीक बाद करना चाहिए।
  • इसे करने के लिए धीरे से अपने घुटनों को नीचे करें।
  • एड़ियों को एक दूसरे के पास रखें।
  • पैर की उंगलियों को एक दूसरे के ऊपर न रखें, इसके बजाय दाएं और बाएं एक दूसरे के बगल में होने चाहिए।
  • हथेलियों को घुटनों पर ऊपर की ओर रखें।
  • पीठ को सीधा करें और आगे देखें।

Recommended Video

5. पश्चिमोत्तानासन

Paschimottanasana

  • इसे दंडासन से शुरू करें।
  • सुनिश्चित करें कि घुटने थोड़े मुड़े हुए हैं जबकि पैर आगे की ओर स्‍ट्रेच होने चाहिए।
  • बाजुओं को ऊपर की ओर फैलाएं और रीढ़ को सीधा रखें।
  • सांस छोड़ें और पेट की हवा को खाली करें।
  • सांस छोड़ते हुए, कूल्हे पर आगे की ओर झुकें और ऊपरी शरीर को निचले शरीर पर रखें।
  • बाजुओं को नीचे करें और पैर की उंगलियों को हाथ से पकड़ें।
  • घुटनों को नाक से छूने की कोशिश करें।
  • 10 सेकेंड के लिए इस आसन में रहें।

बिस्तर पर योग शुरू करने से पहले, सूक्ष्म व्यायाम से शुरुआत करें। जोड़ों को धीरे-धीरे गर्म करने के लिए गर्दन, हाथ, कलाई, टखनों का कोमल घुमाव शामिल है। आंखें बंद करें और सीधी रीढ़ के साथ सरल सांस लेने की तकनीक का अभ्यास करें। यह हमारे शरीर को अभ्यास के लिए तैयार करेगा, और अभ्यास से संबंधित चोटों से सुरक्षित रखेगा।

आप भी इन योगासन को बिस्‍तर में करके सर्दियों में खुद को फिट और एक्टिव रख सकती हैं। योग से जुड़ी और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।