योग किसी भी अन्य एक्‍सरसाइज के विपरीत मन, शरीर और आत्मा के लिए एक संपूर्ण वर्कआउट है। भलाई के लिए यह प्राचीन और पारंपरिक विज्ञान शारीरिक मुद्राओं, प्राणायाम, ध्यान, मुद्रा और कुछ तत्वों को शामिल करता है। योग एक शक्तिशाली उपकरण है जो हमारे शरीर को मजबूत करने में मदद करता है, लचीलापन बनाता है, मन के उतार-चढ़ाव को समाप्त करता है और हमारी युवावस्था को बनाए रखता है। योग हमें इसके असंख्य लाभों का अनुभव करने के लिए अभ्यास में अनुशासित रहने में मदद करता है।

निम्नलिखित अभ्यासों को ठंड के दिनों में भी प्रतिबद्धता के साथ जारी रखें। जब नियमित रूप से शरीर को हिलाते हैं तो इससे हमें खुशी महसूस होती है क्योंकि एक्‍सरसाइज से शरीर में एंडोर्फिन निकलता है। इससे हम तृप्ति की भावना का अनुभव करते हैं, पूरे दिन उत्पादक और ऊर्जावान बने रहते हैं। आइए ऐसे ही कुछ योगासन के बारे में जानें जो सर्दियों में आपकी इम्‍यूनिटी को मजबूत बनानेमें आपकी मदद कर सकते हैं। इन योगासन के बारे में हमें योगा मास्टर, फिलांथ्रोपिस्ट, धार्मिक गुरू और लाइफस्टाइल कोच ग्रैंड मास्टर अक्षर जी बता रहे हैं।

योगिक वार्म अप

अपनी टखनों को गतिमान करें, कूल्हों, बांहों, कलाई, सिर और गर्दन को धीरे-धीरे घुमाना शुरू करें। तेजी से घूमें और अपनी मसल्‍स को ढीला करने के लिए स्‍ट्रेच करें।

1. उष्ट्रासन

Ustrasana for immunity

  • योगा मैट पर घुटने टेकें और अपने हाथों को हिप्‍स पर रखें।
  • साथ ही, पीठ को झुकाएं और हथेलियों को पैरों पर तब तक खिसकाएं जब तक कि बाहें सीधी न हो जाएं।
  • गर्दन को तनाव या फ्लेक्स न करें बल्कि इसे तटस्थ स्थिति में रखें।
  • इस आसन में कुछ सांसों के लिए रुकें।
  • सांस छोड़ते हुए धीरे-धीरे वापस प्रारंभिक मुद्रा में आ जाएं।  
  • हाथों को वापस ले जाएं और जैसे ही सीधा करें, उन्हें वापस अपने हिप्‍स पर ले आएं।

2. पश्चिमोत्तानासन

Paschimottanasana for immunity

  • दंडासन से शुरू करें।
  • सुनिश्चित करें कि घुटने थोड़े मुड़े हुए और पैर आगे की ओर स्‍ट्रेच हो।  
  • बांहों को ऊपर की ओर फैलाएं और रीढ़ को सीधा रखें।
  • सांस छोड़ें और पेट की हवा को खाली करें।
  • सांस छोड़ते हुए, कूल्हे पर आगे की ओर झुकें और ऊपरी शरीर को निचले शरीर पर रखें।
  • बांहों को नीचे करें और पैर की उंगलियों को पकड़ें।
  • घुटनों को अपनी नाक से छूने की कोशिश करें।
  • 10 सेकेंड के लिए इस मुद्रा में रहें।

3. चक्रासन

chakrasana for immunity

  • पीठ के बल लेट जाएं।
  • पैरों को घुटनों पर मोड़ें और सुनिश्चित करें कि पैर फर्श पर मजबूती से टिके हुए हैं।
  • हथेलियों को आकाश की ओर रखते हुए कोहनियों पर मोड़ें। 
  • बांहों को कंधों पर घुमाएं और हथेलियों को सिर के दोनों ओर फर्श पर रखें।
  • श्वास लें, हथेलियों और पैरों पर प्रेशर डालें और पूरे शरीर को एक आर्च बनाने के लिए ऊपर उठाएं।
  • गर्दन को आराम दें और सिर को धीरे से पीछे गिरने दें।

4. हलासन

Halasana for immunity

  • इसे करने के लिए पीठ के बल लेट जाएं।
  • हथेलियों को शरीर के बगल में फर्श पर रखें।
  • पेट की मसल्‍स का इस्‍तेमाल करते हुए, पैरों को 90 डिग्री ऊपर उठाएं।
  • हथेलियों को फर्श पर मजबूती से दबाएं और पैरों को सिर के पीछे गिरने दें।
  • मध्य और पीठ के निचले हिस्से को फर्श से ऊपर उठाने दें ताकि पैर की उंगलियां पीछे की मंजिल को छू सकें और चेस्‍ट को ठुड्डी के जितना हो सके पास लाने की कोशिश करें।
  • ऐसा करते हुए हथेलियां फर्श पर सपाट, लेकिन बाजुओं को कोहनी से मोड़ना चाहिए। 
  • आराम के स्तर के अनुसार हथेलियों से पीठ को सहारा दे सकती हैं।

Recommended Video

5. भुजंगासन

Bhujangasana for immunity

  • पेट के बल लेटें।
  • हथेलियों के सहारे सिर को धीरे-धीरे ऊपर उठाएं। 
  • हाथ कोहनियों से मुड़े होने चाहिए।
  • गर्दन को थोड़ा पीछे की ओर झुकाएं और ऊपर देखें।
  • सुनिश्चित करें कि नाभि फर्श से दब गई है।
  • पैर की उंगलियों को फर्श पर दबाकर दबाव डालें। 
  • उसके बाद, उन्हें बढ़ाएं।
  • आसन को कुछ सेकेंड के लिए रोककर रखें।

सर्दी के मौसम में विशेष रूप से सुस्ती महसूस होती है। निष्क्रियता के परिणामस्वरूप वजन बढ़ना, ताकत में कमी और लचीलापन हो सकता है। हालांकि, नियमित अभ्यास से योग के साथ शरीर का निर्माण और आकार में बने रहेंगे। अच्छे स्वास्थ्य के लिए नियमित योग दिनचर्या के साथ शीतकालीन ब्लूज़ को हराएं, इम्‍यून सिस्‍टम में वृद्धि करें और पूरे दिन एनर्जी के लेवल को बनाए रखें।

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। योग से जुड़े ऐसे ही और आर्टिकल पढ़ने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com