Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    बढ़ती उम्र में भी बरकरार रहेगी फिटनेस और आप दिखेंगी जवां, करें ये स्‍पेशल योग

    व्हील पोज या चक्रासन को महिलाओं को अपने फिटनेस रूटीन में क्यों शामिल करना चाहिए, इसके क्या फायदे हैं और इसका अभ्यास कैसे करें? आइए जानें। 
    author-profile
    Updated at - 2022-10-21,10:29 IST
    Next
    Article
    wheel pose for women

    Verified by Himalayan Siddha Akshar

    Chakrasana for Women: योग तन और मन को दुरुस्‍त रखने के साथ महिलाओं को सुंदर बनाने में भी मदद करता हैं। जी हां, योग के कुछ आसन इसमें आपकी मदद कर सकते हैं। रोजाना योग करने से आप मानसिक और शरीर रूप से तो स्‍वस्‍थ रहती ही हैं साथ ही इससे आपके बाल भी हेल्‍दी होते हैं और चेहरे पर जवां निखार आता है। साथ ही आपको बढ़ता वजन कम करने में भी मदद मिलती है। 

    इसलिए आज हम महिलाओं के लिए एक खास योगासन की जानकारी लेकर आए हैं जिसे रोजाना करने से उन्‍हें बहुत फायदा हो सकता है। हम चक्रासन के बारे में बात कर रहे हैं। इसकी जानकारी हमें योगा मास्टर, फिलांथ्रोपिस्ट, धार्मिक गुरू और लाइफस्टाइल कोच ग्रैंड मास्टर अक्षर जी दे रहे हैं।

    चक्रासन को आमतौर पर व्हील पोज के नाम से भी जाना जाता है। संस्कृत नाम 'चक्रासन' संस्कृत शब्द चक्र और आसन से लिया गया है, जहां 'चक्र' का अर्थ 'पहिया' और 'आसन' का अर्थ 'आसन' या 'सीट' है। आइए इस आर्टिकल के माध्‍यम से इसके बारे में विस्‍तार से जानकारी लेते हैं।

    वेट लॉस के लिए चक्रासन

    जब चक्रासन रोजाना किया जाता है, तब यह वेट लॉस में योगदान देता है। यह योग मुद्रा डाइजेशन और रिप्रोडक्टिव अंगों को टोन करके, विशेष रूप से पेट के आस-पास की चर्बी को कम करने में मदद करती है।

    चक्रासन (व्हील पोज) फायदे

    wheel pose for health

    • अधिक ऑक्सीजन की मात्रा प्राप्त करने के लिए फेफड़ों का विस्तार करने में मदद करता है जो विशेष रूप से अस्थमा वाले लोगों के लिए फायदेमंद है।
    • रीढ़ की हड्डी की लोच को मजबूत और बढ़ाता है।
    • यह पेट की चर्बी को कम करता है और आपकी मेन मसल्‍स को टोन करता है।
    • चक्रासन के लाभों में से एक यह है कि यह आपको शारीरिक लाभ के साथ-साथ विचार की स्पष्टता और मानसिक शांति जैसे मानसिक लाभ भी देता है।
    • आपके शरीर में ब्‍लड सर्कुलेशन में सुधार करता है और ब्‍लड को शुद्ध करता है।
    • यह आपकी सहनशक्ति और ताकत बनाने में मदद करता है।
    • शरीर में तनाव को कम करने में मदद करता है।
    • दृष्टि तेज करने में भूमिका निभाता है।
    • चक्रासन के चरणों का अभ्यास शुरू करने के बाद व्यक्ति ऊर्जावान और कम थका हुआ महसूस करता है।
    • चक्रासन आंतरिक और बाहरी भलाई को बढ़ाता है। यह आपके शरीर के अंगों के समुचित कार्य को सुनिश्चित करता है।
    • यह आपकी भूख को बढ़ाता है और कब्ज और पाचन संबंधी समस्याओं से राहत देता है।

    चक्रासन (व्हील पोज़) की विधि

    • इसे करने के लिए पीठ के बल लेट जाएं।
    • दोनों पैरों को मोड़ें और अपने पैरों को पेल्विक के करीब लाएं। 
    • अपने पैरों और घुटनों को समानांतर रखें।
    • फिर अपनी दोनों हथेलियों को अपने सिर के बगल में, अपने कानों के बगल में और अपने कंधों के नीचे, उंगलियों को पैरों की ओर रखें।
    • सांस लेते हुए अपने पेल्विक को ऊपर उठाएं, आप सबसे पहले अपने सिर को नीचे रख सकती हैं।
    • यहां से, अपने सिर और पेल्विक को ऊपर उठाएं, जितना संभव हो सके अपने हाथों और पैरों को सीधा करना शुरू करें।
    • गर्दन को रिलैक्स रखें, सामान्य रूप से सांस लें और सांस छोड़ें।
    • सांस छोड़ें और धीरे-धीरे शरीर को फर्श पर ले आएं।

    चक्रासन के लिए सावधानियां

    wheel pose yoga

    • इसे करने के लिए सबसे पहले अपने शरीर को अच्छी तरह वार्म अप करें।
    • कलाई या पीठ में चोट लगने पर चक्रासन से बचें।
    • प्रेग्‍नेंसी के दौरानमहिलाओं को चक्रासन के अभ्यास से बचना चाहिए।

    अर्ध चक्रासन के फायदे

    अर्ध चक्रासन एक स्थायी योग मुद्रा या हाफ मून पोज़ है, जिसे करने पर कंधों, कमर और जांघों को टोन करने में मदद मिलती है। इस प्रकार के आसन अग्न्याशय जैसे पेट के अंगों की उत्तेजना में भी मदद करते हैं। अर्ध चक्रासन के कुछ अन्य लाभों में कंधे और गर्दन के दर्द से राहत प्रदान करना शामिल है।

    कटि चक्रासन के फायदे

    • कटि चक्रासन के स्वास्थ्य लाभों में कलाई और रीढ़ की हड्डी के लचीलेपन में सुधार शामिल है। यह स्टैंडिंग स्पाइनल ट्विस्ट योगा पोज़ गर्दन, कंधे, कमर, पीठ और हिप्‍स को टोन करने में भी मदद करता है।
    • चेस्‍ट फैलती है और फेफड़ों को अधिक ऑक्सीजन मिलती है।
    • शरीर में तनाव को कम करता है।
    • दृष्टि तेज हो जाती है। 
    • यह आसन पीठ को मजबूत करने और रीढ़ की लोच को बढ़ाने में मदद करता है।
    • यह पेट के आस-पास जमा चर्बी को कम करता है और डाइजेशन और रिप्रोडक्टिव अंगों को टोन करता है।
    • यह हाथों और पैरों की मांसपेशियों को मजबूत करता है। 
    • यह ब्‍लड की शुद्धि और सर्कलेशन को बढ़ाता है और विचारों की शांति और स्पष्टता देता है और थकान को दूर करता है। 
    • यह एंडोक्राइन ग्लैंड  को उत्तेजित करता है और शरीर के मेटाबॉलिज्‍म के लेवल बनाए रखता है।
    • यह लिवर, प्लीहा और किडनी की प्रक्रियाओं को उत्तेजित करता है।

    यदि आपके लिए यह चुनौतीपूर्ण है, तो व्हील पोज को अधिक सुलभ बनाने के लिए आप दीवार का सहारा ले सकती हैं। पहली बार इस योगासन को किसी एक्‍सपर्ट की निगरानी में ही करें। 

    आप भी इस योग को करके यह सारे फायदे पा सकती हैं। इस आर्टिकल को शेयर और लाइक जरूर करें, साथ ही कमेंट भी करें। फिटनेस से जुड़े ऐसे ही और आर्टिकल पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से।   

    Image Credit: Shutterstock & Freepik

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।