शरीर में चर्बी का ज्‍यादा होना हेल्‍थ को प्रभावित करता है और अगर चर्बी त्‍वचा के नीचे जमा हो तो गंभीर बीमारियों को दावत दे सकती है। जी हां हम आंत की चर्बी के बारे में बात कर रहे हैं। आंत की चर्बी वह चर्बी है जो आपके पेट के अंगों के चारों ओर आपके शरीर के अंदर गहराई में लपटी होती है। 

आंत की चर्बी के कारण पेट बाहर निकल जाता है या किसी का आकार 'सेब' जैसा हो जाता है। यह केमिकल और हार्मोन भी पैदा करती है जो शरीर के लिए जहरीले हो सकते हैं।

हालांकि, आप इसे हमेशा महसूस या देख नहीं सकती हैं। कई बार ऐसा भी होता है कि आपका पेट फ्लैट है और फिर भी आंत की चर्बी होती है। इसे कभी-कभी TOFI, या "अंदर की पतली बाहरी चर्बी" कहा जाता है।

आंतों की चर्बी क्‍या है?

अधिकांश चर्बी त्वचा के नीचे जमा हो जाती है और इसे subcutaneous fat के रूप में जाना जाता है। यह वह चर्बी है जो दिखाई देती है और जिसे आप महसूस कर सकती हैं। शरीर में बाकी की चर्बी छिपी होती है। वह आंत की चर्बी है।

आंत की चर्बी subcutaneous fat की तुलना में अधिक विषाक्त पदार्थ पैदा करती है, इसलिए यह अधिक खतरनाक होती है। दुबले-पतले लोगों में भी, आंत की चर्बी होने से कई तरह के स्वास्थ्य जोखिम होते हैं। इस बारे में विस्‍तार से जानकारी हमें पोषण विशेषज्ञ और प्रमाणित आयुर्वेदिक चिकित्सक सोनम के इंस्‍टाग्राम से मिली है। आइए आप भी हमारे साथ इसके बारे में जानें। 

इसे जरूर पढ़ें:पेट की जिद्दी चर्बी तेजी से होगी कम, अपनाएं ये 2 टिप्‍स

आंतों की चर्बी के नुकसान

visceral fat easy tips

आंतों के प्रकार से गंभीर मेडिकल समस्‍याओं के जोखिम को बढ़ने की अधिक संभावना होती है। हार्ट डिजीज, अल्जाइमर, टाइप 2 डायबिटीज, ब्‍लड प्रेशर, स्ट्रोक और हाई कोलेस्ट्रॉल कुछ ऐसी स्थितियां हैं जो आपके शरीर में बहुत अधिक चर्बी से जुड़ी हुई हैं।

आंत की चर्बी के कारण क्‍या है?

जब आप बहुत अधिक कैलोरी का सेवन करते हैं और बहुत कम फिजिकल एक्टिविटी करते हैं तो चर्बी जमा हो जाती है। कुछ लोगों में जीन के कारण हिप्‍स की बजाय पेट के आस-पास चर्बी जमा हो जाती है।

महिलाओं में, उम्र बढ़ने से शरीर में चर्बी जमा होने की जगह बदल सकती है। खासकर मेनोपॉज के बाद महिलाओं का मसल्स मास कम हो जाता है और उनकी चर्बी बढ़ जाती है। महिलाओं को बढ़ती उम्र के साथ पेट में अधिक आंत की चर्बी विकसित होने की संभावना होती है, भले ही उनका वजन न बढ़े।

  • खराब डाइट और लाइफस्‍टाइल 
  • क्रोनिक तनाव
  • स्‍मोकिंग और अल्‍कोहल
  • आनुवंशिक कारक और हार्मोन
  • इंसुलिन रेजिस्टेंस
  • हार्मोन थेरेपी, आईवीएफ, बर्थकंट्रोल पिल्‍स
  • पीसीओएस 
  • मेनोपॉज

Recommended Video

पेट की चर्बी से लड़ने के तरीके

tips for visceral fat

यह जानने का सबसे अच्छा तरीका है कि आपकों आंतों की चर्बी है या नहीं, अपनी कमर को मापना है। कमर का माप इस बात का एक अच्छा संकेतक है कि पेट के अंदर, अंगों के आस-पास कितनी चर्बी है। यदि कमर का माप 80 सेमी या अधिक है तो महिलाओं के लिए, क्रोनिक बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। ये माप बच्चों या प्रेग्‍नेंट महिलाओं पर लागू नहीं होते हैं। अगर आपको लगता है कि आपकी कमर का माप बहुत बड़ा है, तो अपने डॉक्टर से बात करें।

  • पेट की चर्बी से लड़ने के लिए आप अपनी डाइट में कार्ब्स की मात्रा कम करें और प्रोटीन को बढ़ाएं। 
  • फिजिकल एक्टिविटी बढ़ाएं।
  • अल्‍कोहल की मात्रा सीमित करें।
  • इंटरमिटेंट फास्टिंग करें।
  • तनाव को नियंत्रित करें।
  • ऑयली चीजों का सेवन कम करें।
  • गुग्गुल, त्रिफला और लहसुन जैसी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का सेवन करें।

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Shutterstock.com