• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

पेट की बढ़ती चर्बी से परेशान महिलाएं रोजाना करें ये 1 काम, कुछ दिनों में दिखेंगी पतली

अगर आप पेट की चर्बी कम करने के लिए जिम नहीं जाना चाहती हैं तो रोजाना कुछ देर एक्सपर्ट की बताई मुद्रा को जरूर करें। 
author-profile
Published -20 Jul 2022, 18:00 ISTUpdated -21 Jul 2022, 10:33 IST
Next
Article
mudra for tummy fat fitness

योग की उत्पत्ति योगियों से हुई, जिन्होंने अपने मन, शरीर और श्वास का उपयोग कुछ ऐसे आसनों और पदों की खोज के लिए किया जो शरीर को स्वस्थ रहने में मदद कर सकते थे। योगियों ने भी योग मुद्राओं को अविश्वसनीय रूप से प्रभावी पाया और उन्हें सभी योग प्रथाओं में शामिल करना शुरू कर दिया।

योग मुद्राएं मूल रूप से हाथ के सरल इशारे हैं जो शरीर के भीतर ऊर्जा के प्रवाह को सक्रिय करते हैं। मुद्रा का उपयोग अक्सर शास्त्रीय नृत्य रूपों में भी किया जाता है, कहानी को व्यक्त करने या भावनाओं को व्यक्त करने के साधन के रूप में।

योग में मुद्राएं शारीरिक और भावनात्मक बीमारियों को कम करने के लिए शरीर को उपचार शक्ति प्रदान करने के लिए जानी जाती हैं। सही योग मुद्रा का उपयोग लोगों को अतिरिक्त वजन कम करने और फिट रहने में मदद करने के लिए भी जाना जाता है।

वजन घटाने के लिए योग मुद्रा

 mudra for belly fat

शरीर और मन को स्वस्थ रखने के लिए पारंपरिक रूप से योग का अभ्यास किया जाता रहा है। योग द्वारा सिखाई जाने वाली श्वास तकनीक एकाग्रता और दिमागीपन में सुधार करने में मदद करती है। जबकि योग वर्षों से विकसित हुआ है, यह आयुर्वेद के मूल में सच है।

योग पांच तत्वों, अर्थात् - 'जल', 'पृथ्वी', 'आकाश', 'वायु' और 'अग्नि' को हमारे शरीर में मुख्य फोकस बिंदु मानता है। इन तत्वों के कारण होने वाले किसी भी असंतुलन का परिणाम सामान्य रूप से बीमारियां या खराब स्वास्थ्य होता है। योग मुद्राएं इन तत्वों के बीच संतुलन बहाल करने में मदद करती हैं और शरीर को भविष्य की किसी भी बीमारी से लड़ने के लिए तैयार करती हैं।

इसे जरूर पढ़ें:सिर्फ 5 मिनट उंगलियों को इस तरह रखना, सेहत के लिए है जादुई

आज हम आपको एक ऐसी मुद्रा के बारे में बताएंगे जो आपको पेट की चर्बी कम करने में मदद करेगी। साथ ही रोजाना इस मुद्रा को करने से आपका वजन कम होगा। यह मुद्रा पेट की अग्नि को बढ़ाकर, यह आपके मेटाबॉलिज्‍म को तेज करती है। इस मुद्रा को सूर्य मुद्रा के नाम से जाना जाता है। आप जानती हैं जब आपका वजन ज्‍यादा होता है तब आपको पृथ्‍वी तत्‍व हाई स्‍टेट में होता है। 

वजन घटाने की प्रक्रिया में, कई महिलाओं को खराब पाचन स्वास्थ्य के कारण चर्बी कम करने में कठिनाई होती है। सूर्य मुद्रा में मौजूद अग्नि तत्व शरीर में  को बढ़ाकर पाचन में सुधार के लिए जाना जाता है। नियमित अभ्यास से मोटापा घटाने में काफी मदद मिल सकती है।

पेट की चर्बी के लिए सूर्य मुद्रा

mudra for belly fat at home

आप जानते हैं कि वजन पृथ्वी की हाई स्‍टेट में होने के कारण बढ़ता है। इसलिए हमें उस अतिरिक्त पृथ्वी तत्व को कम करना होगा और हमें उस अतिरिक्त फैट जमाव को जलाना होगा। इसलिए सूर्य मुद्रा करें। 

सूर्य मुद्रा या अग्नि मुद्रा, जैसा कि पारंपरिक रूप से जाना जाता है, अग्नि तत्व का प्रतिनिधित्व करती है। इस मुद्रा को करने से शरीर में अग्नि ऊर्जा सक्रिय होती है और आपको अग्नि संतुलन बहाल करने की अनुमति मिलती है। मुद्रा करने से अंगुलियां संबंध बनाती हैं और शरीर में ऊर्जा के प्रवाह को सुगम बनाती हैं।

वजन घटाने की प्रक्रिया में, कई महिलाओं को खराब डाइजेशन के कारण चर्बी कम करने में कठिनाई होती है। सूर्य मुद्रा में मौजूद अग्नि तत्व शरीर में मेटाबॉलिज्‍म को बढ़ाकर डाइजेशन में सुधार के लिए जाना जाता है। नियमित अभ्यास से मोटापा घटानेमें काफी मदद मिल सकती है।

सूर्य मुद्रा की विधि

  • इस मुद्रा को करने के लिए दो अंगुलियों अंगूठा और अनामिका का प्रयोग किया जाता है। 
  • अनामिका पृथ्वी है और अंगूठा अग्नि है, इसलिए हमें पृथ्वी तत्व को कम करना होगा।
  • इसलिए अंगूठे को अनामिका के ऊपर और अनामिका को अनामिका के सिरे पर रखें। 
  • इस तरह अंगूठे के आधार को स्पर्श करें और बाकी तीन अंगुलियों को एक्सटेंडेड किया जाता है। 
  • ऐसा कम से कम 5 से 10 मिनट रोजाना करें। 
  • फिर आपको खुद से ही रिजल्‍ट दिखाई देगा। 

इसकी जानकारी हमें आयुर्वेदिक एक्‍सपर्ट जीतूंचदन जी ने दी हैं। उन्‍होंने अपने इंस्‍टाग्राम के माध्‍यम से इस नुस्‍खे का एक वीडियो शेयर किया है। इसके कैप्‍शन में लिखा, 'हम अभी तक अपने प्राचीन ज्ञान की खोज और उपयोग क्यों नहीं कर रहे हैं? मुद्रा हमारे शरीर में जादुई उपचार शक्ति है। यह केवल हाथों तक ही सीमित नहीं है,यह चेहरे, दिमाग आदि से भी संबंधित है।' 

आगे लिखा, 'हम स्वस्थ रखने के लिए हर नए ट्रेंड के साथ जुड़ रहे हैं। ज्यादातर समय ये नए ट्रेंड कम समय के लिए परिणाम दे रहे हैं। यदि हम इन सभी पर गौर करें तो हमारे स्वास्थ्य के लिए हमेशा कुछ बाहरी स्रोतों पर निर्भर रहने की एक सामान्य बात होगी। ये सभी त्वरित सुधार हैं, हमारी वास्तविक समस्या के लिए कुछ बैंड सहायता देने की कोशिश कर रहे हैं। हमारे शरीर को जाने बिना स्थायी समाधान नहीं होगा।' 

'हम एक कार्यक्रम से दूसरे कार्यक्रम में कूदते रहेंगे। अपने शरीर की खोज करना शुरू करें। अपनी सांस, अपनी ऊर्जा को जानना - ये सभी आपकी उपचार यात्रा में महत्वपूर्ण उपकरण हैं जिनका अभी तक ठीक से उपयोग नहीं किया गया है।' 

Recommended Video

इसे जरूर पढ़ें:वजन घटाना हो या झुर्रियों को दूर भागना, 10 बीमारियों का एक इलाज है ये 8 मुद्राएं

'मुद्रा, दृष्टि- मेरी ऊर्जा को वापस लाने के लिए ये मेरे दो पसंदीदा उपकरण हैं। जब आपके भीतर पहले से ही अपार ऊर्जा है तो हमेशा ऊर्जा के बाहरी स्रोत की तलाश क्यों? केवल मार्गदर्शन की आवश्यकता है कि इसका उपयोग कैसे किया जाए, इसे पुनर्निर्देशित किया जाए।' 

'जब आप आयुर्वेद के प्राचीन ज्ञान का अभ्यास करना शुरू करते हैं, तब आप धीरे-धीरे अपने शरीर के उपचार के जादू को जानेंगे। अपनी उपचार शक्ति वापस ले लो यह सब तुम्हारे भीतर है और आप मरहम लगाने वाले हैं।' 

आप भी इस मुद्रा को करके डाइजेशन को दुरुस्‍त करके पेट की चर्बी कम करने के साथ पूरे शरीर के वजन को कम कर सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।  

Image Credit: Freepik & Shutterstock

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।