बॉलीवुड एक्टर शाहिद कपूर की पत्नी मीरा राजपूत ने हाल ही में इंस्टाग्राम पर एक सेल्फी शेयर की थी। उनकी ये तस्वीर साल 2018 की है, जब उनके बेटे ज़ैन के जन्म को सिर्फ 10 दिन ही हुए थे। इस तस्वीर को शेयर करते हुए उन्होंने बताया कि आखिर वह कैसे प्री-प्रेग्नेंसी के शेप में वापस आ गई थीं। तस्वीर में वह ट्राउजर और शर्ट पहने नजर आ रही हैं। इस दौरान उन्होंने बताया कि ऐसा Bengkung Belly Bind नाम की तकनीक की वजह से मुमकिन हो पाया था।  

Bengkung Belly Bind एक Malaysian Belly Wrap है जो बच्चे के जन्म के बाद वापस शेप में आने में मदद करता है। वहीं इस खास टेक्निक के बारे में न्यूट्रिशन और डाइट एक्सपर्ट स्वाति बथवाल ने खुलकर बताया है। उन्होंने बताया कि यह टेक्निक गांवों में महिलाएं आज भी आजमाती हैं क्योंकि बच्चा पेट में जब नौ महीने रहता है तो इससे पेट खींचता है जो डिलीवरी के बाद लटकने लगता है। इसके अलावा बच्चादानी भी एक्सपैंड हो जाती है। ऐसे में यह टेक्निक काफी कारगर मानी जाती है। उन्होंने इस टेक्निक के बारे में बताया कि आखिर किस स्टेज पर इसे यूज किया जा सकता है, और इसके लिए क्या तरीका होना चाहिए। 

बेंगकुंग बैली बाइंड

belly bind process

स्वाति जी के अनुसार यह एक तरह की नैचुरल टेक्निक है, जिसे महिलाएं डिलीवरी के बाद यानी अपने जापा पीरियड के दौरान इस्तेमाल करती हैं। इस टेक्निक के जरिए करीबन एक मीटर कपड़े को बेल्ट की तरह अपने हिप्स से लेकर ऊपर तक रैप किया जाता है। लेकिन रैप करते वक्त कपड़े को छाती तक ना ले जायें, बल्कि इसे नाभी तक रैप करें। अगर आप छाती तक रैप करती हैं तो समस्याएं पैदा हो सकती हैं। वहीं इसे रैप करने का तरीका अलग-अलग है, कई महिलाएँ इसे नॉट कर के भी रैप करती हैं। 

swati bathwal

मलेशियन टेक्निक में बार-बार नॉट करते हैं, जैसे एक बार रैप किया तब नॉट बनाया और दूसरी बार रैप किया फिर नॉट बनाया। जिन लोगों को यह टेक्निक समझ में न आए वह इसे नॉर्मल भी बांध सकती हैं, जिस तरह नॉर्मल धोती बांधी जाती है। ज्यादातर लोग नॉट कर के रैप करते हैं, लेकिन ऐसा करते वक्त बीच में स्पेस नहीं दिया जाना चाहिए है। अगर आप ऐसा करती हैं तो यह गलत तरीका है। अगर आप नॉट कर के कपड़े को रैप कर रही हैं ध्यान रखें कि वह सभी एक समान रैप हों और बीच में किसी तरह का गैप न हो। (डबल चिन को दूर करने के लिए करें ये फेस मसाज)

इसे भी पढ़ें:प्रेग्‍नेंसी के दौरान हाइड्रेटेड रहना क्‍यों जरूरी है? एक्‍सपर्ट से जानें

 

Recommended Video

कितने दिन तक का है ये प्रोसेस

take precaution

बैली बाइंड टेक्निक को आजमा रही हैं तो डिलीवरी के बाद महिलाओं को पूरे 40 दिनों तक इसे फॉलो करना होगा। मलमल या फिर कॉटन साड़ी से भी इस टेक्निक को किया जा सकता है। अगर आप डिलीवरी के बाद वापस अपनी शेप में आना चाहती हैं तो इसे 40 दिनों तक पूरे 7 से 8 घंटे तक बांधे रखना होगा। रैप करते वक्त ध्यान रखें कि यह अधिक टाइट या फिर लूज नहीं होना चाहिए। अगर बहुत अधिक टाइट रैप करती हैं तो इससे आपको सांस लेने या फिर अन्य तरीके की मूवमेंट में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। वहीं अगर आप नॉर्मल कॉटन कपड़ा इस्तेमाल कर रही हैं तो इसकी लंबाई कम से कम एक फीट जरूर होनी चाहिए, जिससे एक दो बार आसानी से रैप किया जा सके। साउथ ईस्ट एशिया में ये टेक्निक काफी प्रयोग की जा रही है।

इसे भी पढ़ें: सोते समय मुंह से निकलती है लार तो अपनाएं ये घरेलू उपाय 

बरते ये सावधानियाँ

wrape belly bind

स्वाति जी के अनुसार नॉर्मल डिलीवरी में इस टेक्निक की मदद से बॉडी को वापस शेप में लाने में अधिक समय नहीं लगता है, लेकिन जिनकी डिलीवरी सीजेरियन के जरिए होती है, उन्हें वापस शेप में आने में थोड़ा टाइम लगता है। हालांकि अगर धैर्य के साथ इस प्रक्रिया को आजमाया जाए तो आप आसानी से बॉडी को शेप में ला सकती हैं। वहीं सीजेरियन के जरिए जिन महिलाओं की डिलीवरी हुई है, वो इस टेक्निक को करने से पहले डॉक्टर से जरूर परामर्श ले लें। इसके अलावा अगर टाँके पूरी तरह से नहीं सूखे हैं, तो इस टेक्निक को न आजमाएं, इससे आपको परेशानी हो सकती हैं।

वहीं डिलीवरी के बाद आपको किसी तरह की परेशानियां हो तो इस टेक्निक को करने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर परामर्श लें। अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।