योग इंस्टिट्यूट के डायरेक्‍टर डॉक्‍टर हंसजी योगेंद्र का कहना है कि ''जब हाउसवाइफ्स की बात आती है, तो उन्‍हें वास्तव में जितना श्रेय दिया जाता है, उससे कहीं अधिक काम और तनाव से गुजरती हैं। किचन की जिम्मेदारियों से लेकर घर की साफ-सफाई और रख-रखाव तक, बच्चों की देखभाल करने और यहां तक कि उनका होमवर्क कराने तक, और न जाने क्या-क्‍या? इतना सब करने के बावजूद वह अपने बारे में नहीं सोचती है और न ही अपनी जरूरतों का ख्याल रखती है।''  

हालांकि, एक महिला, विशेष रूप से एक गृहिणी को हमेशा खुद को सबसे पहले देखना चाहिए। जब वह सुखी और हेल्‍दी होगी तभी परिवार सुखी और स्वस्थ रहेगा। एक भरा हुआ घड़ा ही खाली गिलास भर पाएगा। तनाव और थकान को दूर करने के लिए और इष्टतम स्वास्थ्य लेवल पर रहने के लिए, प्रत्येक गृहिणी को योग इंस्टिट्यूट के निदेशक डॉक्‍टर हंसजी योगेंद्र द्वारा सुझाए गए इन योगासनों का अभ्यास करना चाहिए। आइए जानें कौन से हैं ये योग और इसे कैसे किया जा सकता है?

भुजंगासन

Bhujangasana for housewives

यह एक साधारण पीछे की ओर झुकने वाला आसन है जो तनाव और थकान को कम करने में मदद करता है। भुजंगासन घर के सभी काम करने से होने वाले पीठ के निचले हिस्से के दर्द से कुछ राहत पाने के लिए किया जा सकता है।

विधि

  • इसे करने के लिए पेट के बल लेट जाएं और हाथों को शरीर के बगल में रखें।
  • हाथों को चेस्‍ट की बगल में रखें, उन्हें कोहनियों पर झुकाएं।
  • सांस भरते हुए, अपने सिर और गर्दन को ऊपर उठाकर छत की ओर देखें। 
  • अपने ऊपरी शरीर को केवल नाभि तक उठाएं और पैरों को एक साथ रखें।
  • 6 सेकेंड के लिए अंतिम स्थिति में रहें और धीरे से आसन से बाहर आ जाएं।

यस्तिकासन

Yastikasana for housewives

यस्तिक का अर्थ है, 'स्टिक' और आसन का वही अर्थ होता है। यह शरीर की सभी मसल्‍स को फैलाता है। यह मसल्‍स के टिशूओं के साथ-साथ अंगों पर भी गहरा प्रेशर डालता है, जिससे ब्‍लड सर्कुलेशन में सुधारहोता है।

विधि

  • पैरों को एक साथ और हाथों को शरीर के बगल में रखकर पीठ के बल लेट जाएं।
  • सांस भरते हुए अपने दोनों हाथों को जमीन से सिर के ऊपर उठाएं। 
  • पैरों की उंगलियों को नीचे की ओर रखें।
  • इससे शरीर में विपरीत स्‍ट्रेच आता है।
  • सामान्य श्वास के साथ 5-6 सेकेंड के लिए इस स्थिति में रहें और आराम करें।

Recommended Video

सर्वांगासन

sarvangasana for housewives

दिन भर खड़े रहने से पैरों को शरीर के वजन का बहुत अधिक प्रेशर महसूस होता है। ब्‍लड फ्लो को उलटने और सर्कुलेशन में सुधार के लिए कुछ उलटा आवश्यक है। इसके अलावा, यह आपको आत्मविश्वास और आत्मनिर्भरता की भावना देकर आपके दिमाग को भी सतर्क करता है।

इसे जरूर पढ़ें:  योग करती है जो नारी, नहीं होती है उसको कोई बीमारी

विधि

  • पैरों को आपस में मिलाकर और हाथों को शरीर के बगल में रखकर पीठ के बल लेट जाएं।
  • दोनों घुटनों और पैरों को हिप्‍स के पास मोड़ें। 
  • हिप्‍स को ऊपर उठाने के लिए हाथों का उपयोग करते हुए, सांस छोड़ते हुए, पैरों को एक साथ ऊपर उठाएं। दोनों घुटनों को मोड़कर हिप्‍स से शरीर के साथ एक कोण बनाएं।
  • धीरे-धीरे, पैर की उंगलियों को छत की ओर इशारा करते हुए पैरों को सीधा करें। 
  • घुटने एकदम सीधे रखें। 
  • पीठ को सहारा देने के लिए अपने हाथों का इस्‍तेमाल करें।
  • ठुड्डी को जुगुलर नॉच में सेट करें।
  • 10-12 सेकेंड के लिए इस मुद्रा को बनाए रखें। 
  • धीरे-धीरे रिवर्स तरीके से मुद्रा को छोड़ दें।

आप भी इन योगासन को करके खुद को फिट रख सकती हैं। लेकिन, अगर आप पहली बार योग कर रही हैं तो किसी एक्‍सपर्ट की निगरानी में इन योगासन को करें। फिटनेस से जुड़ी और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik & Shutterstock.com