हर मौके पर नई साड़ी पहनने की चाह लगभग हर महिला को होती है। और आप एक अच्‍छी साड़ी खरीदने के लिए अपना बहुत ज्‍यादा समय और पैसा भी लगाती हैं, लेकिन बस एक या दो बार पहनने के बाद उसे अपनी अलमारी में रख देती हैं। और काफी दिनों के बाद जब आपको उस साड़ी की याद आती हैं तो उसे निकालने पर आपके हाथ सिर्फ निराशा ही लगती हैं। जी हां क्‍योंकि आपकी फेवरेट साड़ी, उस समय तक पहनने लायक नहीं रहती है। या तो उसमें हैंगर का दाग लग गया होता है या फिर कीड़ों ने उसे काट लिया होता है। लेकिन आप परेशान ना हो क्‍योंकि आज एक्‍सपर्ट फैशन डिज़ाइनर नफीसा विलियम्स आपको कुछ टिप्‍स के बारे में बताएंगे जिससे आपकी साड़ियां सालों तक नई जैसी बनी रहेंगी।

Read more: बनारसी साड़ी का रखरखाव होगा सही तो सालों बनी रहेंगी नई

कीड़ों से बचाने के लिए
saree care tips neem inside

साड़ियों से सिल्वर फिश और मॉथ्स को दूर रखने के लिए फिनाइल की गोलियां का इस्तेमाल कर सकती हैं, लेकिन ध्यान रहे की ये साड़ी के कपड़े से दूर हो, वरना इससे साड़ी का रंग या जरी खराब हो सकती है। आप चाहे तो नीम की पत्तियां को भी अपनी अलमारी में रख सकती हैं। इससे भी आपकी साड़ियां कीड़ों से बची रह सकती हैं।

साड़ियां रखने के लिए बैग्‍स का इस्‍तेमाल
saree care tips inside

साड़ियों को रखने के लिए पॉलीथिन बैग का इस्‍तेमाल न करें क्‍योंकि इससे साड़ियों तक हवा पहुंचना भी मुश्किल हो जाता है। साड़ियों को रखने के लिए कॉटन के साड़ी बैग्स का इस्‍तेमाल करें या उन्हें कॉटन के 1 साफ कपड़े में लपेट कर रखें। लेकिन ध्‍यान रहें कि 1 साथ सिर्फ 2 से 3 साड़ियां ही रखें। धुली और गंदी साडियों को एक साथ न रखें। 1 बार पहनी गई साड़ी गलती से भी अलमारी में न रखें। उनके लिए अलग जगह बनाएं।

समय-समय पर साड़ियों को हवा लगाएं

साड़ियों में रेगुलर हवा लगना भी जरूरी है, ऐसा न होने से, थोड़े समय बाद साडी में से बदबू आने लग सकती है। इससे बचने के लिए हर 1-2 महीने के बाद, साड़ी को निकालकर उसे थोड़ी हवा लगने दें। लेकिन ध्यान रहे, साड़ी बहुत ज्‍यादा देर धूप में ना रखें नहीं तो साड़ी का कलर खराब हो सकता है।

Read more: बनारसी साड़ी हो गई है पुरानी तो उससे बनाएं ये नए आउटफिट

एम्ब्रॉइडरी की केयर

taking care of saree

वर्क या एम्ब्रॉइडरी वाली साड़ियों को सही तरीके से रखने के लिए उनके अंदर की तरफ एक लाइनिंग लगवा लें, जिससे उसकी सिलाई और धागे सेफ रहें। इसके अलावा ये बात भी ध्यान में रखें कि, इन साड़ियों को इस तरह लपेट कर रखें कि इनके वर्क वाली सतह अंदर हो। इसके अलावा भारी साडियां, जैसे कि जरी की कढ़ाई वाली या भारी बॉर्डर वाली जरी के काम की साड़ी को तह लगा कर मलमल के कपड़े में लपेट कर रखें। उन्हें हैंगर में न टांगें।

सही हैंगर का इस्‍तेमाल
taking care of saree

सिल्क की साड़ियों को टांगने के लिए हैंगर से बेहतर कुछ और हो ही नहीं सकता है। लेकिन साड़ियों के लिए प्लास्टिक के हैंगर्स ही लें। मेटल के हैंगर से साड़ी पर हमेशा के लिए, जंग के दाग लग सकते हैं।

अगर आप इन 5 बातों को ध्‍यान में रखेंगी तो आपकी साड़ियां सालों साल तक रहेंगी नई जैसी।