मीरा राइज़िंग मॉडर्न जमाने की मीरा की कहानी बयां करती है जो आपके कई सारे अनसुलझे सवालों के जवाब दे सकती है। इस किताब को इंडियन लेखक नंदिता चक्रबर्ती ने लिखा है जो आपको ट्रेडिशनल वेल्यूज़ और मॉडर्निटी के बीच में बैलेंस बैठाने में मदद कर सकती है। आप यूं कह सकते हैं कि ये किताब ट्रेडिशनल वेल्यूज़ और मॉर्डर्निटी के बीच में ब्रिज बनाती है। 

मीरा की कहानी

मीरा की कहानी हमेशा से इंडियन्स और लेखकों के लिए रिसर्च का टॉपिक रही है। बैरागी कह लो या जोगन... मीरा तो थी कृष्ण की दीवानी। एक लाइन में हमेशा मीरा का परिचय कृष्ण की दीवानी के रुप में किया जाता है जिसके लिए कृष्ण ही सबकुछ थे। 

लेकिन ये तो थी 15वीं सदी की बात... अगर आज के जमाने में मीरा जैसी जोगन मिल जाए तो क्या कहेंगे? 

शायद आप भी उसे पागल समझेंगे जैसे मीरा को अपने समय में समझा गया था। लेकिन अगर देखा जाए तो मीरा ने पागलपन की भी एक अलग परिभाषा लोगों के सामने रखी और अपने अराध्य की भी। 

और अब ऐसी ही नई परिभाषा नंदिता चक्रबर्ती अपनी किताब मीरा राइज़िंग के जरिये रख रही है। 

Read More: बिग बॉस के घर में भी अब लड़कियां सुरक्षित नहीं, आकाश के हरकत से फैन्स बौखलाए

मीरा राइज़िंग 

ये कहानी है एक इंडियन गर्ल मीरा की जो मेलबर्न में पढ़ाई करती है। इसका जन्म पितृसत्तामक परिवार में हुआ होता है जहां इसके पिता को एक बेटा चाहिए था। लेकिन मीरा को गोदी में लेने के बाद इसके पिता की सोच बदल जाती है और इसकी परवरिश अच्छे से करते हैं। 

Nandita Chakraborty Meera Rising inside

मीरा मेलबर्न में माइक्रोबॉयोलॉजिस्ट की पढ़ाई करती है। वहां एक दिन बस स्टेंड में खड़े रहती है तो वहीं कुछ लड़कों का ग्रुप भी खड़े होकर सिगरेट पीता है। यहीं मीरा और ब्राइन की मुलाकात होती है। ब्राइन बहुत ही ज्यादा हैंडसम है और उसके घर में थोड़ी सी प्रॉब्लम होती है इसलिए वो ज्यादातर समय अपने घर से बाहर रहता है। वहीं मीरा सांवली औऱ नॉर्मल लड़की है जिसके खुद के कुछ वैल्युज़ हैं। इस बुक का पहला हाफ मीरा के ट्रेडिशनल वेल्यूज़ और ब्रायन के मॉडर्न वेल्यूज़ के बीच में तकरार और प्यार को दिखाता है। 

वहीं दूसरा मीरा के कृष्ण के प्रति प्यार को दिखाता है। 

Read More: फेसबुक, हॉलीवुड, बॉलीवुड... क्या कोई ऐसी जगह है जहां यौन उत्पीड़न ना होता हो?

बेस्ट पार्ट

बुक का सबसे बेस्ट पार्ट है- मीरा की शादी। 

Nandita Chakraborty Meera Rising inside

इसमें मीरा की शादी होती है। नॉर्मली इंडियन सोसायटी में शादी को फैमिली आगे बढ़ाने का जरिया माना जाता है। लेकिन मीरा और उसके पति दोस्तों की तरह रहते हैं और दोनों इस रिश्ते में काफी खुश भी रहते हैं। भले ही इस रिश्ते को मीरा की सास पसंद नहीं करती लेकिन वो अपने बेटे के कारण कुछ बोल भी नहीं पाती। लेकिन कुछ समय बाद मीरा का पति मर जाता है। और उसकी सास इसके लिए मीरा को दोष देती है। इसके बाद शुरू होती है मीरा के जोगन बनने की कहानी। 

शादी की पसोपेश को करती है दूर

ये बुक हर लड़की को अपने शादी से पहले जरूर पढ़नी चाहिए। क्योंकि अगर शादी को लेकर किसी तरह की पसोपेश है तो उसे दूर करने में ये किताब आपकी मदद करेगी। 

इस किताब की एंडिंग काफी अच्छी है। ब्रायन मीरा के पास लौटकर आता है। लेकिन अब मीरा कृष्ण के प्रति समर्पित हो गई है। जब भी आप अपने वैल्यूज़ को लेकर दुविधा में हो तो ये किताब आपको गाइड कर सकती है। 

Read More: कजरारी आंखों वाली बाउंसर बखूबी निभा रहीं हैं महिलाओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी

  • Gayatree Verma
  • Her Zindagi Editorial