क्‍या कभी आपने पीले रंग का तरबूज कभी देखा या खाया है? अगर नहीं, तो इसके फायदे जानने के बाद आप इसे एक बार जरूर ट्राई करना चाहेंगे। पीला तरबूज विटामिन-बी, आयरन, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस और विटामिन-ए और सी के स्वादिष्ट स्रोत के रूप में जाना जाता है। इसलिए, अपनी डाइट में पीले तरबूज को शामिल करने से आपको कई हेल्‍दी बेनिफिट्स का मजा लेने में मदद मिल सकती है।

जी हां पश्चिम अफ्रीका में उत्पन्न होने वाले तरबूज सबसे हेल्‍दी फलों में से एक हैं। यह 92% पानी के साथ पोषक तत्वों से भरपूर होता है। हालांकि, लाल तरबूज सबसे लोकप्रिय किस्म है, लेकिन पीला तरबूज भी गर्मियों का फल है। इसकी सबसे अच्‍छी उपज मई और जून के महीनों में होती है और गर्म और आर्द्र वातावरण में पनपता है। इस फल के बारे में हमें शेफ कुणाल कपूर के इंस्‍टाग्राम को देखने के बाद पता चला। 

पीले तरबूज के साथ अपनी फोटो शेयर करते हुए उन्‍होंने कैप्‍शन में लिखा, ''पीला तरबूज के साथ एक सेल्फी तो बनती है। पारंपरिक लाल तरबूज का एक मजेदार विकल्प पीला तरबूज है। आप लोगों ने इसे अब तक मेरे फ़ीड पर यहां तक कि इसकी रेसिपी भी देख लिया होगा।''

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Kunal Kapur (@chefkunal)

क्या पीला तरबूज प्राकृतिक हैं?

बेशक! तरबूज का गूदा पीला होना एक प्राकृतिक उत्परिवर्तन है। वास्तव में, हमारी व्यावसायिक किस्म का प्रवर्तक, जो अफ्रीका से आता है, एक पीले से सफेद मांस वाला फल है। लाल तरबूज की तुलना में फल में मीठा और शहद जैसा स्वाद होता है, लेकिन कई समान पोषण लाभ होते हैं। पीला तरबूज फल अब व्यापक रूप से उपलब्ध है।

इसे जरूर पढ़ें:तरबूज के बीजों को थूकने की बजाय खाने से बॉडी में आते हैं ये 7 बदलाव

वेट लॉस में मददगार

yellow water melon for weight loss

पीले तरबूज में ऐसे यौगिक होते हैं, जो फैट सेल्‍स पर एक दमनकारी प्रभाव डालते हैं। एनर्जी को फैट के रूप में स्‍टोर करने में मदद करते हैं। इसके अलावा, फल में पानी और फाइबर की बहुत अधिक मात्रा आपको बहुत अधिक कैलोरी का उपभोग किए बिना पूर्ण महसूस करते हैं। इसलिए, यदि आप अपने वजन को नियंत्रण में रखना चाहती हैं, तो पीला तरबूज अपने आहार में शामिल करने के लिए एक बेहतरीन विकल्‍प है।

हेल्‍दी डाइजेशन में मददगार

पीला तरबूज खाने से पेट को ठंडक मिलती है क्योंकि इसमें पानी की मात्रा अधिक होती है। इतना ही नहीं, फल हेल्‍दी डाइजेशन को बनाए रखने और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट के अल्सर को रोकने के लिए आवश्यक फाइबर भी प्रदान करता है।

आंखों की हेल्‍थ के लिए अच्‍छा

yellow water melon for eye health 

पीला तरबूज में मौजूद विटामिन-ए और कैरोटीनॉयड आंखों की हेल्‍थ के लिए बहुत अच्छा होता है, जिससे विभिन्न नेत्र रोगों का खतरा कम होता है। इस फल का नियमित रूप से सेवन करने से आपको विटामिन सी की आपूर्ति भी होती है, जो मोतियाबिंद की संभावना को कम करने वाला एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है।

इम्‍यून सिस्‍टम होता है बेहतर

पीले तरबूज में पाया जाने वाला विटामिन-बी6 एंटीबॉडी के उत्पादन को बढ़ाता है, जो रोग पैदा करने वाले रोगाणुओं से लड़ने के लिए जिम्मेदार होते हैं। यह विटामिन प्रोटीन को तोड़ने में भी मदद करता है ताकि शरीर द्वारा उन्हें बेहतर तरीके से अवशोषित किया जा सके। पीला तरबूज भी विटामिन-सी का एक अच्छा स्रोत है, जो शरीर को हानिकारक फ्री रेडिकल्‍स और इसलिए इंफेक्‍शन्‍स से बचाता है।

हार्ट हेल्‍थ में सुधार

yellow water melon for heart

पीले तरबूज के मांस का सफेद भाग, साथ ही साथ इसकी हरी त्वचा, साइट्रलाइन, एक अमीनो एसिड से भरपूर होती है। साइट्रलाइन का नियमित सेवन ब्‍लड प्रेशर के लेवल को बनाए रखता है और सर्कुलेशन में सुधार करता है, जिससे हार्ट के अच्छे स्वास्थ्य में योगदान होता है।

इसे जरूर पढ़ें:तरबूज गलत समय में खाया तो हो जाएंगी बीमार, हो सकती हैं ये 3 समस्‍याएं

मसल्‍स में दर्द और थकान से राहत

पीले तरबूज में साइट्रलाइन की मौजूदगी इसे मसल्‍स के दर्द से राहत के लिए एक बेहतरीन भोजन बनाती है। Citrulline बेहतर ब्लड सर्कुलेशन में सहायता करता है, जो एक्‍सरसाइज के बाद की मसल्‍स की थकान को दूर करने के लिए आवश्यक है। यही कारण है कि तरबूज का रस एथलीटों के लिए एक आदर्श स्वास्थ्य पेय माना जाता है।

Recommended Video

सावधानी

फलों के सलाद और स्मूदी में पीले तरबूज को शामिल करने से आपको आवश्यक पोषण मिलता है। लेकिन इस फल को अधिक मात्रा में खाना हानिकारक हो सकता है। तेजी से वजन घटाने की ओर झुकाव रखने वाले लोग इसकी हाई फ्लूएड सामग्री के कारण केवल पीले तरबूज पर निर्भर हो सकते हैं लेकिन इससे शरीर में  अन्य पोषक तत्वों की कमी हो सकती है और मसल्‍स का लॉस हो सकता है। 

इतना ही नहीं, अधिक मात्रा में फल खाने से शरीर में पोटेशियम की वृद्धि भी हो सकती है, जिससे अनियमित दिल की धड़कन और मसल्‍स पर नियंत्रण में कमी आती है। फल में चीनी की मात्रा भी अधिक होती है, इसलिए डायबिटीज रोगियों को इसका सेवन करते समय सावधानी बरतनी चाहिए। 

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com