सफेद रंग स्वच्छता और शांति का प्रतीक होता है लेकिन कुछ सफेद चीजें हमारे शरीर में अशांति फैला रहे हैं। इसलिए इनसे दूरी बनाकर रखना बेहद जरूरी होता है। जी हां हम आपके किचन में मौजूद और आपके खाने के लिए बहुत जरूरी समझी जाने वाली 3 सुंदर, सुंगधित और स्वादिष्ट जहर की बात कर रहे हैं। जिसे आप सफेद चीनी, सफेद नमक और सफेद मैदा के नाम से जानते हैं। और अगर आप हेल्दी रहना चाहती हैं तो इन तीनों टेस्टी जहर को आज ही अपने भोजन से बाहर कर दें। 

जी हां हमारी किचन में मौजूद ज्यादातर चीजें किसी न किसी बीमारी या हेल्थ से जुड़ी परेशानी को दूर करती हैं, लेकिन बदलती लाइफस्टाइल के कारण आज हमारी किचन में कई ऐसी चीजें शामिल हो गई हैं जो आपके शरीर को फायदों की जगह नुकसान पहुंचा रही हैं। आइए ऐसी ही 3 चीजों के बारे में जानें जो धीमे-धीमे आपके शरीर को अंदर से खोखाला बना रही हैं। इस बारे में ज्यादा जानकारी के लिए हमने आयुर्वेदिक एक्सपर्ट डॉक्टर अबरार मुल्तानी से बात की तब उन्होंने हमें इन 3 चीजों के बारे में विस्तार से बताया। आइए आप भी हमारे साथ इसके बारे में जानें।

इसे जरूर पढ़ें: कहीं आपके बढ़ते मोटापे और diabetes का कारण ये 5 white foods तो नहीं

दानेदार सफेद चीनी

white sugar side effects inside

चीनी एक दानेदार खूबसूरत सफेद रंग का पदार्थ है जिससे आजकल मिठास का पर्याय माना जाता है। सभी मीठी चीजों की जगह यह चीनी ले चुकी है। गुड, मिश्री, खजूर को लोग अब पुराने लोगों की चीजें बताकर मुंह फेर लेते हैं। अबरार मुल्ताानी जी का कहना हैं कि चीनी को नैकेड कैलोरी कहते हैं। इसमें कोई नेचुरल मिनरल या पोषक पदार्थ नहीं होते हैं। और इन चीजों के मौजूद ना होने पर चीनी (कार्बोहाइड्रेट) का डाइजेशन ठीक से नहीं हो पाता है। और यह अधपचा कार्बोहाइड्रेट बॉडी में टॉक्सिन का निर्माण करते हैं। साथ ही जब हम लगातार चीनी का सेवन करते हैं तो ब्लड में अधिक एसिड का निर्माण होता है। इससे हड्डियां कमजोर होती है, दांत सड़ने लगते हैं, लिवर की कार्यक्षमता पर असर पड़ता है। इसलिए इसकी जगह मिश्री या गुड़ का इस्तेमाल करना फायदेमंद होता है। अगर आप अच्‍छी क्‍वालिटी की मिश्री घर बैठे खरीदना चाहती हैं तो इसका मार्केट प्राइस 200 रुपये है, लेकिन इसे आप यहां से 149 रुपये में खरीद सकती हैं

सफेद नमक

white salt side effects inside

ठंडे और पहाड़ी जगहों पर रहने वाले लोगों में (किसी-किसी) में आयोडीन की कमी देखी जाती है, जिसके कारण उन्हें घेघा नाम की बीमारी हो सकती है। इस बीमारी से बचाने के लिए ऐसे देशों ने आयोडाइज्ड  नामक के लिए अभियान चलाया। लेकिन सभी देशों ने आयोडाइज्ड नमक को अनिवार्य रूप से अपना लिया। लेकिन क्या आप जानती हैं कि जरूरत से ज्यादा आयोडीन (1100mcg) प्रतिदिन व्यस्कों में और (200 mcg) प्रतिदिन बच्चों में लेते है तो कई तरह की समस्याएं जैसे थायरॉयड, सिरदर्द, डायरिया, दस्त, लिम्फनोड का बढ़ना, डिप्रेशन आदि समस्याएं हो सकती है। इसके अलावा सफेद नमक ब्लड प्रेशर को अनियंत्रित, बालों को नुकसान, शरीर में सोडियम का लेवल बढ़ा देता है, जिससे ब्लड वेसल्स फैलने लगती हैं। इसकी जगह पर सेंधा नमक का इस्तेमाल करना चाहिए। अगर आप घर बैठे अच्‍छी क्‍वालिटी का सेंधा नमक खरीदना चाहती हैं तो इसका मार्केट प्राइस 250 रुपये है, लेकिन इसे आप यहां से 149 रुपये में खरीद सकती हैं

सफेद मैदा

maida side effects health inside

आजकल लोग चोकर और बीज युक्त आटे को छोड़कर सुंदर और सुंगधित आटे से बनी रोटियां और ब्रेड खाने लगे हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसमें पोषक तत्वों की कमी के कारण कई तरह के रोग जैसे एनीमिया, बेरी-बेरी आदि होने लगे हैं। आपको यह बात सुनकर भी हैरानी होगी कि परिष्कृत आटे में नॉर्मल आटे की तुलना में 80 प्रतिशत पोषक तत्वों की कमी पाई जाती है, विटामिन और मिनरल 75 प्रतिशत कम और फाइबर की मात्रा तो 90 से 95 प्रतिशत कम पाई जाती है। इसके अलावा मैदा आंतों के लिए अच्छा नही होता है, मैदा के अधिक सेवन से कब्ज और बवासीर होने का भी खतरा भी बहुत ज्यादा बढ़ जाता है। साथ ही इससे मोटापा और कोलोन कैंसर का खतरा भी कई गुणा बढ़ जाता है। इसलिए इसकी जगह पर आपको चोकरयुक्त आटे का इस्तेमाल करें।

इसे जरूर पढ़ें: 7 दिन 7 तरह के जूस पीएं और 7 फायदे पाएं

अगर आप भी इन 3 स्वादिष्ट जहर का बहुत ज्यादा इस्तेमाल करते हैं तो आज से ही इन्हें अपने किचन से बाहर कर दें।