तारगोन एक तरह की हर्ब है जो खाने का स्वाद बढ़ाने के साथ-साथ कई सारे स्वास्थ्य लाभ भी देती है। इसकी खुशबू और पोषक तत्वों की वजह से तारगोन फ्रेंच व्यंजन को पकाने के दौरान खूब इस्तेमाल किया जाता है। खाने के अलावा इसका इस्तेमाल कई घरेलू उपचारों के लिए भी किया जाता है। खास बात है कि तारगोन के पत्तों को ताजा और ड्राई दोनों तरीक़े से इस्तेमाल करते हैं। इसके ताजे पत्तों को 4 से 5 दिनों तक इस्तेमाल किया जा सकता है। वहीं आप चाहें तो इसके पत्तों को ड्राई कर एक एयर टाइट कंटेनर में डालकर रख सकती हैं। इस तरह आप लंबे वक्त तक इसे आसानी से स्टोर कर सकती हैं।

तारगोन में कई अलग-अलग वैरायटी होती हैं, जिनमें फ्रेंच तारगोन काफी कॉमन है। वहीं तारगोन में कार्ब्स, मैग्नीशियम, आयरन, कैलोरी, और पोटैशियम जैसे पोषक तत्व होते हैं। ब्रेन हेल्थ से लेकर मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने तक ये पोषक तत्व शरीर के लिए बेहद आवश्यक होते हैं। तो चलिए जानते हैं तारगोन के पत्ते से जुड़े हेल्थ बेनिफिट्स।

हड्डियों को हेल्दी रखने में सहायक हैं तारगोन

bone health improve

कई लोग तारगोन के पत्तों को उबाल कर टी के रूप में सेवन करते हैं। यह कैल्शियम व फास्फोरस से समृद्ध होते हैं जो हड्डियों को मज़बूत करने में सहायक हैं। हड्डियों को मज़बूत रखने के अलावा यह मसल्स को भी हेल्दी रखने में मदद करते हैं। दरअसल यह शरीर में क्रिएटिनिन को सोखने के अलावा मांसपेशियों के विकास और मांसपेशियों को बढ़ाने में भी मदद करता है।

भूख न लगने की समस्या होगी दूर

hunger issues

भूख न लगने के कई कारण हो सकते हैं, कई बार स्ट्रेस भी मुख्य वजह हो सकता है, जिसका असर सेहत पर दिखना शुरू हो जाता है। हार्मोन (ghrelin) और (leptin) में असंतुलन भी भूख में कमी का कारण हो सकता है। ये हार्मोन एनर्जी बैलेंस के लिए महत्वपूर्ण हैं। वहीं (ghrelin) हंगर हार्मोन माना जाता है, जबकि (leptin) को एक तृप्ति हार्मोन कहा जाता है। इसलिए जब (ghrelin) बढ़ता है तो यह भूख को भी बढ़ाता है। वहीं भूख को उत्तेजित करने के लिए तारगोन के अर्क का सेवन करना फायदेमंद है। वहीं इंसुलिन और लेप्टिन के स्राव में कमी होने की वजह से शरीर का वजन बढ़ने की समस्या देखी गई है।

इसे भी पढ़ें: जुकीनी के कुछ ऐसे हेल्थ बेनिफिट्स जो आपने पहले नहीं सुने होंगे, डाइट में जरूर करें शामिल

अच्छी नींद के लिए डाइट में शामिल करें तारगोन

improve sleep pattern

रिसर्च में ऐसा पाया गया है कि नींद पूरी नहीं होने की वजह से सेहत पर गहरा असर पड़ता है। यही नहीं इससे कई गंभीर बीमारियाँ होने का भी ख़तरा रहता है। आर्टिमिसिया प्रजाती के ये पौधे जिसमें तारगोन भी शामिल है, इसका उपयोग कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है। ख़राब नींद की समस्या को दूर करने के लिए आप चाहें तो इसका इस्तेमाल कर सकती हैं।

 

इंसुलिन सेंसिटिविटी को सुधारने में करता है मदद

a tarragon in french

इंसुलिन एक हार्मोन है जो सेल में ग्लूकोज़ लाने का काम करती है, जो बाद में एनर्जी के रूप में काम करता है। डाइट और इंफ्लामेशन इंसुलिन प्रतिरोध का कारण बन सकती हैं, जिसकी वजह से ग्लूकोज़ का स्तर बढ़ जाता है। तारगोन बढ़े हुए इंसुलिन के स्तर को नियंत्रित करने का काम करता है। वहीं शरीर में लगातार ग्लुकोज के बढ़ने से डायबिटीज जैसी बीमारी का ख़तरा रहता है, ऐसे में आप चाहें तो सलाद या फिर सूप में ड्राई तारगोन का उपयोग कर सकती हैं।

इसे भी पढ़ें: खाने में स्वाद से भरी चना दाल के हैं सेहत के लिए कई फायदे, डाइट में जरूर करें शामिल

पेट की समस्याओं को दूर करने में मदद करता है तारगोन

tarragon health

तारगोन में एंटीऑक्सिडेंट के गुण होते हैं जो इंफ्लामेशन के लक्षणों को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा यह पाचन से जुड़ी समस्याओं को भी दूर करने में सहायक होते हैं। वहीं अन्य प्रकार की जड़ी-बूटियों की तुलना में तारगोन सूजन और सूजन के कारण होने वाली लालिमा के इलाज के लिए भी काफी फायदेमंद है। इसलिए खाने में जिस तरह हरे धनिये का इस्तेमाल करती हैं, ठीक उसी तरह तारगोन के पत्तों का भी सेवन किया जा सकता है। गार्निश, सलाद, और अंडे जैसी चीज़ों में तारगोन को ज़रूर शामिल करें।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ