कच्‍चे फूड्स खाना लगभग सभी को अच्‍छा लगते है।
और हो भी क्‍यों न
एक तो हेल्‍दी फूड्स बनाने का समय नहीं है,
दूसरा कच्‍चे फूड्स हेल्‍दी लगते हैं।  
और कई रिसर्च ने इस बात का भी पता चला है कि कच्‍चे फल और सब्‍जी खाने से ब्‍लडप्रेशर और हार्ट डिजीज का खतरा कम होता है।

बहुत से लोगों को लगता हैं कि कच्‍चे फूड्स में पोषक तत्‍व की मात्रा बहुत ज्‍यादा होती है। हालांकि ये बात कुछ ही फूड्स पर लागू होती है, क्‍योंकि खाना पकाने से वास्‍तव में कुछ फूड्स में पोषक तत्‍वों की जैविक उपलब्‍धता बढ़ जाती है। जी हां पकाए जाने पर कुछ सब्जियां पहले से ज्‍यादा हेल्‍दी हो जाती है।

कभी-कभी कच्चा खाना ठीक है, लेकिन अगर आपकी डाइट में 70 प्रतिशत से अधिक कच्चे फूड्स शामिल हैं तो ये आपको नुकसान पहुंचा सकते है। यहां उन कारणों के बारे में बताया गया है जिनके चलते आपको कच्‍चे फूड्स खाने से बचना चाहिए।

इसे जरूर पढ़ें: इस विटामिन की कमी से महिलाओं की बॉडी में होते हैं कई रोग, ना करें नजरअंदाज 

अनियमित पीरियड्स
periods problem diet

आपको सुनकर थोड़ा अजीब लग रहा होगा, लेकिन यह बात सच हैं कि कच्‍चे फूड्स खाने से आपके पीरियड्स पर असर पड़ता है। एक रिसर्च के अनुसार, रॉ वेगन डाइट लेने पर 70 प्रतिशत महिलाओं ने अनियमित पीरियड्स का अनुभव किया। जबकि खराब मामलों में एक तिहाई को पूर्ण एमेनोरिया था, जिसका अर्थ है कि उनके पीरियड्स पूरी तरह से रुक गए। शोधकर्ताओं को संदेह है कि कच्चे फूड डाइट में कम कैलोरी अनियमित पीरियड्स के लिए एक महत्वपूर्ण कारक हो सकता है।

पोषक तत्‍वों की कमी

कच्‍चे फूड्स खाने से आपके शरीर में पोषक तत्‍वों की कमी हो सकती हैं। जी हां ये बात आपको थोड़ी अजीब लग रही होगी क्‍योंकि ज्‍यादातर महिलाओं का मानना हैं कि कच्‍चे फूड्स हमें अधिक पोषक तत्‍व प्रदान करते हैं। लेकिन आपके डाइट में आवश्‍यक पोषक तत्‍वों विटामिन बी-12 की कमी हो सकती हैं। इस विटामिन की कमी से एनिमिया, हार्ट डिजीज, हड्डियों को नुकसान और इंफर्टिलिटी जैसी समस्‍याएं हो सकती हैं।

इसे जरूर पढ़ें: हेल्‍थ के लिए ही नहीं बल्कि खुश रहने के लिए भी जरूरी है फल और सब्जियां

खाने की सुरक्षा

खाने पकाने से यह सुरक्षित हो जाता है, विशेष रूप से मीट। कच्‍चे मीट और पोल्‍ट्री में साल्‍मोनेला, कोलाई और लिस्टेरिया जैसे बैक्टीरिया होते हैं, जो उल्टी, दस्त या यहां तक कि मौत का कारण बन सकते हैं। कभी-कभी कच्चा भोजन खाने के प्रभाव तत्काल दिखाई देने लगते हैं।

डाइजेशन प्रॉब्‍लम
stomach pain raw food

कच्चे भोजन पचना थोड़ा मुश्किल होता है। जिन महिलाओं का पेट सेंसिटिव होता है, उनको कच्‍चा खाने से अपच, गैस, सूजन, फूड एलर्जी और लूज मोशन की प्रॉब्‍लम हो सकती है।

कमजोर हड्डियां

ज्‍यादातर कच्‍चे फूड्स में कैल्शियम और विटामिन डी की मात्रा कम होती है, जो हड्डियों को मजबूत बनाने में हेल्‍प करते हैं। इसलिए हड्डियों को कमजोरी से बचाने के लिए कच्‍चे फूड्स को खाने से बचना चाहिए।

ज्‍यादा मेहनत

अगर आपको लगता है कि कच्चे फूड्स के लिए किसी तैयारी की आवश्यकता नहीं है, तो फिर से सोचें। कच्चे फूड्स को तैयार करने में अंकुरित करना, डिहाइड्रेटिंग, भिगोना और फर्मिन्ट करना शामिल हैं। ये काम बिजी लोगों के लिए ज्‍यादा समय लेने वाला और मुश्किल हो सकता हैं।

कच्‍चे फूड्स खाने से आपको कैसे महसूस होता है, इस बारे में हमें जरूर बताएं। फूड्स से जुड़ी और भी जानकारी पाने के लिए हमारे आर्टिकल पढ़ते रहें।