माना यह जाता है कि डिनर हमेशा 8 बजे से पहले कर लेना चाहिए क्‍योंकि देर से डिनर करने पर यह हमारे शरीर पर बुरा प्रभाव डालते है। साथ ही, कभी भी रात के खाने को टाले नहीं क्‍योंकि यह सेहत के लिए हानिकारक होता है। नूट्रिशनिस्ट भी रात में खाली पेट सोने से मना करते हैं। लेकिन साथ ही, खाने में सही विकल्पों का चुनाव करना भी बहुत जरूरी है। रात के खाने के फायदे-नुकसान इस बात पर निर्भर हैं कि आप क्या खाते हैं। डिनर तब सेहत के लिए खतरा बन जाता है, जब हम सिर्फ टेस्‍ट के लिए गरिष्ठ चीजें खाते हैं। हमें समझना होगा कि रात में हमारी पाचन क्रिया धीमी हो जाती है। दिन डूबने के साथ शरीर की सारी क्रियाएं धीमी पड़ने लगती हैं और यह प्राकृतिक नियम है। जाहिर सी बात है, ऐसे में आंतों पर दबाव डालना सही नहीं होता है। डिनर अगर गरिष्ठ यानी पचने में भारी होगा तो आंतों को अतिरिक्त सक्रियता दिखानी होगी। नतीजा यह होगा कि नींद ठीक से नहीं आएगी और अपच, गैस और एसिडिटीजैसी परेशानियां भी आएंगी। डिनर हमेशा हल्का और कम ही करना चाहिए। इसका कारण ये है कि हल्का भोजन रात में आसानी से पच जाता है। हम आपको ऐसी चीजों के बारे में बता रहे हैं जिन्हें आप डिनर में जरूर शामिल करें, क्योंकि ये आपकी पाचन क्रिया को दुरुस्त करने में मददगार होगी।

eating dinner inside

इसे जरूर पढ़ें: रात में खाना जल्दी खाएं और महिलाओं की इस '1 बड़ी' बीमारी से आसानी से बचें

हरी पत्‍तेदार सब्‍जी

रात के खाने में दाल, चावल, राजमा जैसी चीजों को खाने से बचें, क्योंकि ये पचने में भारी होते हैं। लेकिन डिनर में हरी पत्‍तेदार सब्‍जियों को जरूर शामिल करें क्योंकि इनमें फाइबर भरपूर मात्रा में होता है। जिन्हें रात में खाने से सेहत और पाचन क्रिया दोनों दुरुस्‍त रहते है। सब्जियों में तोरई, लौकी, परवल, टिंडा, गाजर आदि शामिल करें।

eating dinner inside

शहद

रात में चीनी खाने से बचाना चाहिए और उसकी जगह शहद का इस्तेमाल करें। इससे बॉडी का मेटाबॉलिज्‍म ठीक रहता है। सोने से पहले नींबू, शहद और पानी या दूध में दो चम्मच शहद मिलाकर पिएं। गाजर का रस, पत्तागोभी की सब्जी नींद के लिए फायदेमंद हैं। आप एक गिलास ठंडे दूध में दो चम्मच शहद और एक चम्मच शुद्ध देशी घी मिलाकर पिएं। शहद में कई तरह के एंटी-ऑक्सीडेंट्स होते हैं। जिससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता तो बढ़ती ही है, नींद भी अच्छी आती है।

छाछ

रात के खाने में दही की जगह छाछ, लस्सी या रायता पीना बेहतर होता है। छाछ, लस्सी या रायता पीने से पेट में ठंडक बनी रहती है और पाचन क्रिया भी दुरुस्‍त बनी रहती है।

eating dinner inside

इसे जरूर पढ़ें: महिलाएं अदरक खाएंगी तो दर्द और पेट की सारी प्रॉब्‍लम्‍स को भूल जाएंगी

लो फैट मिल्‍क

डिनर कुछ देर बाद या सोने से पहले गुनगुना दूध पीने से अच्छी नींद आती है। साथ ही लो फैट दूध में प्रोटीन के साथ गुड फैट भी होता है, जो फायदेमंद होता है। अगर अम्लपित्त हो रहा हो तो ऐसे में ठंडा दूध भी फायदेमंद होता है। डिनर के बाद दूध पीने से जरूरी सभी पोषक तत्व मिल जाते हैं।

वहीं, रात में ज्यादा तैलीय, मसालेदार, आइसक्रीम जैसी वसायुक्त और कार्बोहाइड्रेट वाली चीजों से बचना चाहिए। अगर आपको देर रात तक जगना पड़े तो हर घंटे-डेढ़ पर घंटे पर पानी जरूर पिएं।

Photo courtesy- (Medical News Today, Jean Hailes, Harvard University, The Indian Wire, www.dakshinbharat.com & Yogurt in Nutrition)