जो लोग हेल्थ कॉन्शियस होते हैं, वह अपनी डाइट को अधिक बेहतर बनाने के लिए हरसंभव प्रयास करते रहते हैं। इसी क्रम में, लोग ग्रीन जूस का सेवन करते हैं। इसे घर पर कई तरह की सब्जियों की मदद से बनाया जाता है। साथ ही साथ इसमें थोड़ी मिठास शामिल करने के लिए लोग कुछ फलों का भी इस्तेमाल करते हैं। अन्य जूस की अपेक्षा ग्रीन जूस का सेवन करना हेल्थ के लिए अधिक अच्छा माना जाता है। यह ना केवल आपके मेटाबॉलिज्म को बूस्ट अप करने में मदद करता है, बल्कि इसके कारण आपका डाइजेशन व इम्युन सिस्टम भी बेहतर होता है। साथ ही आपका एनर्जी लेवल भी बूस्टअप होता है। 

आमतौर पर, ग्रीन जूस को बनाते समय इसमें खीरा, सेलरी, पुदीना, पालक, नींबू व अदरक आदि कई फूड इंग्रीडिएंट को शामिल किया जाता है। हालांकि, आप अपनी पसंद के अनुसार इसमें इंग्रीडिएंट्स को लेकर थोड़ा फेरबदल कर सकते हैं। हालांकि, कुछ ऐसे फूड इंग्रीडिएंट्स है, जिन्हें कभी भी ग्रीन जूस में शामिल नहीं करना चाहिए। जहां कुछ इंग्रीडिएंट्स इसके टेस्ट को खराब कर देंगे तो कुछ आपके लिए हेल्थ इश्यूज भी क्रिएट कर सकते हैं।  तो चलिए आज इस लेख में सेंट्रल गवर्नमेंट हॉस्पिटल के ईएसआईसी अस्पताल की डायटीशियन रितु पुरी आपको बता रही हैं कि ग्रीन जूस बनाते समय किन इंग्रीडिएंट्स को आपको इसमें शामिल करने से बचना चाहिए-

ब्रोकली

brockli for drinks

ब्रोकली यूं तो सेहत के लिए एक बेहद ही लाभदायक सब्जी मानी गई है, लेकिन अगर आप ग्रीन जूस बना रही हैं तो आपको ब्रोकली का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए। दरअसल, ब्रोकली को कुक किए बिना कच्चे रूप में जूस में शामिल किया जाए तो यह आपके लिए गैस या ब्लोटिंग की समस्या पैदा कर सकता है। इसे ग्रीन जूस में शामिल करने से आपको बहुत अधिक अनकंफर्ट महसूस होगा।

इसे भी पढ़ें: अधिक फाइबर भी बन सकता है समस्या का कारण, एक्सपर्ट से जानिए

एप्पल

apple juice

ग्रीन जूस में आप सेब को जरूर शामिल कर सकती हैं, लेकिन आप इसे यूं ही डालकर ब्लेंड करने से बचें, क्योंकि ऐसा करने से इसके बीज भी जूस में एड हो जाएंगे। इसके बीज वास्तव में विषैले होते हैं, जो आपकी सेहत पर विपरीत प्रभाव डाल सकते हैं। इसलिए अगर आप सेब को इसमें शामिल कर रही हैं तो उसे पहले काटकर इसके बीज जरूर निकाल लें।

नारियल

coconut for drinks

नारियल वास्तव में ड्राई होता है और इसलिए इसे जूस में शामिल करना अच्छा आईडिया नहीं है। नारियल को आप जूस के स्थान पर स्मूदी में इस्तेमाल कर सकती हैं ताकि यह उसे अधिक थिक बना सके। आप कद्दूकस किया हुआ नारियल बिल्कुल भी इसमें ना डालें। अगर आप चाहें तो ग्रीन जूस नारियल का पानी शामिल कर सकती हैं।

Recommended Video

पाइनएप्पल

pineapple juice

पाइनएप्पल एक फाइबर रिच और विटामिन रिच फ्रूट है, लेकिन जब आप इसे जूस के रूप में निकालते हैं तो उसका सारा फाइबर यूं ही वेस्ट हो जाता है और शुगर का केवल कंसन्ट्रेट फॉम ही रह जाता है। इस तरह अगर आप ग्रीन जूस में पाइनएप्पल को शामिल करती हैं तो इससे आपका शुर लेवल बढ़ सकता है।

इसे भी पढ़ें: इन घरेलू नुस्खों से क्या सच में बढ़ता है वजन?

केला

banana juice

केला पोटेशियम रिच होता है और हेल्थ के लिए बेहद अच्छे माने जाते हैं। लेकिन इन्हें जूस के स्थान पर स्मूदी के लिए इस्तेमाल किया जाना चाहिए। केले आपके जूस की कंसिस्टेंसी को डिस्टर्ब करते हैं। इसके अलावा, अगर जूस बनाते समय केले को अन्य इंग्रीडिएंट्स के साथ मिक्स किया जाता है तो यह कुछ डाइजेस्टिव इश्यूज भी क्रिएट कर सकता है।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।