खाने-पीने को लेकर सदियों से हमें कुछ न कुछ सिखाया जाता रहा है। दादी-नानी के नुस्खे हों या मम्मी के घरेलू उपाय ये सभी कुछ खाने-पीने से जुड़े रहते हैं। अधिकतर मामलों में हमें जो भी बातें घर पर बताई जाती हैं उन्हें जिंदगी भर फॉलो किया जाता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि कई ऐसे मिथक भी होते हैं जिन पर हम यकीन कर लेते हैं, लेकिन साइंटिफिक फैक्ट्स उसकी तुलना में काफी अलग होते हैं। 

ऐसे फूड मिथ्स हमेशा आपके डाइजेशन प्रोसेस को नुकसान पहुंचा सकते हैं। ये बहुत खतरनाक साबित हो सकता है क्योंकि खाने-पीने से जुड़ी समस्या आगे चलकर हमारे शरीर के मुख्य अंग जैसे लिवर और किडनी आदि खराब हो सकते हैं। 

Food Safety and Standards Authority of India (FSSAI) ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर खाने से जुड़े कुछ मिथकों और उससे जुड़े फैक्ट्स के बारे में बताया है। ये सारी बातें आपको ध्यान रखनी चाहिए और अपने खाने-पीने की आदतों में शामिल करनी चाहिए। 

1. वजन कम करने से जुड़ा मिथक- 

मिथक: वजन कम करने के लिए कम कैलोरी वाला खाना और मील्स को स्किप करना सही है।

फैक्ट: 

ये बिल्कुल सही नहीं है। कई डाइटीशियन भी इस फैक्ट को गलत ठहरा चुके हैं। छोटे-छोटे मील्स लेने सही होते हैं और वेट लॉस के लिए सभी न्यूट्रिएंट्स का होना भी बहुत जरूरी है। मील्स को स्किप करने से आपकी समस्या बढ़ सकती है और जरूरी न्यूट्रिएंट्स कम हो सकते हैं।

क्या करें?

इसलिए वेट लॉस अगर आपको सही मायनों में करना है तो एक्सरसाइज, डाइट और न्यूट्रिएंट्स का पूरा ख्याल रखें। हां आप पोर्शन कंट्रोल जरूर कर सकते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें- रोज़ाना की चाय में आएगा दोगुना स्वाद अगर बनाते समय अपनाएंगे ये ट्रिक्स

food myths for kids

2. डाइट फूड से जुड़ा फैक्ट-

मिथक: अगर खाने में 'डाइट फूड' लेबल है तो वो हेल्दी होगा। 

फैक्ट: 

ऐसा जरूरी नहीं है कि डाइट फूड्स हेल्दी हों। जिन फूड्स का फैट कंटेंट ज्यादा होगा उनका शुगर कंटेंट कम हो सकता है। उन फूड्स में नमक की मात्रा भी ज्यादा हो सकती है और इसलिए आपको ध्यान रखना चाहिए। 

क्या करें?

आपको सिर्फ डाइट फूड लेबल देखकर नहीं बल्कि पूरी इंग्रीडिएंट लिस्ट देखकर ही खाने-पीने की चीज़ों को खरीदना चाहिए। फैट, शुगर, एडिबल ऑयल्स, सोडियम (msg), नमक आदि सभी चीज़ों को देखें और फिर इसे खरीदें।

3. वीगन डाइट से जुड़ा फैक्ट- 

मिथक: पौधों पर आधारित डाइट में प्रोटीन की कमी होती है।  

फैक्ट: 

भले ही आप एनिमल डाइट और उससे जुड़े प्रोडक्ट्स पूरी तरह से खाना छोड़ दें, लेकिन अगर आपने पौधे से जुड़ी डाइट ली है तो दाल, नट्स, सीड्स, सोया प्रोडक्ट्स आदि बहुत काम के साबित हो सकते हैं।  

क्या करें? 

प्रोटीन की क्वांटिटी दाल और सीरियल्स से भी बढ़ाई जा सकती है और उन्हें अपनी डाइट में शामिल करने की कोशिश करें।  

4. पके हुए खाने से जुड़ा मिथ- 

मिथक: पका हुआ खाना अगर रूम टेंपरेचर पर रखा जाए तो भी वो खाने से जुड़ी बीमारियां नहीं पैदा कर सकता है।  

फैक्ट- 

  • इन सभी कारणों से पका हुआ खाना भी आपको बीमारियां दे सकता है- 
  • खाना अगर सही से स्टोर नहीं किया गया है। 
  • खाना अगर पकाने के 2 घंटे बाद भी 5 डिग्री से ऊपर के तापमान में रखा गया है।
  • खाना अगर किसी दूषित सरफेस पर रखा गया है। 
  • खाना पकाने वाले लोग अगर सही हाइजीन नहीं फॉलो कर रहे हैं।  

क्या करें? 

हमेशा खाने को गर्म ही खाएं और उसे ज्यादा देर तक ऐसे ही छोड़कर न रखें। आपको पर्सनल हाइजीन का ध्यान भी रखना है, खाना पकाते, सर्व करते और स्टोर करते समय हाथों को धोएं और बार-बार चेहरे, बालों पर हाथ न फेरें।  

5. तेल से जुड़ा मिथ- 

मिथक: खाने के तेल से कोई न्यूट्रिएंट नहीं मिलता है।  

फैक्ट: 

मानव शरीर में फैटी एसिड्स नहीं बनते हैं (ओमेगा 3 और ओमेगा 6) और उसे डाइट से ही लेना होता है। ऐसे में अलग-अलग तरह के कुकिंग ऑयल ही ये दे सकते हैं।  

क्या करें? 

अपने खाने के तेल को हर दो महीने में बदलना अच्छा ऑप्शन माना जाता है।  

इसे जरूर पढ़ें- क्या आप जानते हैं कैसे बनते हैं इंस्टेंट नूडल्स? जानें इससे जुड़े मिथक 

6. बच्चों से जुड़ा मिथक-

मिथक: बच्चों को हाई-कैलोरी और शुगर वाला खाना खिलाया जा सकता है इसमें कोई हर्ज नहीं है।  

फैक्ट: 

न्यूट्रिएंट्स की जरूरत उस उम्र में ज्यादा होती है जब बच्चे बढ़ रहे होते हैं और जरूरत से ज्यादा शुगर और फैट कंजम्पशन उनके विकास में बाधित हो सकता है। इसी के साथ, कम उम्र में डायबिटीज और दिल की बीमारी का रिस्क बढ़ा सकता है।  

क्या करें? 

बैलेंस डाइट चुनें और हर किसी को सही तरह से बच्चों की डाइट में शामिल करें।   

food and common myths

7. फूड पॉइजनिंग से जुड़ा मिथक- 

मिथक: अगर खाना सही दिख रहा है और सही खुशबू आ रही है तो वो खाने में सही होगा।  

फैक्ट: 

आपको शायद पता नहीं होगा कि फूड पॉइजनिंग वाला बैक्टीरिया कभी भी खाने में खराब बदबू नहीं पैदा करता है और न ही उसके टेस्ट में बदलाव लाता है।  

क्या करें? 

पैकेट वाले खाने में उसकी एक्सपायरी डेट देख लें और घर के पकाए खाने को 2 घंटे से ज्यादा गर्म मौसम में बाहर न रखें।

   

ये सारे फैक्ट्स हममे से कई लोग नजरअंदाज कर देते हैं। खासतौर पर खाने को बाहर रखने वाला फैक्ट और इसके कारण कई बार परेशानी उठानी पड़ती है। ऐसे में क्यों न हम इन बातों का ध्यान आज से ही रखें। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।