कोरोना की दूसरी लहर ने लोगों के दिमाग़ पर गहरा असर डाला है। इस वजह से लोग शारीरिक और मानसिक परेशानियों से जूझ रहे हैं। इन सब के बीच ज़्यादातर लोगों में एंग्जाइटी की शिकायत देखने को मिल रही है। यही नहीं समय पर इसका इलाज ना किया जाए तो यह डिप्रेशन का रूप ले सकता है। इस समस्या से निजात पाने के लिए विशेषज्ञ योग और मेडिटेशन करने की सलाह दे रहे हैं। हालांकि योग और मेडिटेशन के अलावा अपनी खाने-पीने की चीज़ों पर भी ख़ास ध्यान देने की ज़रूरत है।

आज हम ऐसे ही कुछ फ़ूड आइटम्स के बारे में बताने जा रहे हैं जो आपको एंग्जाइटी से राहत दिलाने में मदद करेंगे। डायटीशियन स्वाति बाथवाल बताती हैं कि इन दिनों लोगों में एंग्जाइटी की समस्या होने के कई कारण हैं, ऐसे में खानपान सही हो, यह बेहद ज़रूरी है। एंग्जाइटी और स्ट्रेस जैसी समस्याएं MAO (Monoamine oxidase) एंजाइम के बढ़ जाने की वजह से होती हैं। यह हैप्पी हार्मोन को कम कर देती हैं, इससे डिप्रेशन और एंग्जाइटी बढ़ने लगती है। वहीं आपको भी अगर यह समस्या है तो इन फ़ूड आइटमों को अपनी डाइट में ज़रूर शामिल करें।

मोरिंगा के पत्ते

moringa leaves

मोरिंगा के पत्तों को कई तरीक़ों से इस्तेमाल किया जाता है। इसमें मौजूद औषधीय गुण कई तरह की शारीरिक समस्याओं के इलाज के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं। इसके पत्तों के पाउडर को सुपरफ़ूड की तरह इस्तेमाल किया जाता है। मोरिंगा के पत्तों के अलावा आप एंग्जाइटी और स्ट्रेस को दूर करने के लिए करी पत्ता, ब्रोकली, पालक, वीटग्रास और अन्य हरी सब्ज़ियों को अपनी डाइट में शामिल कर सकती हैं। यह आपको आसानी से उपलब्ध हो जाएंगे और इसे ख़रीदने के लिए अधिक पैसे खर्च करने की आवश्यकता भी नहीं है।

अश्वगंधा

ashwagandha

कई बीमिारियों को दूर करने के लिए अश्वगंधा का इस्तेमाल किया जाता है। यही नहीं इस जड़ी-बूटी का उपयोग सालों पहले से किया जा रहा है, इसमें मौजूद औषधीय गुण बेहद असरदार माने जाते हैं। अश्वगंधा अब टैबलेट के रूप में भी उपलब्ध है, जिसे आप अपनी सुविधा के अनुसार सेवन कर सकती हैं। स्वाति बाथवाल के अनुसार रोज़ाना एक ग्राम अश्वगंधा का सेवन करना काफ़ी है। आप चाहें तो इसे दूध या फिर ऐसे भी सेवन कर सकती हैं।

इसे भी पढ़ें:Expert tips: रोज छाछ पीने से सेहत को होंगे ये 5 बड़े फायदे

केसर

saffron

केसर का अपने अनोखे गुणों की वजह से कई तरीक़ों से इस्तेमाल किया जाता है। ब्यूरी ट्रीटमेंट के अलावा पकवानों में भी इसका उपयोग किया जाता है। वहीं एंग्जाइटी और स्ट्रेस को दूर करने के लिए आप चाहें तो केसर को एक कपड़े में लपेट कर सूंघ सकती हैं। इसके अलावा आप चाहें तो दूध में डालकर पी सकती हैं, यह आपके दिमाग़ में हैप्पी हार्मोन को एक्टिव करता है, जो कि एंग्जाइटी और स्ट्रेस को दूर करने के लिए मददगार है।

Recommended Video

केला

banana

हैप्पी हार्मोन को एक्टिव करने करे लिए मीठे की आवश्यता होती है, ऐसे में चॉकलेट या फिर अन्य मीठे खाद्य पदार्थों का सेवन करने से वज़न बढ़ने का ख़तरा रहता है। हेल्दी तरीक़ा चाहती हैं तो केले का सेवन कर सकती हैं। आप चाहें तो स्मूदी या फिर अन्य तरीक़ों से इसका सेवन कर सकती हैं।

इसे भी पढ़ें: इस एक फूल में मौजूद हैं कई सेहतमंद राज, आप भी जानें

दूध

milk for anxiety

एंग्जाइटी और स्ट्रेस की वजह से ना सिर्फ़ मानसिक दबाव बढ़ जाता है, बल्कि इससे शरीर में कई तरह के बदलाव शुरू हो जाते हैं। इसलिए डाइट में उन्हीं खाद्य पदार्थों को शामिल करें जो इसे कम करने में मददगार हो। आप चाहें तो रात में सोने से पहले या फिर ब्रेकफ़ास्ट में एक ग्लास सिर्फ़ दूध का सेवन कर सकती हैं।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।