महीने के वो चार दिन हर महिला के लिए कठिन होते हैं। खासतौर पर अगर सर्दियों का महीना है तो पीरियड्स के दौरान होने वाले क्रैंप्स असहनीय हो जाते हैं। हालांकि, बहुत सी महिलाएं पीरियड्स के दर्द से छुटकारा पाने के लिए पेन किलर से काम चला लेती हैं, मगर हेल्थ एक्सपर्ट्स की मानें तो पेन किलर से आपको दर्द में राहत जरूर मिल जाती है, मगर उसका असर खत्म होते ही दर्द दोबारा से शुरू हो जाता है। 

पेन किलर का बार-बार सेवन करना भी गलत है क्योंकि इससे आपके शरीर के दूसरे ऑर्गन प्रभावित होते हैं। इस स्थिति में बार-बार और लगातार दर्द होने पर किसी भी काम को करने में दिल नहीं लगता है। वैसे तो इंटरनेट में पीरियड्स के दर्द को दूर करने के बहुत सारे घरेलू नुस्खे भी बताए गए हैं, मगर यह सभी असरदार नहीं होते हैं। 

इसलिए हमने इस विषय में सेलिब्रिटी डायटीशियन एवं न्यूट्रिशनिस्ट शिखा ए शर्मा से बात की। शिखा कहती हैं, 'सर्दी हो या गर्मी पीरियड्स का पेन जिसे होता है, उसे हर सीजन में होता है। मगर सर्दियों के मौसम में यह अधिक इसलिए होता है क्योंकि इस मौसम में, जो हमारी डाइट होती है गैस और पेट में भारीपन अधिक लगने लगता है। पीरियड्स के दौरान यह दोनों ही समस्‍याएं दर्द को और भी अधिक बढ़ा देती हैं। इसलिए खानपान का ध्यान रखने के साथ ही आपको कुछ घरेलू रेमेडीज भी ट्राई करे देखनी चाहिए।'

इसे जरूर पढ़ें: अगर आप भी हैं PCOS से परेशान तो बिल्कुल ना करें ये काम

period  pain  relief

सुबह-शाम जरूर करें ये काम 

आपको अगर पीरियड्स के दौरान बहुत अधिक दर्द हो रहा है, तो आपको रसोई में मौजूद कुछ मसाले बहुत फायदा पहुंचा सकते हैं। इन मसालों में हल्दी और दालचीनी का नाम सबसे पहले आता है। यह दोनों ही मसाले पीरियड्स के दर्द में आपको राहत पहुंचा सकते हैं। शिखा जी कहती हैं, 'आपको इन दोनों का ही आधा छोटा चम्मच सेवन करना है। आप इसे गुनगुने पानी के साथ निगल जाएं, इससे आपको बहुत राहत मिल सकती है।'

  • आपको बता दें कि दालचीनी में एंटीऑक्सीडेंट का खजाना होता है। दालचीनी एंटी इंफ्लेमेटरी भी होती है, इससे अगर आपको पीरियड्स की वजह से कमर, पैर या फिर पेट में स्वेलिंग आ गई है तो वह भी कम हो जाती है। पीरियड्स के वक्त अगर आपको खाना पचाने में दिक्कत आ रही है, तो दालचीनी उसमें भी आपकी मदद करती है। 
  • हल्दी में शरीर को डिटॉक्स करने के गुण होते हैं। पीरियड्स के दौरान हल्दी लेना इसलिए भी फायदेमंद होता है क्योंकि इससे शरीर अंदर से साफ हो जाता है। हल्‍दी में औषधीय गुण होते हैं, यह एंटी इंफ्लेमेटरी होती है और किसी भी प्रकार के दर्द और सूजन को कम करने में मदद करती है। 

पुदीने की पत्ती 

जिस तरह से आप हल्दी और दालचीनी को पानी से निगल सकती हैं, उसी तरह आपको सुबह और रात में खाना खाने के बाद पुदीने की 5 पत्तियों को गुनगुने पानी से निगल जाएं। इससे भी दर्द में बहुत राहत मिलती है। 

  • इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम की समस्या में भी आपको पुदीने की पत्ती राहत पहुंचाती है। यह एक आम बीमारी है, इसमें पेट दर्द और कब्ज की समस्या हो जाती है। अगर आप नियमित पुदीने की 5 पत्तियों का सेवन करती हैं, तो इससे आपको लाभ होगा। 
  • पीरियड्स के टाइम पर ब्‍लॉटिंग और पेट में गैस बनने की समस्या भी बहुत ज्यादा होती है। पुदीना शरीर में पाचन तंत्र को दुरुस्त करने में हेल्प करता है। ऐसे में पीरियड्स के दौरान इसका सेवन जरूर करें। 
 
period  pain  symptoms

कॉफी 

वैसे तो कॉफी का सेवन बहुत अधिक नहीं करना चाहिए, अगर पीरियड्स के दौरान अगर आप कॉफी पीती हैं, तो इसमें मौजूद कैफीन आपको बहुत राहत पहुंचाता है। शिखा कहती हैं, 'दिन में 3 कप से ज्यादा कॉफी न लें। पीरियड्स के दौरान बॉडी को हाइड्रेट रखना बहुत जरूरी है। इसलिए पानी भी उचित मात्रा में पीती रहें। यह जरूरी नहीं है कि आप गर्म पानी पी रही हैं या नॉर्मल। हो सके तो बादी चीजें, जो पेट में गैस बनाती हों उन्‍हें अवॉइड करें। '

अब जब भी आपके पीरियड्स हों और आप दर्द से परेशान हो रही हों तो एक्सपर्ट द्वारा बताए गए इन नुस्खों को एक बार आजमा कर जरूर देखें। इस आर्टिकल को शेयर और लाइक जरूर करें, साथ ही ऐसे और भी आर्टिकल्‍स पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से। 

Image Credit: Freepik