सर्दियों के मौसम के शुरू होते ही हमें कई चीजों का बेसब्री से इंतजार होता है, इनमें से एक सिंघाड़ा भी है। यह फल मीठा और बेहद टेस्‍टी होता है जिसे कच्‍चा, उबालकर या भूनकर खाया जा सकता है। इसमें विटामिन ए, सी के अलावा फॉस्‍फोरस, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, सिट्रिक एसिड और आयोडीन भरपूर मात्रा में होता है। जी हां यह सर्दियों का फल आपकी हेल्‍थ के लिए बहुत फायदेमंद होता है। व्रत के दौरान इस फल को बहुत ज्‍यादा खाया जाता है, खासतौर पर नवरात्रि व्रत में। यह आपको वेट लॉस करने, एनर्जी को पाने और खूबसूरती को बढ़ाने में भी हेल्‍प करता है। सिंघाड़ा महिलाओं की हेल्‍थ के लिए बेहद फायदेमंद होता है। आइए जानें कि सिंघाड़ा खाने से महिलाओं को क्‍या-क्‍या फायदे हो सकते है।  

अभी कुछ दिन पहले हमने आपको सिंघाड़े के ब्‍यूटी बेनिफिट्स के बारे में भी बताया था। जिसे आपने बहुत पसंद किया। आज हम आपको सिंघाड़े के हेल्‍थ से जुड़े फायदों के बताने जा रहे है, ताकि आप इस फायदेमंद फल को खाकर अपनी खूबसूरती के साथ-साथ हेल्‍थ में भी सुधार करें।

इसे जरूर पढ़ें: जिम से नहीं बल्कि घर के इन 6 कामों से पा सकती हैं हॉट फिगर

वेट लॉस

weight loss singhara health

यह फल फाइबर से भरपूर होने के कारण वेट लॉस में हेल्‍प करता है। जी हां फाइबर को पचने में थोड़ा टाइम लगता है। इसलिए इसे खाने से आपको भरे हुए का अहसास होता है और आप बार-बार खाने से बचते है। इसका मतलब आप अनहेल्‍दी स्‍नैक्‍स नहीं लेते है जो आपके लिए अच्‍छा नहीं होता है। हालांकि सर्दियों में वेट लॉस करना थोड़ा मुश्किल होता है, लेकिन इस फल को अपनी डाइट में शामिल कर अपना वजन तेजी से कम कर सकती हैं।

एंटीऑक्सीडेंट और मिनरल से भरपूर

चूंकि इस फल में कोलेस्‍ट्रॉल की मात्रा बिल्‍कुल भी नहीं होती है और यह आवश्यक पोषक तत्वों और विटामिन से भरपूर होता है, इसलिए इसका आटा भी  एंटीऑक्सीडेंट और मिनरल से भरपूर होता हैं। इसके आटे में विटामिन बी 6, पोटेशियम (प्रति आधा कप में 350 से 360 मिलीग्राम), आयोडीन, कॉपर, राइबोफ्लेविन और मैंगनीज बहुत अधिक मात्रा होता है। इसलिए अगर आप सिंघाड़ा नहीं खाना चाहती हैं तो इसका आटे का इस्‍तेमाल कर सकती हैं।

एनर्जी से भरपूर

energy singhara health

सिंघाड़े का आटे में गुड कार्बोहाइड्रेट होते हैं और साथ ही यह एनर्जी को बढ़ाने में भी हेल्‍प करता है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि इसमें जिंक, आयरन, कैल्शियम और फॉस्‍फोरस जैसे पोषक तत्‍व होते हैं। व्रत के दौरान, लोग कुछ भी बनाने के लिए इसी आटे का इस्‍तेमाल करते हैं। जी हां व्रत के दौरान एनर्जी का लेवल कम हो जाता है, लेकिन इस आटे को खाने से आप एनर्जी से भरपूर बने रहते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: महिलाओं के लिए वरदान है ये सस्ता सिंघाड़ा, दूर होगी कई प्रॉब्लम्स

ग्लूटेन फ्री

क्या आप जानते हैं कि सिंघारा आटा ग्‍लूटेन फ्री है? जिसका मतलब है कि यह सीलिएक बीमारी को आपसे दूर रखता है। जी हां यह बीमारी उम्र भर चलने वाली बीमारी है, जिसमें आपका इम्‍यून सिस्‍टम ग्‍लूटेन जैसे गेहूं, जौ और राई में पाए जाने वाले प्रोटीन के प्रति प्रतिक्रिया करता है। इससे बचने का सिर्फ एक रास्‍ता है कि आप जीवन-भर ग्‍लूटेन फ्री डाइट लें और सिंघाड़े के आटे में ग्‍लूटेन नहीं होता है।

बॉडी में वॉटर रिटेंशन

सिंघारा पोटेशियम से भरपूर होता है लेकिन इसमें सोडियम की मात्रा बहुत कम होती है, इसलिए बॉडी में वॉटर रिटेंशन का मुकाबला करने में हमारी हेल्‍प करने वाला एक शानदार स्रोत है।

इसके अलावा जैसे कि हम आपको अपने पहले आर्टिकल में बता चुके है कि यह त्‍वचा से जुड़ी कई समस्‍याओं को दूर करने में भी आपकी हेल्‍प करता है। साथ ही सिंघाड़ा महिलाओं की ल्यूकोरिया की समस्या भी दूर करता है।