मकर संक्रांति एक फेमस भारतीय त्योहार है जिसे पूरे भारत में अलग-अलग नामों से मनाया जाता है। उत्तर प्रदेश में, इसे खिचड़ी उत्सव के रूप में, गुजरात और राजस्थान में पतंग महोत्सव के रूप में, आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र में संक्रांति के रूप में, तमिलनाडु में पोंगल के रूप में, असम में भोगली बिहू के रूप में और पंजाब में लोहड़ी के रूप में मनाया जाता है। 

प्रत्येक भारतीय त्योहार में एक विशेष व्यंजन होता है जो भगवान को चढ़ाया जाता है और उस अवसर पर खाया जाता है, जो ज्यादातर समय और मौसम के अनुसार मनाया जाता है। इसी तरह मकर संक्रांति के पर्व पर तिल और गुड़ से 'लड्डू', 'गजक' और 'चिक्की' जैसी मिठाइयां बनाने की परंपरा है। इसलिए, चूंकि इस मौसम में तिल और गुड़ काफी फेमस हैं, तो आइए इन दोनों चीजों के कुछ फायदों पर एक नजर डालते हैं।

तिल में पोषक तत्व

पोषक तत्वों से भरपूर तिल हमारे शरीर के लिए बहुत अच्छा होता है। इसमें विटामिन्‍स और मिनरल्‍स का कॉम्बिनेशन शामिल है और यह दुनिया के स्वास्थ्यप्रद खाद्य पदार्थों में से एक है।

तिल में प्रोटीन, कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेट, कॉपर, आयरन, मैग्नीशियम आदि कई पोषक तत्व होते हैं। इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व शरीर को कई तरह से फायदा पहुंचाते हैं, जैसे कॉपर अर्थराइटिस की समस्या में मदद करता है। मैग्नीशियम उचित ब्लड सर्कुलेशन, ब्‍लड शुगर और श्वसन स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है। साथ ही इसमें पाया जाने वाला कैल्शियम माइग्रेन, प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम और ऑस्टियोपोरोसिस के लिए भी बहुत कारगर होता है।

health benefits of eating til and gur

गुड़ में पोषक तत्व

गुड़ को कई स्वास्थ्य लाभों का खजाना कहा जाता है और इसे सर्दियों के दौरान एक सुपरफूड माना जाता है क्योंकि यह शरीर को प्राकृतिक गर्मी प्रदान करता है। इसमें कैल्शियम, फास्फोरस, मैग्नीशियम, पोटेशियम, फोलिक एसिड और आयरन जैसे पोषक तत्व होते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं।तिल और गुड़ को साथ में लेने से हमें क्‍या फायदे मिल सकते हैं, आइए इस बारे में न्यूट्रिशनिस्ट मेघा मुखीजा जी से जानें। मेघा मुखीजा 2016 से Health Mania में चीफ डा‍इटीशियन और फाउंडर हैं।

इसे जरूर पढ़ें:सर्दियों में गुड़ के साथ तिल का सेवन हो सकता है सेहत के लिए फायदेमंद, जानें कैसे

शरीर को रखता है गर्म

तिल मुख्य रूप से सफेद और काले दो तरह के होते हैं। सफेद तिल का सेवन आमतौर पर सर्दियों में गुड़ के साथ किया जाता है क्योंकि यह कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर सकता है। गुड़ के साथ सेवन करने पर थर्मोजेनिक प्रभाव प्रदान करता है और इस प्रकार सर्दियों में आपके शरीर को गर्म रखने में मदद करता है।

बालों और त्‍वचा को रखता है हेल्‍दी

expert tips for benefits of eating til and gur

तिल और गुड़ का सेवन बालों की गुणवत्ता को भी बढ़ाता है और त्वचा को हेल्‍दी रखता है, क्योंकि वह प्रोटीन, कैल्शियम, आयरन और मैग्नीशियम से भरपूर होते हैं। दूसरी ओर, गुड़ पाचन एंजाइमों को एक्टिव करता है जो पोषक तत्वों के अवशोषण की प्रक्रिया को आसान बनाता है क्योंकि अकेले बीज को पचाना थोड़ा मुश्किल होता है।

दिल के लिए अच्‍छा

तिल के बीज मैग्नीशियम में हाई होते हैं, जो लो ब्‍लड प्रेशर में मदद कर सकते हैं। इसके अलावा, इनके एंटीऑक्सीडेंट हार्ट हेल्‍थ के लिए प्लाक बिल्डअप को रोकने में मदद कर सकते हैं।

हड्डियों को रखता है हेल्‍दी

तिल के बीज कैल्शियम और मैग्नीशियम के उत्कृष्ट स्रोत हैं। दोनों पोषक तत्व हड्डियों की हेल्‍थ के लिए महत्वपूर्ण हैं। गुड़ के साथ भूनने और मिलाने से पोषक तत्व अधिक जैव उपलब्ध/अवशोषित करने में आसान हो जाते हैं।

Recommended Video

इम्‍यून सिस्‍टम को करता है मजबूत 

तिल के बीज कई पोषक तत्वों का एक अच्छा स्रोत हैं जो इम्‍यून सिस्‍टम के कार्य के लिए महत्वपूर्ण हैं, जिनमें जिंक, सेलेनियम, तांबा, आयरन, विटामिन-बी 6 और विटामिन-ई शामिल हैं। इसलिए तिल गजक सर्दियों में वायरल संक्रमण से शरीर को दूर रखने के लिए खाया जाता है। .

eating til and gur makar sankranti special

अर्थराइटिस में फायदेमंद

जैसा कि अनुसंधान द्वारा सिद्ध किया गया है; तिल के बीज में यौगिक सेसमिन होता है। यह जोड़ों के दर्द को कम करने और घुटने के अर्थराइटिस में गतिशीलता का समर्थन करने में मदद कर सकता है। इसके एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण यह सभी प्रकार के अर्थराइटिस में भी उपयोगी है।

इसे जरूर पढ़ें:खाने में रोजाना शामिल करें ये फूड आइटम्स, आपको ठंड से मिलेगी राहत

चेतावनी-

बहुत से लोगों को तिल से एलर्जी होती है और तिल का सेवन करने के बाद उन्हें हल्की से गंभीर प्रतिक्रिया हो सकती है। इसलिए कृपया अपने लक्षणों का निरीक्षण करें। यदि संदेह होता है तो इसके लिए एलर्जी एक्‍सपर्ट से सलाह लें।

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com