हमारे शरीर की सही फंक्शनिंग के लिए ये बहुत जरूरी है कि हम सभी तरह के विटामिन, मिनरल्स और फैटी एसिड्स आदि अपनी डाइट में शामिल करें। अक्सर हम सभी तरह के मिनरल्स और विटामिन्स को तो अपनी डाइट का हिस्सा बना लेते हैं, लेकिन ओमेग 3 फैटी एसिड को भूल जाते हैं। ये एक बहुत ही जरूरी कंपोनेंट है जो न सिर्फ हमारी स्किन और बालों को अच्छा रखता है बल्कि इससे हमारे शरीर में कई समस्याएं नहीं होती हैं। 

ओमेगा 3 पर की गई National Center for Biotechnology Information (NCIB) की रिसर्च बताती है कि इसे अपनी डाइट में शामिल करने के बहुत से फायदे होते हैं। ओमेगा 3 फैटी एसिड हमें बहुत कुछ करने की सुविधा देता है और शरीर को स्वस्थ रखता है। 

क्या हैं ओमेगा 3 फैटी एसिड के फायदे?

- ये डिप्रेशन को दूर करने में मदद करता है।

- ये स्किन और बालों को बहुत अच्छा करता है। 

- आई हेल्थ को भी ठीक करने के लिए ओमेगा 3 बहुत काम का साबित होता है। 

- प्रेग्नेंसी के दौरान ओमेगा 3 ब्रेन और प्रेग्नेंसी हेल्थ को सही रखता है। 

- हार्ट की समस्या में भी ओमेगा 3 अच्छा हो सकता है। 

- जलन को कम करने में भी ओमेगा 3 फैटी एसिड ठीक कर सकता है। 

- मानसिक समस्याओं को ठीक कर सकता है। 

- उम्र से जुड़ी हुई समस्याएं खत्म करने में भी ओमेगा 3 फैटी एसिड मदद कर सकता है। 

omega  in beens

इसे जरूर पढ़ें- सही तवा-कढ़ाई है शरीर के लिए बहुत फायदेमंद, रुजुता दिवेकर से जानिए हीमोग्लोबिन बढ़ाने की टिप्स

इतने सारे फायदे होने के बाद ओमेगा 3 को अपनी डाइट में शामिल करना अच्छा हो सकता है, लेकिन सबसे बड़ी समस्या ये है कि इसका सबसे अच्छा सोर्स मछली होती है और कई लोगों के लिए ये खाना सही नहीं होता। वो लोग जो प्लांट बेस्ड डाइट खाते हैं उनके लिए ओमेगा 3 फैटी एसिड के कई अन्य सोर्स भी हो सकते हैं। डायबिटीज एजुकेटर और न्यूट्रिशनिस्ट राशि चौधरी ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर 6 ऐसी चीज़ों के बारे में बताया है जिनमें ओमेगा 3 फैटी एसिड भरपूर मात्रा में होता है और मछली और मीट खाए बिना भी इसे लिया जा सकता है। 

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Rashi Chowdhary (@rashichowdhary)

 

राशि चौधरी ने अपने इंस्टाग्राम पोस्ट में लिखा, 'पौधों पर आधारित ओमेगा 3 alpha-linolenic acid (ALA) के रूप में आता है और यही जरूरी ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है। क्योंकि ये शरीर में नहीं बनता है तो हमें ALA अपनी डाइट के जरिए लेना चाहिए। ये दिमाग के स्वास्थ्य के लिए अच्छा और जलन को कम करने में सही होता है। ये मछली में भरपूर मात्रा में होता है, लेकिन अगर आप वो नहीं खाते तो भी आप इन 6 प्लांट बेस्ड ओमेगा-3 सोर्स से ये कमी पूरी कर सकते हैं। ' 

1. अखरोट- 

अगर आप सिर्फ 3 पूरे अखरोट खाते हैं तो 515 mg ओमेगा-3 फैटी एसिड मिलेगा।  

2. अलसी के बीज- 

फ्लैक्स सीड यानि अलसी के बीज भी बहुत लाभकारी होते हैं। इसके 1 चम्मच में 515 mg ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है।  

3. कद्दू के बीज- 

कद्दू के बीज अपनी डाइट में शामिल करने के फायदे बहुत हैं। सिर्फ 1 चम्मच कद्दू के बीज में 650mg ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है।  

4. चिया सीड्स- 

तुलसी के बीज यानि चिया सीड्स भी शरीर के लिए बहुत लाभकारी होते हैं। 1 मुट्ठी चिया सीड्स में 700 mg ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है।  

5. हेम्प सीड्स- 

1 छोटे चम्मच हेम्प सीड्स में 800 mg ओमेगा-3 फैटी एसिड मिलता है।  

6. सोयाबीन की फलियां- 

Edamame यानि सोयाबीन की फलियों के 1 कप में  1000 mg ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है।  

Recommended Video

इसे जरूर पढ़ें-  शादी से पहले स्किन और बालों में ऐसे आएगी शाइन, एक्सपर्ट स्वाति बथवाल से जानें टिप्स  

ध्यान रखने वाली बात ये है कि इन सभी में ALA होता है जो शरीर में जाकर EPA और DHA फॉर्म फैटी एसिड में तब्दील होता है और मछली में ये सीधे इसी फॉर्म में होता है तो अगर आप मछली खा सकते हैं तो उसे जरूर खाएं। Algal oil कैप्सूल या सप्लिमेंट्स शरीर की सभी जरूरतों को पूरा कर सकते हैं। ये सिर्फ खाने से लेना कम होता है, लेकिन आप इसे सप्लिमेंट्स के फॉर्म में भी ले सकते हैं।  

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।