कश्मीर से धारा 370 और 35A हटाने के बाद अब जम्मू-कश्मीर और लद्दाख दो अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश बन गए हैं। जम्मू-कश्मीर से तो फिलहाल सभी टूरिस्ट को वापस भेजा जा रहा है, अमरनाथ यात्रा भी रद्द हो गई है और आने वाले कुछ समय के लिए जम्मू-कश्मीर का प्लान न ही बनाया जाए तो बेहतर होगा। पर लद्दाख का क्या? धारा 370 का असर लद्दाख पर भी पड़ा है और वो कश्मीर से अलग एक केंद्र शासित प्रदेश बन गया है। इसके क्या मायने होंगे और आपकी लद्दाख ट्रिप पर इसका क्या असर पड़ेगा चलिए जानते हैं। 

Ladakh tourism kashmir article

सबसे पहले तो मैं आपको बता दूं कि लद्दाख लंबे समय से कश्मीर से अलग होने की मांग कर रहा था और ये हो भी गया। असर की बात करें तो इससे लद्दाख के कानून पर सबसे ज्यादा असर पड़ेगा क्योंकि अभी तक कश्मीर का हिस्सा होने के कारण वहां अलग कानून चलता था, लेकिन अब ये केंद्र के हिसाब से चलेगा। साथ ही, अगर बात करें लद्दाख टूरिज्म की तो वो थोड़ा बेहतर हो सकता है। 

इसे जरूर पढ़ें- पहली बार लद्दाख घूमने से पहले जान लें ये जरुरी बातें

तत्काल में क्या प्रभाव पड़ेगा?

जब तक नए नियम नहीं बन जाते तब तक कोई प्रभाव नहीं होगा। कश्मीर के आतंकवाद का असर वैसे भी लद्दाख में नहीं पड़ता था और इसलिए वहां शांति और विकास की ज्यादा उम्मीद है। अब लद्दाख के लिए बजट अलग से पेश होगा तो यकीनन लेह-लद्दाख की अर्थव्यवस्था का प्रमुख हिस्सा यानी टूरिज्म वहां बेहतर किया जाएगा। तो आगे चलकर और भी बेहतर ट्रिप की उम्मीद की जा सकती है। 

Ladakh tourism group trip

क्या ट्रिप कैंसिल करने की जरूरत है? 

नहीं लद्दाख की ट्रिप अगर 15 दिन बाद की भी है तो उसे कैंसिल करने की जरूरत नहीं। वहां शांति है। 

तुरंत जाना है तो? 

किसी भी तरह का कोई असर नहीं हुआ है। अगर फ्लाइट लेनी है तो Vistara, IndiGo, GoAir और Air India सभी फ्लाइट्स समय पर चल रही हैं। अगर जम्मू के रास्ते जा रहे हैं तो थोड़ी दिक्कत है। Indigo ने 9 अगस्त तक जम्मू जाने वाली फ्लाइट्स की री-शेड्यूलिंग फीस हटा दी है। सबसे ज्यादा दिक्कत श्रीनगर के लिए है। हालांकि, वहां फ्लाइट के दाम कम हो गए हैं ताकि किसी को अपना प्लान बदलना हो तो ज्यादा दिक्कत न हो। श्रीनगर से दिल्ली और दिल्ली से श्रीनगर की फ्लाइट जो 9,500 रुपए की थी (एयरइंडिया) वो अब 6899 रुपए की हो गई है। 

Ladakh toursim

क्या लद्दाख का लोकल ट्रांसपोर्ट बंद हुआ है?

अगर आपका प्लान कश्मीर से रोड ट्रिप करके जाने का नहीं था तो कोई दिक्कत नहीं। जम्मू तक ट्रेन भी समय पर चल रही हैं। पर फिर भी लद्दाख के लिए फ्लाइट लेना ज्यादा बेहतर है। लेह एयरपोर्ट सुरक्षित है।

इसे जरूर पढ़ें- जम्मू-कश्मीर की इस घाटी को कहा जाता है जन्नत का दरवाजा

लोकल टूर ऑपरेटर्स भी अपना काम कर रहे हैं हालांकि, श्रीनगर तक कोई टूर नहीं जा रहा है, लेकिन अगर आप लद्दाख में ही घूमना चाहते हैं तो कोई दिक्कत नहीं। कश्मीर में जहां इंटरनेट ठप्प है, स्कूल-कॉलेज बंद हैं वहीं लेह-लद्दाख में सब कुछ नॉर्मल है। 

रोड ट्रिप पर होगा असर-

वो बाइकर्स जिन्हें लद्दाख से कश्मीर रोड ट्रिप पर जाना था उन्हें वापस भेज दिया गया है। आपको कोई असर नहीं होगा अगर लद्दाख ही जाना है, लेकिन वहां से रोड ट्रिप कर कश्मीर का भी प्लान था तो यकीनन असर होगा। उसके लिए प्लान में थोड़े से बदलाव की उम्मीद कर लीजिए। लोकल टूर एजेंट्स भी अब कश्मीर पैकेज नहीं दे रहे हैं पर लद्दाख अभी भी सुरक्षित है।