घूमने के शौकीन लोग पूरे साल अलग-अलग जगहों को एक्सप्लोर करना पसंद करते हैं। वेकेशन एन्जॉय करने के साथ कुछ लोग ऐसे होते हैं, जिन्हें रोमांचक सफर करने का शौक होता है। यही वजह कि लोग पहाड़ी इलाकों में घूमना और ट्रैकिंग करना पसंद करते हैं। ट्रैकिंग के अलावा इतिहास को जानना पसंद करते हैं, तो घूमने की जगह को सोच समझकर चुने। इसके लिए हिल स्टेशन, गांव के अलावा आप फोर्ट भी चुन सकते हैं। महाराष्ट्र में ऐसे कई फोर्ट हैं, जो ट्रेकिंग के लिए बेस्ट माने जाते हैं।

खास बात है कि महाराष्ट्र के इन किलों का इतिहास काफी पुराना है। हालांकि, इन किलो को जानने के लिए आपको कई किलोमीटर तक ट्रैकिंग कर जाना होगा। वीकेंड या फिर चार-पांच दिन की छुट्टियों के लिए आप महाराष्ट्र के इन फेमस फोर्ट घूमने का प्लान बना सकती हैं। इन किलों तक पहुंचने के लिए आपको ऊंची-ऊंची पहाड़ियों के रास्ते से होकर जाना होगा। जहां आपको प्राकृतिक नजारों के साथ-साथ फुल एडवेंचर वाइब मिलेगा।

माहुली फोर्ट

 mahuali fort

माहुली फोर्ट दिलचस्प ट्रैकिंग के अलावा छुट्टियां बिताने के लिए बेस्ट जगहों में से एक है। यह ठाणे डिस्ट्रिक्ट के सबसे ऊंचे स्थान पर स्थित है, जहां आसपास जंगल और जंगली पशु-पक्षी भी देखने को मिल सकते हैं। अगर आप पर्वतारोही हैं तो यह जगह घूमने जरूर जाएं। मुंबई से माहुली फोर्ट 75 किलोमीटर दूर है। मानसून के समय लोग इन पहाड़ी एरिया को एक्सप्लोर करने जरूर जाते हैं, हालांकि, आपको पहाड़ चढ़ने का अनुभव कम है, तो सर्दियों के मौसम या फिर गर्मियों में भी जा सकती हैं। माहुली फोर्ट पहुंचने के लिए आपको करीब 8 किलोमीटर ट्रैक करना ऊपर जाना होगा।

इसे भी पढ़ें: जानें क्या है गलताजी मंदिर का इतिहास, आखिर क्यों कहा जाता है इसे बंदरों का मंदिर

तिकोना फोर्ट

tikona fort

तिकोना फोर्ट एक पहाड़ी फोर्ट है और यह मुंबई के पास प्रसिद्ध ट्रैकिंग जगहों में से एक है। 3500 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह फोर्ट चारों ओर से त्रिकोणीय है। खास बात है कि जब इस फोर्ट को आप पावना डैम से देखेंगी तो यहां से आपको बेहद खूबसूरत नजारे देखने को मिलेंगे। पहाड़ों के बीच सुकून के पल बिताने के अलावा आपको कई ऐसे पेड़-पौधे भी देखने को मिलेंगे, जिसे देख आपका मन मंत्रमुग्ध हो जाएगा। यह फोर्ट मुंबई से 122 किलोमीटर दूर स्थित है। लोनावला से यह 24 किलोमीटर दूर है। यहां ट्रैकिंग करना बेहद आसान है, कुछ दूर तक लोग अपनी गाड़ी से जा सकते हैं। चार से साढ़े चार घंटे के अंदर ट्रैकिग कर लोग इस फोर्ट तक पहुंच सकते हैं। मानसून के समय यहां भीड़ अधिक देखने को मिलती है, हालांकि, यहां ट्रैकिंग करना आसान है, इसलिए लोग कभी भी आते-जाते रहते हैं।

अलंग फोर्ट

alang fort

अलंग फोर्ट तक पहुंचने के लिए आपको काफी मुश्किल भरे रास्तों से गुजरकर जाना होगा। ये मुंबई क्षेत्र में सबसे कठिन ट्रैक में से एक है। 4,852 फीट की ऊंचाई पर स्थित अलंग फोर्ट प्राकृतिक नजारों से भरपूर है। यह एक विशाल पहाड़ पर स्थित है, जिसके टॉप पर गुफाएं है। तीन से चार दिन ट्रैक कर आप इस फोर्ट तक पहुंच सकते हैं। मुंबई से यह फोर्ट 140 किलोमीटर दूर है। यह पश्चिमी घाट पर्वत, नासिक की कलसुबाई श्रेणी में स्थित है। अप्रैल या फिर मई के महीने समय ट्रैकिंग के लिए बेस्ट माना जाता है, लेकिन सर्दियों के मौसम में भी आप यहां जा सकती हैं।

इसे भी पढ़ें: गोवा में बीचेस ही नहीं, एक्सप्लोर करें यह प्लेसेस भी

कुलंग फोर्ट

kulang fort

कुलंग फोर्ट तक पहुंचने के लिए आपको पहाड़ के मुश्किल भरे रास्तों से गुजरना होगा। यहां ट्रैकिंग करना थोड़ा मुश्किल है। यह फोर्ट कलसुबाई रेंज के पास 4822 फीट की खतरनाक ऊंचाई पर स्थित है। ट्रैकिंग के दौरान आपको कई ऊबड़-खाबड़ इलाके से गुजरना होगा। हालांकि, एक बार ऊपर पहुंचने के बाद कई खूबसूरत नजारे देखने को मिलेंगे। मुंबई से यह फोर्ट करीब 155 किलोमीटर दूर है। वहीं ट्रैकिंग करने के लिए आपको कई घंटे लग सकते हैं। अगर आपको एडवेंचर और रोमांचक दृश्य देखने का शौक है, इस फोर्ट को घूमने का प्लान बना सकती हैं।

उम्मीद है कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। साथ ही, आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें कमेंट कर जरूर बताएं और इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी के साथ।