क्रैक्ड त्‍वचा आमतौर पर तब दिखाई देती है, जब किसी भी कारण से किसी भी प्रकार के त्‍वचा बैरियर से समझौता किया जाता है। यह ड्राई और इर्रिटेटेड त्‍वचा का लक्षण है, लेकिन विशेष रूप से गर्मियों में टेम्परेचर का बढ़ना क्रैक्ड त्‍वचा का मुख्य कारण हैं। त्‍वचा के अन्‍य भागों की तुलना में पैर, हाथ और होंठों पर क्रैक्‍स होने की संभावना अधिक होती है। फटी या क्रैक्ड त्‍वचा पर कोई भी रैशेस, कट्स या निशान आमतौर पर तब होते हैं जब किसी महिला की त्‍वचा ड्राई होती है। ड्राई और फटी हुई त्‍वचा में इचिंग, परत का उतारना और ब्‍लड की मात्रा ज्यादा होती है। क्रैक्ड स्किन के लिए किसी भी स्किनकेयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते समय आप सेंसेशन महसूस कर सकते हैं। इसके अलावा इस कंडीशन में स्किन भी पानी के टेम्परेचर और घरेलू क्लीनिंग प्रोडक्ट्स के प्रति अधिक सेंसिटिव महसूस करती है।

यूं तो क्रैक्ड त्‍वचा बॉडी के किसी भी हिस्से पर दिखाई दे सकती है, लेकिन उन हिस्‍सों में ज्यादा दिखाई देती है जो सूरज की हानिकारक किरणों के संपर्क में ज्यादा आते हैं। उन पर ज्यादा ध्यान देने की जरुरत है। यह त्‍वचा में होने वाली सबसे आम समस्या है जिसका सामना महिलाएं गर्मियों के दौरान करती हैं। ज़रूरत से ज्यादा धोने से हाथों का ड्राई होना एक ऐसी कंडीशन है जो त्‍वचा के क्रैक्ड होने का मुख्य कारण है। इसे रोकने के लिए हर बार हाथ धोने के बाद अच्‍छे मॉइश्चराइजर का इस्‍तेमाल करना चाहिए। 

cracked skin tips by expert

कुछ मामलों में क्रैक्ड त्‍वचा एक अंडरलाइंग मेडिकल कंडीशन के लक्षण भी हो सकते हैं। कुछ महिलाओं में त्‍वचा की कंडीशन के कारण क्रैक्ड स्किन की स्थिति हो सकती है, जैसे एक्जिमा या सोरायसिस। स्मूद और हाइड्रेटेड स्किन में त्‍वचा की लेयर में मौजूद नेचुरल ऑयल नमी को बरकरार रखते हुए स्किन ड्राईनेस को रोकते हैं। लेकिन अगर स्किन में पर्याप्त ऑयल नहीं है तो यह नमी खो देता है जो त्‍वचा को ड्राई और सिकुड़ देता है जिससे क्रैक्ड स्किन की समस्या पैदा होती है जो खासकर गर्मियों में ज़्यादा होती है।

इसे जरूर पढ़ें:फटी कोहनी के लिए अपनाएं ये 5 आसान घरेलू उपाय

 

अगर आपकी हालत बहुत गंभीर है तो ऐसे कई तरीके हैं जिनसे आप घर पर ही अपनी क्रैक्ड त्‍वचा का इलाज कर सकते हैं। क्रैक्ड स्किन से छुटकारा पाने के लिए आप भी इन टिप्स का इस्‍तेमाल कर सकती हैं। इन टिप्‍स के बारे में हमें डर्मेटोलॉजिस्ट और एस्थेटिक फिजिशियन आईएलएएमईडी के संस्थापक और निदेशक, डॉक्‍टर अजय राणा जी बता रहे हैं। आइए जानें-

क्रैक्ड स्किन से छुटकारा पाने के टिप्‍स

cracked skin tips cream

  • ड्राई स्किन क्रैक्ड स्किन का कारण बनती है और ज्यादातर मामलों में यह खराब हो सकती है। इसलिए आपकी स्किन को अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रखना महत्वपूर्ण है। क्रैक्ड स्किन वाले एरिया में आप हमेशा मॉइश्चराइज़र का इस्तेमाल करें।
  • अपनी स्किन को नियमित रूप से एक्सफोलिएट करें। जेंटल एक्सफोलिएशन स्किन की लेयर से डेड और ड्राई सेल्स को हटाने में मदद करता है। यह उपाय सबसे प्रभावी है जो फ़टे पैर और एड़ी के लिए कारगर साबित होता है।
  • ऐसे स्किन केयर प्रोडक्ट्स का इस्‍तेमाल करें जिनमें जोजोबा तेल, नारियल तेल, जैतून का तेल और शीया बटर जैसे तत्‍व शामिल हो।
  • क्रैक्ड स्किन से बचने के लिए आप एंटीफंगल दवा भी ले सकती हैं। अगर आपको लगता है कि आपके पास एथलीट फुट जैसे टेरीबिनाफिन (लैमिसिल) है, और इसे पैरों पर अफेक्टेड एरिया पर इस्‍तेमाल करें।
  • क्रैक्ड स्किन को सौम्य खुशबू वाले क्लींजर से साफ करें। 
cracked skin tips shower inside
  • गर्म पानी से हाथ धोने से बचें। हॉट बाथ और शॉवर लेने से स्किन ज्‍यादा ड्राई या क्रैक्ड हो सकती है।
  • पेट्रोलियम जेली स्किन को सील और प्रोटेक्ट करके क्रैक्ड स्किन का इलाज करती है। यह
  • स्किन को नमी में लॉक करके, क्रैक्ड स्किन को ठीक करने में मदद मिलती है।
  • टॉपिकल हाइड्रोकार्टिसोन क्रीम का इस्‍तेमाल करना क्रैक्ड स्किन के लिए एक अच्छा उपाय है। यह क्रैक्ड स्किन के कारण होने वाले रेड पैचेज और जलन को कम करने में मदद करता है। इसमें कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स होते हैं जो किसी भी तरह की जलन और सूजन को कम करते हैं।
  • कुछ कपड़े ड्राई स्किन को परेशान कर सकते हैं। इसीलिए हमेशा स्मूद फैब्रिक्स जैसे कॉटन पहनें। 
  • किसी भी तरह के हाइपोएलर्जेनिक डिटर्जेंट और फैब्रिक सॉफ्टनर का इस्‍तेमाल करने से भी क्रैक्ड स्किन के कारण होने वाली जलन को कम करने में मदद मिल सकती है।

इन टिप्‍स को अपनाकर आप भी गर्मियों में क्रैक्‍ड स्किन की समस्‍या से बच सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com