आपने देखा होगा कि कई लोगों की गर्दन और अंडरआर्म्स में कालापन काफी ज्यादा होता है और वो किसी भी तरह से कम नहीं होता है। अगर आपने बहुत ज्यादा हेयर रिमूवल क्रीम्स और किसी ब्लीच आदि को नहीं इस्तेमाल किया है तो हो सकता है कि ये कालापन एक मेडिकल कंडीशन के कारण हो। ये मेडिकल कंडीशन आपकी गर्दन और ऐसे एरियाज को काला कर देती है जहां स्किन मुड़ रही होती है।

कुछ लोगों में ये पीसीओएस और डायबिटीज के कारण भी होता है। हमने न्यूट्रिशनिस्ट, डाइटीशियन और डायबिटीज एजुकेटर स्वाति बथवाल से इसके बारे में बात की और जानने की कोशिश की कि आखिर कैसे इस समस्या से निजात पाई जाए और अपनी स्किन को इस समस्या से छुटकारा दिया जाए। 

1. क्या होता है गले और अंडरआर्म्स के कालेपन का कारण?

स्किन के डार्क होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे जेनेटिक समस्याएं या फिर डेड सेल्स या फिर कई सारे प्राकृतिक कारण पर इस तरह की समस्या का अहम कारण होता है इंसुलिन रजिस्टेंस जिससे ये कंडीशन acanthosis nigiricans उतपन्न होती है। 

blemishes quote on insulin resistance

2. डाइट Acanthosis nigricans के लिए किस हद तक जिम्मेदार है?

डाइट इस कंडीशन के लिए बहुत अहम रोल निभाती है। क्योंकि ये अधिकतर इंसुलिन रेजिस्टेंस से होती है इसलिए डाइट बहुत अहम है। इंसुलिन के कारण थायरॉइड होता है, हाई कोलेस्ट्रॉल होता है, पीसीओएस और वजन में बढ़त होती है यही कारण है कि महिलाओं को acanthosis nigiricans से गुजरना पड़ता है। इंसुलिन रेजिस्टेंस का मतलब ये है कि खून में इंसुलिन की मात्रा ज्यादा है और इसलिए शरीर के सभी हिस्सों पर असर हो रहा है। 

इसे जरूर पढ़ें- नीम से किया जा सकता है पूरा ब्यूटी ट्रीटमेंट, 3 स्टेप में स्किन एक्ने और पिंपल्स का होगा सफाया

3. इस समस्या के लिए किस तरह की डाइट सही होगी?

अगर इंसुलिन रेजिस्टेंस समस्या है तो इंटरमिटेंट फास्ट काफी काम आ सकता है। इसका मतलब ये है कि दिन के आखिरी खाने के बाद 14-15 घंटों तक कुछ भी कैलोरीज न लें। आप सिर्फ हर्बल चाय या शहद आदि ले सकते हैं या फिर पानी। इससे सिरम इंसुलिन लेवल कम होता है। इसी के साथ, दिन में 45 मिनट एक्सरसाइज जरूरी है। इसके अलावा, रिफाइन्ड फूड्स जैसे मैदा, चॉकलेट, केक्स, बिस्किट्स आदि इंसुलिन रेजिस्टेंस को बढ़ाते हैं हमेशा।  

4. क्या पीसीओएस से भी इसका कोई नाता है? 

पीसीओएस भी इंसुलिन रेजिस्टेंस का ही एक दुश्प्रभाव है। इसलिए इसका असर सीधे तौर पर होता है। किसी महिला को पीसीओएस की समस्या इंसुलिन की वजह से हो सकती है।  

acanthosis nigiricans diet

5. गर्दन के कालेपन को ठीक करने का तरीका क्या है? 

सीधे तौर पर डाइट में बदलाव लाकर और एक्सरसाइज कर इस समस्या को कम किया जा सकता है। सभी तरह के रिफाइन्ड फूड्ल और ज्यादा शक्कर वाली ड्रिंक्स से दूर रहें। यहां तक कि डाइट ड्रिंक्स भी इंसुलिन रेजिस्टेंस को बढ़ा सकती हैं। ज्यादा से ज्यादा ताज़ा फलों के जूस पिएं, सब्जियों को खाएं और बाजरे, ओट्स आदि का इस्तेमाल करें। ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं और हाइड्रेटेड रहें। हेल्दी फ्रूट्स और नट्स खाएं चिया सीड्स, अखरोट और ओमेगा 3 को अपनी डाइट में शामिल करें।  

ब्यूटी के लिए- 

कच्चे आलू का जूस अपने गले और अंडरआर्म्स में लगाएं और हर दिन 30 मिनट तक इसे लगा रहने दें। इसी के साथ, 45 मिनट हर दिन एक्सरसाइज करें। इससे आपकी स्किन का कालापन दूर होता जाएगा।  

6. अंडर आर्म्स के कालेपन को ठीक करने का तरीका क्या है? 

जिस तरह ऊपर बताया गया है अपनी डाइट में वैसा ही बदलाव लाएं और आलू का रस यहां बहुत उपयोगी साबित हो सकता है जिसे आप अपनी स्किन पर वहां लगा सकते हैं जहां कालापन ज्यादा है। इसके साथ ज्यादा हरी सब्जियां और जूस आदि पिएं।  

blemishes on underarms

7. क्या इसके लिए कोई ट्रीटमेंट क्रीम भी आती है? 

रेटिनॉल बेस वाली कई क्रीम्स हो सकती हैं जिनमें (विटामिन ए, विटामिन ई और hydroquinone होता है)। पर अगर आप इसे नेचुरली करना चाहते हैं तो इस समस्या को शुरुआत से ही ठीक करने की कोशिश करें। बेसिक लेवल पर इसका हल निकालें। 

इसे जरूर पढ़ें- चेहरे के सूजन को कम करने के लिए होने वाली दुल्‍हन ये टिप्‍स अपनाएं  

8. शरीर में इंसुलिन सेंसिटिविटी को लेकर हमें क्या ध्यान रखना चाहिए? 

इंसुलिन सेंसिटिविटी को बेहतर बनाने के लिए अभी प्रोसेस्ड फूड्स अपनी डाइट से हटा दें। इसी के साथ, ऑर्गेनिक ऑयल्स जैसे घी और सरसों के तेल या फिर मूंगफली के तेल का इस्तेमाल करें। वेजिटेबल ऑयल्स का उपयोग डाइट में करने का मतलब है कि आप अपने शरीर को और नुकसान पहुंचा रहे हैं। इंसुलिन पर इसका सीधा असर होता है। आपको सभी तरह की प्लास्टिक को भी हटाना चाहिए जिसमें BPA होता है। BPA खाने या लिक्विड फॉर्म में शरीर में चला जाता है और इंसुलिन सेंसिटिविटी को खत्म करता है। इसे उतना फ्रेश रखें जितना मुमकिन है और कोशिश करें कि लोहे की कढ़ाई या फिर कांसे या स्टेनलेस स्टील के बर्तनों का इस्तेमाल करें। एल्युमीनियम से दूर रहें।  

कुछ दवाओं से भी ये हो सकता है। डायबिटिक दवाओं का असर इसपर बहुत ज्यादा होता है।  

Recommended Video

9. क्या देसी इलाज भी कुछ मदद कर सकते हैं? 

नारियल तेल (एक्स्ट्रा वर्जिन) या फिर बादाम तेल को स्किन के उस हिस्से में लगाएं जो काला हो गया है। इसके साथ आप आलू के रस का इस्तेमाल तो करें हीं। सुबह-सुबह मेथी का पानी पिएं जिससे इंसुलिन रेजिस्टेंस कम होती है। इसी के साथ, एप्पल साइडर विनेगर भी पिएं। इसे गर्म पानी के साथ लें (1 चम्मच एप्पल साइडर विनेगर दिन में दो बार)। ध्यान रहे कि आप अनफिल्टर्स एप्पल साइडर विनेगर ही पिएं।  

10. क्या इसके लिए कोई ब्यूटी ट्रीटमेंट सही हो सकता है? 

ब्यूटी ट्रीटमेंट्स अलग तरीके से काम करते हैं। अगर आपका डर्मेटोलॉजिस्ट किसी तरह के ब्यूटी ट्रीटमेंट के लिए सजेशन देता है तो आप उसे चुन सकते हैं, लेकिन ये भी जरूरी है कि आप रूट लेवल पर इसे ठीक करें। डाइट का असर जरूर होता है। रेटिनॉइड्स क्रीम्स, लेजर ट्रीटमेंट्स, केमिकल पील्स आदि बहुत काम के साबित हो सकते हैं।  

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।