इस बात में कोई दोराय नहीं है कि मेकअप किसी भी महिला की नेचुरल ब्यूटी को और भी ज्यादा एन्हॉन्स करता है। लेकिन यह केवल तभी संभव है, जब मेकअप को सही तरह से अप्लाई किया जाए और उससे भी ज्यादा महत्वपूर्ण है कि सही मेकअप प्रॉडक्ट का चयन किया जाए। चूंकि हर महिला की स्किन अलग होती है, इसलिए किसी भी मेकअप प्रॉडक्ट को चुनते समय अपनी स्किन का ख्याल रखना बेहद जरूरी होता है। अगर आपने गलत प्रॉडक्ट का चयन किया है तो आप कितना ही बेहतरीन तरीके से अप्लाई क्यों ना कर लें, लेकिन आपको वह रिजल्ट नहीं मिल सकता, जिसकी आपको चाहत होती है। साथ ही साथ गलत प्रॉडक्ट आपकी स्किन के लिए कई तरह की समस्याएं भी खड़ी कर सकता है। तो चलिए आज हम आपको कुछ ऐसे में मेकअप इंग्रीडिएंट्स के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें ड्राई स्किन की महिलाओं को बिल्कुल भी इस्तेमाल नहीं करना चाहिए-

डिनैचर्ड अल्कोहल या आइसोप्रोपिल अल्कोहल

inside  alchohol

अगर आपकी स्किन ड्राई है तो आपको मैटिफाइंग या जल्दी सुखाने वाले फ़ाउंडेशन, प्राइमर और लिपस्टिक से बचना चाहिए, जिनमें डिनैचर्ड अल्कोहल होता है। अल्कोहल त्वचा को और भी अधिक ड्राई व डिहाइड्रेट बना सकता है। यह स्किन के वॉटर को खींचकर स्किन बैरियर को नुकसान पहुंचाता है, जिससे स्किन अधिक सेंसेटिव बनती है। इसके कारण आपको स्किन में जलन, रेडनेस, संवेदनशीलता और यहां तक कि एक्जिमा की समस्या भी हो सकती है। इसलिए, आप ऐसे मेकअप प्रॉडक्ट से बचें, जिनमें इथेनॉल, आइसोप्रोपिल अल्कोहल और बेंजाइल अल्कोहल का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए। वहीं, दूसरी ओर, फैटी अल्कोहल जैसे कि सेटिल और सेटेराइल अल्कोहल एक स्मूदनिंग तत्व हैं जो वास्तव में ड्राई स्किन वाली महिलाओं के लिए फायदेमंद होते हैं।

ग्लाइकोलिक एसिड

inside  acid product

कुछ फाउंडेशन, प्राइमर और मॉइस्चराइज़र ग्लाइकोलिक एसिड के साथ तैयार किए जाते हैं, खासकर एक्ने प्रोन व डल स्किन के लिए मेकअप प्रॉडक्ट में इनका इस्तेमाल किया जाता है। इसमें मौजूद एक्सफोलिएंट स्किन सेल प्रॉडक्शन और रिजनरेशन को बढ़ाने में सक्षम है, जो उन प्रकार की त्वचा के लिए सहायक हो सकता है। लेकिन अगर आपकी त्वचा रूखी है, तो इस इंग्रीडिएंट्स को अपने मेकअप रूटीन में शामिल करना चाहिए। इससे आपकी स्किन और भी अधिक रूखी व इरिटेटिड हो सकती है।

सैलिसिलिक एसिड

inside  makeup tips in hindi

सैलिसिलिक एसिड आमतौर पर ऑयल को कण्ट्रोल करने, ब्रेकआउट्स और बैक्टीरिया के विकास को कम करने में मदद करने के लिए ऑयली या एक्ने-प्रोन के लिए मेकअप प्रॉडक्ट्स में उपयोग किया जाता है। सैलिसिलिक एसिड आमतौर पर प्राइमर, फाउंडेशन, टोनर और मेकअप रिमूवल वाइप्स और क्लींजर में इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन अगर आपकी स्किन रूखी है तो आपको सैलिसिलिक एसिड युक्त मेकअप प्रॉडक्ट्स का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। यह त्वचा को और अधिक रूखा बनाकर त्वचा की सतह को और अधिक फ्लेकी बना सकता है।

इसे ज़रूर पढ़ें-महंगे डियोड्रेंट की तरह तन की दुर्गंध कम करते हैं ये नेचुरल इंग्रीडियंट्स

फ्रेगरेंस

inside  makeup tips

अमूमन अधिकतर मेकअप व ब्यूटी प्रॉडक्ट्स में माइल्ड फ्रेगरेंस का इस्तेमाल किया है। लेकिन इस तरह के मेकअप प्रॉडक्ट्स रूखी और सेंसेटिव स्किन के लिए सही नहीं माने जाते। फ्रेगरेंस आपकी स्किन में जलन पैदा कर सकता है और इसलिए आपको इससे दूर रहना चाहिए। बेहतर होगा कि ऐसे मेकअप प्रॉडक्ट का चयन करें, जो फ्रेगरेंस मुक्त हों।

Recommended Video

पैराबेन्स

inside  makeup base

पैराबेन्स को लेकर लोगों के मन में कई तरह की धारणाएं हैं। आमतौर पर इनका उपयोग शैम्पू, कंडीशनर व कई तरह के मेकअप प्रॉडक्ट्स में किया जाता है। हालांकि, ये कुछ और नहीं बल्कि प्रिजर्वेटिव और सिंथेटिक सामग्री हैं जिन्हें प्रॉडक्ट्स की शेल्फ लाइफ को बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। हालांकि, रूखी स्किन वाली महिलाओं को पैराबेन युक्त प्रॉडक्ट का इस्तेमाल कम से कम करने की सलाह दी जाती है, क्योंकि इससे आपकी स्किन में जलन व एलर्जी का खतरा अधिक होता है।

इसे ज़रूर पढ़ें-छुहारा पैक आपके स्किन और बालों के लिए इस तरह है फायदेमंद, जानें इसे बनाने की विधि

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- Freepik