जब भी आई मेकअप की बात होती है तो उसमें मस्कारा को जरूर शामिल किया जाता है। भले ही आप हैवी आई मेकअप करें या फिर न्यूड मेकअप लुक रखें, मस्कारे को जरूर अप्लाई किया जाता है। इतना ही नहीं, रेग्युलर में भी कुछ लड़कियां भले ही आईशैडो व काजल आदि को स्किप कर देती हैं, लेकिन मस्कारा जरूर लगाती हैं। यह सिर्फ उनकी लैशेज ही नहीं, बल्कि आईज को भी एक डेफिनेशन देता है।

आमतौर पर लड़कियां आई मेकअप के दौरान आखिरी में मस्कारा के दो कोट जरूर लगाती हैं। इन दिनों तो कलर्ड मस्कारा भी काफी ट्रेन्ड में है। यह आईज को एक ड्रेमेटिक लुक देता है। वैसे तो मस्कारा एक पॉपुलर मेकअप प्रॉडक्ट है, लेकिन फिर भी इसे लेकर कुछ मिथ्स काफी प्रचलित हैं, जिस पर अमूमन महिलाएं भरोसा करती हैं। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको मस्कारा से जुड़े कुछ मिथ्स व उनकी वास्तविक सच्चाई के बारे में बता रहे हैं-

मिथ 1-बेबी पाउडर से आपकी लैशेज होंगी थिक

baby powder mascara

सच्चाई- आपने अक्सर इंटरनेट पर यह पढ़ा या सुना होगा कि मस्कारा कोट के बीच में आपके लैशेज पर बेबी पाउडर डस्ट करने से वह थिक नजर आती है। ऐसा दावा किया जाता है कि यह आपके लैशेस को अधिक वाल्यूम देता है और वह थिक हो जाती हैं। लेकिन शायद आपको यह कोई नहीं बताएगा कि पाउडर नमी को अवशोषित करता है, और मॉइश्चर के बिना मस्कारा क्रेक्स होता है। इतना ही नहीं, इससे आपकी आंखों में पाउडर मिलेगा और आपका मस्कारा भी फ्लेक हो जाएगा।

इसे जरूर पढ़ें:DIY: तिल के बीजों से बने इस होममेड हेयर मास्क से पाएं शाइनी बाल

मिथ 2-हर दिन लगा सकती हैं वाटरप्रूफ मस्कारा

mascara uses myths

सच्चाई- वाटरप्रूफ मस्कारा यकीनन एक बेहतरीन मेकअप प्रॉडक्ट है। खासतौर से बारिश के मौसम में जब आप मेकअप करती हैं तो वाटरप्रूफ मस्कारा उसे फैलने से रोकता है। हालांकि कुछ लड़कियां इसे डे-टू-डे लाइफ में इस्तेमाल करने लग जाती हैं। उन्हें लगता है कि इसमें कोई बुराई नहीं है। अगर आपको भी लगता है कि आप वाटरप्रूफ मस्कारा को हर दिन आसानी से इस्तेमाल कर सकती हैं तो यह सिर्फ आपका एक मिथ है। यह बेहद जल्दी सूख जाते हैं और आपकी पलकों को रूखा बनाते हैं। इतना ही नहीं, इन्हें क्लीन करना भी अपेक्षाकृत अधिक मुश्किल होता है। इसलिए डे-टू डे लाइफ में आप नॉन-वाटरप्रूफ और वॉल्यूमाइजिंग मस्कारा अप्लाई करें। यह अधिक गीले होते हैं और लैशेज के लिए अधिक उपयुक्त माने जाते हैं। 

Recommended Video

मिथ 3- काजल लगाने से पहले आपको अपने लैशेज को कर्ल करना चाहिए

mascara myths and truth

सच्चाई- यह आधा सच है। अगर आप नियमित रूप से और लापरवाही से मस्कारा लगाने के बाद अपनी लैशल्स को कर्ल कर लेती हैं, तो आप अपनी पलकों को खो सकती हैं। अगर आप सच में अपनी लैशेज का ख्याल रखना चाहती हैं तो ऐसे में आप एक कोट लगाने के बाद लैशेज को कर्ल करें। इसके लिए आप मस्कारा अप्लाई करने के बाद कुछ देर रूकें ताकि मस्कारा नम हो, लेकिन गीला नहीं। इसके बाद आप कर्लर को धीरे से अप्लाई करें।

इसे जरूर पढ़ें: इन मस्कारा हैक्स के बारे में जानने के बाद आंखें लगेंगी बेहद ब्यूटीफुल

मिथ 4- अगर मस्कारा वैंड बड़ा होगा तो आपको अधिक वाल्यूम लैशेज मिलेंगे

mascara myths

सच्चाई- यह मस्कारे से जुड़ा एक आम मिथ है, जिस पर लड़कियां भरोसा करती हैं। सच्चाई यह है कि चौड़ा या बड़ा वैंड आपको बेहतर वॉल्यूम व थिकनेस नहीं देगा। जब वैंड के ब्रिसल्स छोटे होते हैं तो आपको ऑन प्वाइंट एप्लीकेशन मिलता है। साथ ही इससे आपकी लैशेज पर अतिरिक्त मस्कारा भी नहीं लगता, जिससे वह clumpy नजर नहीं आते। इसका मतलब है कि छोटे वैंड्स आपको स्मूद एप्लीकेशन के साथ बेहतर वॉल्यूम और थिकनेस देते हैं।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।