दुनिया में शायद ही कोई लड़की हो, जिसे मेकअप करना पसंद ना हो। अमूमन लड़कियां किसी फंक्शन व गेट-टू-गेदर में हैवी मेकअप करती हैं, लेकिन जिन लड़कियों को हैवी मेकअप करना अच्छा नहीं लगता, वह भी लाइट मेकअप व बेसिक मेकअप जरूर करती हैं। इससे उन्हें अपनी नेचुरल ब्यूटी को एन्हॉन्स करने का मौका मिलता है। इतना ही नहीं, कुछ प्रोफेशनल्स में तो लड़कियों को मेकअप करना ही पड़ता है, भले ही उन्हें मेकअप करना अच्छा लगे या ना लगे। अमूमन हर यंग गर्ल के पास अपनी एक पर्सनल मेकअप किट होती ही है। आप भी काजल, लाइटर, लिप ग्लॉस आदि लगाती ही होंगी। लेकिन क्या आप मेकअप से जुड़े कुछ फन फैक्ट्स के बारे में जानती हैं। जी हां, हर दिन इस्तेमाल होने वाले मेकअप व ब्यूटी प्रॉडक्ट के बारे में ऐसी कई बातें हैं, जिसके बारे में लड़कियों को पता भी नहीं होता। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको ऐसे ही कुछ मेकअप फन फैक्ट्स के बारे में बता रहे हैं-

दुनिया में पहली बार मेकअप

some fun makeup facts inside

दुनिया में सबसे पहले मेकअप मिस्त्र से आया। उस समय महिलाओं ने अपनी आईज को पेंट करने के लिए अपनी आईलिड के नीचे डार्क कलर को अप्लाई किया। साथ ही उन्होंने अपनी आईलैशेज को ब्लैक कलर दिया।

इसे भी पढ़ें: बेहद आसान मेकअप और ब्यूटी टिप्स एक्सपर्ट से जानिए

महंगा मेकअप अप्लाई नहीं करना

some fun makeup facts inside

आज के समय में महिलाएं महंगा व ब्रांडेड मेकअप ही इस्तेमाल करना पसंद करती हैं, लेकिन क्या आप जानती हैं कि एक समय ऐसा भी था, जब महिलाओं का महंगा मेकअप कानून के खिलाफ था। जी हां, रोमन काल में लेक्स ओपिया नामक एक कानून था जो न केवल एक महिला के धन को प्रतिबंधित करता था, बल्कि उसके धन के प्रदर्शन पर भी रोक लगाता था। इस कानून के अनुसार, चीन, जर्मनी और गॉल से आयातित किसी भी महंगे डिजाइनर  मेकअप आइटम और सुगंध शामिल को महिलाएं अप्लाई नहीं कर सकती थीं। हालांकि 20 साल बाद इस कानून को खत्म कर दिया गया।

Recommended Video

गालों को पिंच करना

some fun makeup facts inside

आज के समय में महिलाएं अपने गालों को एक फ्रेशनेस देने के लिए ब्लश का इस्तेमाल करती हैं। लेकिन क्या आप जानती हैं कि जब तक ब्लश का आविष्कार नहीं हुआ था, तब तक महिलाएं अपने गालों को पिंक लुक देने के लिए उसे पिंच किया करती थीं, ताकि गाल पिंक नजर आएं।

ज्वेलरी से लिपस्टिक

सुनने में आपको शायद अजीब लगे लेकिन एक समय ऐसा भी था, जब दुनिया में ज्वैलरी की मदद से लिपस्टिक तैयार की जाती थी। दरअसल, प्राचीन मेसोपोटामिया की महिलाएँ लक्ज़री लिप कलर बनाने के लिए अर्ध-कीमती गहनों को कुचलती थीं और अपने होठों को सजाने के लिए उनका इस्तेमाल करती थीं। तब से, रेड बीटल से लेकर फिश स्केल्स तक सब के साथ लिपस्टिक बनाई गई।

इसे भी पढ़ें: ब्यूटी टिप्स- इस तरह करेंगी मेकअप स्पंज का इस्तेमाल तो नहीं दिखेगी चेहरे पर दरार

क्लास को दर्शाती थी लिपस्टिक

some fun makeup facts inside

मध्ययुगीन काल के दौरान, लिपस्टिक का उपयोग यूरोप में सामाजिक वर्गों को अलग करने के लिए किया गया था। उदाहरण के लिए, ब्राइट पिंक लिप कलर अप्लाई करना एक उच्च वर्ग को दर्शाता था, जबकि रेड टोन का अर्थ था कि आप एक हीन सामाजिक वर्ग से संबंधित है।

टैन बना ट्रेंड

आज के समय में महिलाएं अपनी स्किन से टैन को दूर करने के लिए तरह-तरह के उपाय अपनाती हैं। लेकिन एक समय ऐसा भी था, जब यह टैन स्किन ट्रेंड में था। दरअसल, 1920 के दशक में, फैशन डिजाइनर कोको चैनल को गलती से फ्रेंच रिवेरा का दौरा करते समय सनबर्न हो गया था। जब वह घर वापस आई, तो सनबर्न एक तन में फीका पड़ गया था। लेकिन उनके प्रशंसकों ने उनके इस लुक को अपनाना शुरू कर दिया और फिर उस दौर में इस तरह की स्किन काफी ट्रेंड में रही।

अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी से।

 Image Credit:(@freepik)