आँखों की खूबसूरती से ही पूरे चेहरे की खूबसूरती बढ़ाई जा सकती है। ज्यादा देर तक कंप्यूटर में काम करना, धुल और प्रदूषण के संपर्क में ज्यादा देर तक रहना और आंखों को ज्यादा देर तक आराम न मिलना, वजह चाहे जो भी हो कई बार आंखों के नीचे डार्क सर्कल और आंखों के नीचे रिंकल्स की समस्या बढ़ जाती है। यही नहीं आंखों की खूबसूरती में ग्रहण लगाने वाली सबसे बड़ी समस्या में से एक है आंखों के नीचे पफीनेस। यह एक ऐसी समस्या है जो किसी की भी खूबसूरती में ग्रहण लगाने के साथ आंखों को कमज़ोर भी कर सकती है। इस समस्या का निदान कुछ घरेलू उपाय अपनाकर किया जा सकता है। ऐसे ही घरेलू नुस्खों में से एक है गाजर से तैयार होने वाला अंडर आई मास्क। 

गाजर में कुछ अन्य घरेलू उत्पाद मिलाकर एक अंडर आई मास्क तैयार किया जा सकता है जो आंखों के नीचे के हिस्से में अप्लाई करके आंखों की सूजन कम की जा सकती है। आइए जानें किस तरह अंडर आई मास्क तैयार किया जा सकता है और इसके क्या फायदे हैं। 

गाजर और एग व्हॉइट का अंडर आई मास्क 

आवश्यक सामग्री 

carrot mask under eye

  • गाजर -1 
  • अंडा -1 
  • एलोवेरा जेल -1 चम्मच 

Recommended Video

बनाने का तरीका 

  • अंडर आई मास्क बनाने के लिए सबसे पहले गाजर का पेस्ट तैयार करें। 
  • तैयार पेस्ट को एक बाउल में निकालें और अंडे को तोड़कर उसका सफ़ेद भाग अलग करें। 
  • अंडे का सफ़ेद भाग यानी एग व्हॉइट निकाल कर गाजर के पेस्ट में अच्छी तरह से मिलाएं। 
  • तैयार पेस्ट में एलोवेरा जेल मिलाकर अच्छी तरह मिलाएं और पेस्ट तैयार करें। 
  • अंडर आई मास्क इस्तेमाल के लिए तैयार है। 

इस्तेमाल का तरीका 

how to apply under eye mask

  • इस अंडर आई मास्क का इस्तेमाल करने के लिए सबसे पहले चेहरा अच्छी तरह से साफ़ करें। 
  • आंखों के नीचे के भाग में अंडर आई मास्क अप्लाई करें। 
  • 20 मिनट के लिए अंडर आई मास्क आंखों के नीचे लगाए रखें और आंखें बंद करके लेट जाएं। 
  • आप चाहें तो गुलाब जल से डूबी हुई कॉटन को आंखों के ऊपर रखें और आंखें बंद रखें। 
  • 20 मिनट बाद चेहरा और आंखें ठंडे पानी से धो लें और मास्क अच्छी तरह से हटा दें। 
  • इस अंडर आई मास्क को हफ्ते में एक बार आँखों के नीचे के भाग में इस्तेमाल करें। 
  • बहुत जल्द ही आंखों के नीचे की पफीनेस दूर हो जाएगी। 

अंडर आई मास्क के फायदे 

under eye mask

  • इस अंडर आई मास्क के इस्तेमाल से आंखों के नीचे के काले घेरों को कम किया जा सकता है। 
  • आंखों के नीचे के रिंकल्स ठीक करता है। 
  • आंखों को ठंडक प्रदान करता है और थकान दूर करता है। 
  • इसके इस्तेमाल से आंखों के नीचे की सूजन की समस्या कम होती है। 

ये आई मास्क पूरी तरह से प्राकृतिक है और इसका कोई साइड इफ़ेक्ट भी नहीं है, लेकिन इसके इस्तेमाल से पहले पैच टेस्ट जरूर कर लें। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik