ऐसा आपके साथ कितनी बार हुआ है कि आपने किसी तरह का कोई विज्ञापन टीवी या सोशल मीडिया पर देखा हो और आपको वो चीज़ खरीदने का मन किया हो। ऐसा अधिकतर ब्यूटी प्रोडक्ट्स के साथ होता है। दरअसल, ब्यूटी प्रोडक्ट्स के विज्ञापन कुछ इस तरह से डिजाइन किए जाते हैं कि वो आपकी कमियों को दिखाते हैं और अधिकतर लोग अपने शरीर और लुक्स को लेकर इनसिक्योरिटी के कारण ऐसे प्रोडक्ट्स में पैसा इन्वेस्ट कर देते हैं। 

पर अधिकतर हमें ऐसे ब्यूटी प्रोडक्ट्स से निराशा ही हाथ लगती है। दरअसल, कई ब्यूटी प्रोडक्ट्स सिर्फ टार्गेट कस्टमर्स के लिए काम करते हैं और इन प्रोडक्ट्स से असर कुछ भी नहीं होता है। पर ये कैसे पता किया जाए कि कौन से प्रोडक्ट्स काम करते हैं और कौन से नहीं? 

Dermafollix skin & hair transplant क्लीनिक की  डर्मेटोलॉजिस्ट डॉक्टर आंचल पंथ ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर इससे जुड़ी जानकारी शेयर की है। उन्होंने अपनी इंस्टाग्राम पोस्ट में ये साफ किया है कि आखिर किस तरह के प्रोडक्ट्स काम करते हैं और किस तरह के प्रोडक्ट्स नहीं करते। 

इसे जरूर पढ़ें- आंखों के आसपास की झुर्रियों से हैं परेशान, तो एक्सपर्ट की राय पर जरूर दें ध्यान

1. स्किन लिफ्टिंग क्रीम्स-

मार्केट में स्किन लिफ्टिंग क्रीम्स बहुतायत में मिलती हैं और आपके लिए ये जानना भी जरूरी है कि ये असर नहीं करती हैं। स्किन का लटकना नेचुरल है और ये स्किन की मसल्स और इलास्टिसिटी की वजह से होता है। चेहरे और शरीर में मौजूद फैट पैड्स पर ग्रेविटी का असर होता है और हड्डियों से जुड़ी मसल्स भी ढीली पड़ती हैं। स्किन लिफ्टिंग क्रीम्स इतना डीप असर नहीं कर पाती हैं कि वो ऐसे स्ट्रक्चर्स पर असर कर दें। 

यही कारण है कि महंगी से महंगी स्किन लिफ्टिंग क्रीम भी असर नहीं दिखा पाती है। 

beauty industry

2. एंटी-हेयर फॉल शैम्पू-

यहां पर आपको शब्दों के हेर-फेर पर ध्यान देना है। हेयर फॉल स्कैल्प की समस्याओं या टेंशन और हेल्थ से जुड़ी समस्याओं की वजह से होता है और शैम्पू आपको सिर्फ सफाई दे सकता है। कोई भी शैम्पू बालों का झड़ना कम कर दे ऐसा नहीं होता। हां, कई मेडिकेटेड शैम्पू स्कैल्प के इन्फेक्शन को साफ कर सकते हैं और उससे थोड़ा असर पड़ सकता है, लेकिन शैम्पू से हेयर फॉल सीधे तरीके से कम नहीं होता है। 

beauty products that dont work

3. फेयरनेस क्रीम्स और फेस वॉश-

फेयरनेस क्रीम्स और फेस वॉश काम नहीं करते और ये अब आपको समझ जाना चाहिए। ये मार्केटिंग का सबसे बड़ा छलावा है और ये शायद हम बचपन से 'फेयर एंड लवली' के जमाने से सुनते आ रहे हैं। स्किन को साफ और ग्लोइंग फिर भी बनाया जा सकता है, लेकिन उसे गोरा नहीं किया जा सकता है। कम से कम क्रीम्स की मदद से तो नहीं। स्किन का नेचुरल रंग कभी बदलता नहीं है और इसलिए इस तरह की चीज़ों पर बिल्कुल ध्यान ना दें। 

Recommended Video

इसे जरूर पढ़ें- फ्रिज़ी बालों में कैसे बनाएं परफेक्ट कर्ल्स, बिना किसी प्रोडक्ट के ऐसे करें स्टाइलिंग 

4. हेयर ग्रोथ गमीज- 

आपने हमेशा यही सुना होगा कि शक्कर की वजह से हमेशा शरीर में खराबी होती है। ऐसे में शुगर बॉल्स जिनमें बालों के लिए विटामिन मौजूद हों वो फिर कैसे सही हो सकती है। शुगर गमीज इन दिनों काफी लोकप्रिय हो रही हैं, लेकिन इनका असर बिल्कुल नहीं होता।  

 

5. फेस स्लिमिंग टूल्स- 

चेहरे को पतला करने की कोशिश कई लोग करते हैं और इसके लिए ब्यूटी इंडस्ट्री में बहुत सारे टूल्स आ गए हैं। किसी टूल से आपकी नाक को पतला करने का दावा किया जाता है और किसी से गालों को। डॉक्टर आंचल के अनुसार इससे चेहरे की पफीनेस कम की जा सकती है, लेकिन इसे पतला नहीं किया जा सकता है। ये पतला तभी होगा जब फैट कम होगा।  

ये तो थे डॉक्टर आंचल के ख्याल। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।