योग से ना केवल आपकी सांसों के लिए अच्‍छा होता है बल्कि यह आपकी बॉडी के सभी कामों को नेचुरल रिदम में करना सिखाता है। यहां तक कि यह आपके प्राइवेट मोमेंट्स को बूस्‍ट करने में भी हेल्‍प करता है। जैसे कई महिलाओं को फोकस करने में परेशानी होती है जिसके चलते वह प्राइवेट मोमेंट्स को बेहद ही उबाऊ या अनइमोशनल बना देती है जिससे उनकी शादीशुदा जिंदगी में थोड़ी परेशानी आने लगती है। लेकिन परेशान ना हो क्‍योंकि कुछ योग इस समस्‍या से बचने में आपकी हेल्‍प कर सकते है। जी हां योगासन फोकस और एकाग्रता के निर्माण के साथ-साथ आपके स्पेशल पलों में इंटिमेसी बढ़ाने में भी हेल्‍प करता है।

इस बारे में ज्‍यादा जानने के लिए हमने स्‍वामी परमानंद प्राकृतिक चिकित्‍सालय योग एवं अनुसंधान केन्‍द्र की आयुर्वेदिक डॉक्‍टर दुर्गा अरुंद से बात की तब उन्‍होंने हमें बताया कि ''कुछ योगासन को करने से प्राइवेट मोमेंट्स को बूस्‍ट करने में हेल्‍प मिलती है क्‍योंकि यह आसन रिपोडक्टिव एरिया में ब्‍लड सर्कुलेशन को बढ़ाने, चक्रों को प्रेरित करने और हार्मोन के स्राव को बढ़ाने में हेल्‍प करते है।'' आइए डॉक्‍टर दुर्गा अरुंद से जानें कौन से है ये आसन, इसे कैसे किया जाता है और इंटिमेसी बढ़ाने में कैसे हेल्‍प करते है।

Read more: हिप्‍स और थाई के बढ़ते फैट ने बिगाड़ दी है आपकी बॉडी की शेप तो ये 5 योगासन करें

मार्जारी आसन यानि cow stretch
cow stretch inside

कीगल मसल्‍स पर काम करने के लिए मार्जारी आसन बहुत अच्‍छा माना जाता है-क्‍योंकि यह पेल्विक एरिया के मूवमेंट को कंट्रोल करने में हेल्‍प करते है। जी हां इस योग को करने से आप अपनी बॉडी की निचली मसल्‍स में ब्‍लड सर्कुलेशन बढ़ा सकती है।

मार्जारी आसन करने का तरीका

  • दोनों घुटनों और दोनों हाथों को जमीन पर रखकर घुटने पर खड़ी हो जाएं। 
  • हाथों को जमीन पर बिलकुल सीधा रखें। ध्यान रखें कि हाथ कंधों की सीध में हों और हथेली फर्श पर इस तरह टिकाएं कि उंगलियां आगे की तरफ फैली हों।
  • हाथों को घुटनों की सीध में रखें, बाजू और हिप्‍स भी फर्श से एक सीध में होने चाहिए। 
  • इसके बाद रीढ़ को ऊपर की तरफ खींचते हुए सांस अंदर खींचें। इसे इस स्थिति तक लाएं कि पीठ अवतल अवस्था में पूरी तरह ऊपर खिंची हुई दिखे। 
  • सांस अंदर की ओर तब तक खींचती रहें जब तक कि पेट हवा से पूरी तरह भर न जाए।
  • इस दौरान सिर का ऊपर उठाए रखें। सांस को तीन सेकंड तक भीतर रोक कर रखें। 
  • इसके बाद पीठ को बीच से ऊपर उठाकर सिर नीचे झुकाएं।
  • सांस धीरे-धीरे बाहर छोड़ें और पेट को पूरी तरह खाली कर दें और हिप्‍स को अंदर की तरफ खींचें। 
  •  सांस को फिर तीन सेकंड तक रोकें और सामान्य दशा में वापस आ जाएं।

भुजंगासन यानि कोबरा पोज
cobra pose inside

कोबरा पोज सीधे आपकी ओवरी और यूटरस को हेल्‍थ बेनिफिट्स देती है और आपके पीरियड्स को बेहतर बनाने में भी हेल्‍प करता है, जिससे आप गयनेकोलॉजिकल डिस्‍आर्डर को दूर करने में हेल्‍प मिलती है। यह बॉडी के निचली मसल्‍स में लचीलापन बढ़ाने में हेल्‍प करता है और पीठ में दर्द महिलाओं को राहत देता है और निचले हिस्‍से की मसल्‍स की हेल्‍थ में सुधार लाता है, जिससे आप उन पलों में इंटिमेंसी बढ़ा सकती हैं।

भुजंगासन करने का तरीका

  • सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं। अब पेट के पास अपने दोनों हाथों को रखें।   
  • फिर दोनों पैरों को एकदूसरे से दूर कर लें और पंजों को ऊपर की तरफ रखें और उनसे जमीन पर प्रेशर बनाएं।
  • हथेलियों से जमीन पर प्रेशर डालें और दोनों कोहनी को शरीर के पास रखें।   
  • अब बिना हाथ का सहारा लिए कमर से ज़ोर लगाएं। धीरे धीरे चेस्‍ट को जमीन से ऊपर उठायें, कंधों को पीछे की तरफ लेकर जाएं।   
  • जब आपकी कमर की मसल्‍स और पैरों पर प्रेशर बने तो हाथों का सहारा लें।   
  • इस अवस्था में दस से बीस सेकेण्ड तक रहें, धीरे धीर सांस लेते रहें और फिर इसके बाद धीरे धीरे जमीन पर आ जाएं।

सेतुबंधासन यानि ब्रिज पोज
Bridge pose inside

ब्रिज पोज पेल्विक मसल्‍स को टोन करने में हेल्‍प करता है। साथ ही यह पीरियड्स में होने वाल ऐंठन को कम करने में हेल्‍प करता है, खासतौर पर वह महिलाएं जो पीरियड्स के करीब संबंध बनाने की कोशिश करती है। साथ ही यह योग आपकी रीढ़, निचले हिस्‍से और बाजुओं को मजबूत बनाने में हेल्‍प करता है।

सेतुबंधासन करने का तरीका

  • अपनी पीठ के बल फ्लैट लेट जायें। अपने बाज़ुओं को सिर के पास रख लें।   
  • टांगों को मोड़ कर पैरों को अपने हिप्‍स के करीब ले आयें। जितना करीब हो सके उतना लायें।   
  • हाथों पर वजन डाल कर धीरे धीरे हिप्‍स को उपर उठायें। ऐसा करते समय सांस अंदर लें।   
  • पैरों को मजबूती से टिका कर रखें। पीठ जितनी मोडी जाए, उतनी ही मोड़ें।
  • अब दोनो हाथों को जोड़ लें।   
  • इस पॉजिशन में 5-10 सेकेंड रहें, फिर हिप्‍स को वापिस जमीन पर टिकायं।
  • नीचे आते समय सांसों को छोड़ें।

Read more: फिट रहने के लिए रोजाना 1 घंटा करें डांस, रागिनी खन्ना ने दिए फिटनेस टिप्स

सुप्त बद्धकोणासन यानि bound angle stretch
bound angle stretch inside

इस योग आपकी थाई और हिप्‍स को एक अच्‍छा स्‍ट्रेच देता है, जिससे आपके पेल्विक एरिया और हिप्‍स में लचीलापन बढ़ता है। यह आपकी पीठ दर्द और थकान को दूर करने में हेल्‍प करता है। साथ ही यह आपकी बॉडी में ब्‍लड सर्कुलेशन को बढ़ाकर आपके एनर्जी लेवल को बढ़ाता है।

सुप्त बद्धकोणासन करने का तरीका

  • शवासन करने के लिए पीठ के बल लेट जाएं।
  • बांहों को शरीर के दोनों तरफ पैर की दिशा में फैलाकर रखें।
  • इस पॉजिशन में हथेलियां छत की दिशा में रहनी चाहिए।
  • घुटनो को मोड़ें और तलवों को जमीन से लगाकर रखें।
  • दोनों तलवों को नमस्कार की मुद्रा में एक दूसरे के करीब लाकर जमीन से लगाएं।
  • जितना संभव हो एड़ियों को हिप्‍स की ओर करीब लाएं।
  • इस पॉजिशन में 30 सेकेण्ड से 1 मिनट तक बने रहें।
  • हाथों से दोनों हिप्‍स को दबाएं और धीर धीरे सामान्य स्थिति में लौट आएं।

वशिष्ठासन यानि Planks
Planks for married life inside

यह आपके सेक्‍सुअल कॉफिडेंस और स्‍ट्रेंथ बिल्डि़ग पोश्‍चर को बनाता है। यह आपके पीठ और कोर मसल्‍स पर काम करता है। ताकी इंटिमेंसी के दौरान आप अपने पोश्‍चर को ज्‍यादा देर तक बनाकर रख सकें। यह आपकी थकान को दूर करने में हेल्‍प करता है।

वशिष्ठासन करने का तरीका

  • इसे करने के लिए सबसे पहले पुशअप पोजीशन में आ जायें।
  • अब इस पोजीशन में बॉडी का भार हथेलियों की बजाय अपनी बांहों पर रखें।
  • इस पोजीशन में आपकी बॉडी सिर से लेकर पैर तक एक सीध में होनी चाहिए।
  • आप प्लैंक में थोड़ा बदलाव भी ला सकती हैं जैसे कि आप हिप्स को उठाकर या भुजंगासन पोजीशन में भी इस एक्सरसाइज को कर सकती हैं।

तो देर किस बात की आप भी आज ही अपना मनपसंद योगासन करें।

Recommended Video