कैविटी दांतों में होने वाली एक कॉमन समस्या है, लेकिन इसकी वजह से लोगों को काफी अहसनीय दर्द सहना पड़ता है। कैविटी का मतलब दांतों का सड़ना, जिसकी वजह से ना सिर्फ दर्द बल्कि सूजन की समस्या भी शुरू हो जाती है। इस आधुनिक समय में बेहद कम उम्र में ही बच्चों को कैविटी की समस्या देखने को मिल रही है। इसकी वजह गलत खानपान भी हो सकता है। यही नहीं अगर आपको कैविटी की संभावनाएं दिख रही हैं तो डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना चाहिए, क्योंकि यह एक दांत से दूसरे दांत को तुरंत प्रभावित करते हैं।

हालांकि, कैविटी होने के पीछे कई वजह हो सकते हैं। कई बार यह इंफेक्शन की वजह से भी होता है। कैविटी में दांतों के अंदर छेद बनने लगते हैं, जो धीरे-धीरे बढ़ना शुरू हो जाते हैं। अगर कैविटी ने आपके पूरे दांत को खराब कर दिया है तो उसे ऑपरेट कर बाहर भी निकलना पड़ सकता है। डेंटिस्ट पल्लवी महाजन के अनुसार, कैविटी से बचने के लिए कुछ बातों का ख्याल रखना बहुत जरूरी है। अपने खानपान और दांतों सही देखरेख से कैविटी से बचा सकता है।

दो टाइम करें ब्रश

brush your teeth

कुछ चीजें हमारी डेली रूटीन का हिस्सा होता है, जैसे रोजाना ब्रश करना है। सुबह ब्रश करने के अलावा रात में सोने पहले भी ब्रश जरूर करें। रोजाना दो टाइम ब्रश करना यह एक हेल्दी हैबिट  है। साथ ही, कुछ लोग ब्रश काफी तेज और अधिक देर तक करते हैं। ज्यादा देर तक ब्रश करना आपके दांतों के लिए नुकसानदायक हो सकता है। इसलिए इस बात का भी ध्यान रखना बहुत जरूरी है अधिक देर ब्रश करें। कोशिश करें मुंह के सभी साइड को दो बार ब्रश करें और पानी से कुल्ला कर लें। इसके अलावा हमेशा सॉफ्ट या फिर डॉक्टर द्वारा बताए गए टूथब्रश का ही इस्तेमाल करें।

इसे भी पढ़ें: गले में है खराश और दर्द? बदलते मौसम की इस समस्या से कैसे पाएं निजात?

दांतों के बीच की सफाई

कई बार दांतों में खाने-पीने की चीजें सड़ने लगती हैं, जो बाद में कैविटी का कारण बनते हैं। हालांकि, दांतों के बीच फंसे खाद्य पदार्थ को हटाने के लिए ज्यादातर लोग टूथपिक या फिर सेफ्टी पिन जैसी चीजों का इस्तेमाल करते हैं। सेफ्टी पिन से दांतों में इंफेक्शन होने का डर रहता है। वहीं टूथपिक के अधिक इस्तेमाल से दांतों के बीच गैप आ सकता है। ऐसे में इसे हटाने के लिए फ्लॉसिंग या इंटरडेंटल क्लीनर का उपयोग करना सबसे अच्छा तरीका है।

हेल्दी फूड का करें सेवन

eat healthy food

दांतों को कैविटी से बचाने के लिए शुगर युक्त खाद्य पदार्थ को खाने से बचें। कोल्ड ड्रिंक या फिर चॉकलेट जैसी चीजों का अधिक सेवन से दांतों में कैविटी होने का डर रहता है। दांतों को हेल्दी रखने के लिए पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थों को डाइट में शामिल करें। यही नहीं खाना खाने के बाद एक कुल्ला जरूर करें, ताकि बचे हुए खाद्य पदार्थ दांतों में चिपके नहीं। इसके अलावा खाने को चबाते हुए खाएं, इससे आपक मुंह और दांत दोनों की एक्सरसाइज हो जाएगी।

माउथ क्लीनर का उपयोग

कैविटी या फिर बदबू से राहत पाने के लिए ब्रश करने के बाद माउथ क्लीनर का उपयोग जरूर करें। मार्केट में आपको कई तरह के माउथ क्लीनर यानी माउथ रिंसेज मिल जाएंगे, जो मेडिकली प्रूवड होते हैं। डॉक्टर की परामर्श लेकर आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: सिटिंग जॉब में हैं तो इन फूड आइटम्स को कर दें अपनी डाइट लिस्ट से बाहर

डेंटिस्ट से संपर्क करें

contact dentist

दांतों को हेल्दी रखने के लिए दो या तीन महीने पर एक बार डेंटिस्ट से संपर्क जरूर करें। इसके अलावा सेंसिटिव दांत या फिर अन्य किसी की तरह परेशानी होने पर डॉक्टर द्वारा बताए गए चीजों का ही उपयोग करें। कई बार दांत दर्द होने पर हम कई तरीके के घरेलू उपाय आजमाते हैं, ऐसा करने से बचना चाहिए।

ये सभी टिप्स आपको दांतों को हेल्दी रखने के साथ-साथ कैविटी से भी बचाएंगे। उम्मीद है कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। साथ ही, आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें कमेंट कर जरूर बताएं और इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी के साथ।