औसतन पीरियड्स 28 दिनों का होता है। लेकिन, चूंकि पीरियड्स साइकिल की गणना पीरियड्स के पहले दिन से अगले पीरियड्स के पहले दिन तक की जाती है, यह चक्र महिला से महिला में भिन्न हो सकता है। कुछ महिलाओं को पीरियड्स साइकिल के दौरान हैवी और लंबे समय तक ब्‍लीडिंग और दर्द का सामना करना पड़ता है जो उनकी दिन-प्रतिदिन के रूटीन में बाधा उत्पन्न कर सकता है।

यदि आप ऐसी महिलाओं में से एक हैं जो हैवी पीरियड्स का सामना करती हैं या किसी ऐसी महिला को जानती हैं जो इस समस्‍या से परेशान हैं, तो आप इन सरल और प्राकृतिक घरेलू उपचार को आजमा सकती हैं जो आपके पीरियड्स के दौरान आपके ब्‍लड फ्लो को कंट्रोल करने के काम आ सकता है। हालांकि, पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर कर लें।

इस बारे में हमें आयुर्वेदिक डॉक्‍टर जीतू रामचंद्रन जी के इंस्‍टाग्राम को देखने के बाद पता चला। उन्‍होंने इस नुस्‍खे को शेयर करते हुए कैप्‍शन में लिखा, ''पीरियड्स में हैवी ब्‍लीडिंग के दौरान गुड़हल का फूल सबसे अच्‍छे उपचारों में से एक है और यह बहुत ही प्रभावी है।'' साथ ही इसे लेने के तरीके के बारे में बताया। आइए हैवी पीरियड्स में मददगार इस फूल के फायदे और इस्‍तेमाल के तरीके के बारे में आर्टिकल के माध्‍यम से विस्‍तार से जानें।

सामग्री

  • गुड़हल के फूल- 4-5 
  • दूध- 1 कप

विधि

  • सबसे पहले गुड़हल के फूल का पेस्‍ट बना लें। 
  • फिर इसे दूध के साथ लें।

हैवी पीरियड्स के लिए गुड़हल का फूल ही क्‍यों? 

hibiscus for heavy periods

सालों से चाइनीज और आयुर्वेदिक चिकित्सा में गुड़हल के फूल का उपयोग एक प्राचीन स्वास्थ्य उपचार के रूप में किया जाता रहा है। जब स्वास्थ्य की बात आती है तो यह फूल एक शक्तिशाली तरीके से काम करता है। इसके लाभों में स्वाभाविक रूप से इम्‍यून सिस्‍टम को मजबूत करने, वेट लॉस को बढ़ावा देने, हृदय स्वास्थ्य को बनाए रखने की क्षमता शामिल है और ऐसा निश्चित रूप से, इसके अंतर्निहित एंटीऑक्सीडेंट गुणों के कारण होता है। 

लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि गुड़हल के फूल में ढेर सारे औषधीय गुण होते हैं जो रिप्रोडक्टिव सिस्‍टम के लिए फायदेमंद होते हैं। यह अनियमित पीरियड्स के लिए आयुर्वेदिक टॉनिक की तरह काम करता है।

 

Recommended Video

हैवी पीरियड्स के लिए अन्‍य उपाय 

heavy periods easy remedy

  • कम आयरन का लेवल पीरियड्स के दौरान ब्‍लीडिंग को बढ़ा सकता है और आयरन को अपनी डाइट में शामिल करके फ्लो को कम किया जा सकता है।
  • अगर आपको भी पीरियड्स के दौरान हैवी ब्‍लीडिंग का सामना करना पड़ता है, तो आप दालचीनी की चाय का एक गर्म प्याला बनाकर धीरे-धीरे पिएं। यह ब्‍लीडिंग को कम करने के लिए जाना जाता है क्योंकि यह यूट्रस से ब्‍लड के फ्लो को प्रोत्साहित करता है और यह सूजन को कम करने में भी मदद करता है।
  • विटामिन सी से भरपूर होने के कारण अजमोद हैवी ब्‍लीडिंग के कारण खोए हुए आयरन को अवशोषित करता है और इसमें उपलब्ध एंटीऑक्सीडेंट सूजन को कम करता है। अगली बार जब आपके पीरियड्स भारी और लंबे हों तो आप कुछ अजमोद के पत्तों को चबा सकती हैं या अपने लिए एक गिलास अजमोद का जूस बना सकती हैं।

आप भी हैवी पीरियड्स को कंट्रोल करने के लिए गुड़हल के फूल का इस्‍तेमाल करें। लेकिन इस नुस्‍खे को आजमाने से पहले एक बार एक्‍सपर्ट से सलाह जरूर कर लें। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Shutterstock.com