देश की राजधानी दिल्ली और आस-पास के इलाकों में पॉल्‍यूशन का लेवल बढ़ने के साथ ही लोगों को सर्दी, खांसी, बुखार और फ्लू के लक्षण दिखाई देने लगे हैं। इसके अलावा कुछ लोगों में बहती नाक, ड्राई आइज, गले में घरघराहट, मतली आदि जैसे कई लक्षण भी दिखाई देते हैं। हालांकि पॉल्‍यूशन को कंट्रोल करने के लिए सरकार कई तरह के उपाय अपना रही है और दिल्ली सरकार ने तो पॉल्‍यूशन को कंट्रोल में रखने के लिए ऑड-ईवन योजना सहित कई पहल भी की है। लेकिन आज हम आपको दादी मां के बताये कुछ नुस्‍खों के बारे में बता रहे हैं जो इंफेक्‍शन को रोकने के लिए आप आसानी से घर पर ही कर सकती हैं। आइए जानें कौन से है ये उपाय और आप इसका इस्‍तेमाल कैसे कर सकती हैं।

इसे जरूर पढ़ें: दिल्‍ली की जहरीली हवा से हैं बेहाल, तो अपनाएं ये 5 आसान टिप्‍स 

सरसों का तेल

pollution infection remedy mustard oil

सर्कुलेशन में अपनी नाभि में सरसों का तेल लगाने से लिवर और स्‍प्‍लीन से गैस्ट्रिक और पित्त रस को उत्तेजित करने में हेल्‍प मिलती है। यह भोजन को तेजी से और आसानी से पचाने में हेल्‍प करता है, जिससे आंतों का काम अच्‍छे से चलता रहता है। इतना ही नहीं बल्कि दादी मां का कहना है कि नाभि पर तेल लगाने से होंठों का फटना भी ठीक होता है।

बीटा कैरोटीन

वातावरण में मुक्त कणों और प्रदूषकों की उपस्थिति के कारण होने वाली सूजन को कंट्रोल करने के लिए बीटा कैरोटीन की जरूरत होती है। बीटा कैरोटीन आपको धनिया, मेथी, सलाद और पालक आदि में भरपूर मात्रा में मिलता है। एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर यह कैरोटीनॉयड विटामिन ए में परिवर्तित होकर प्रदूषकों से लड़ने में हेल्‍प करता है। इसलिए अगर आप एयर पॉल्‍यूशन के कारण बीमार महसूस कर रही हैं तो अपनी इम्‍यूनिटी को मजबूत बनाने के लिए बीटा कैरोटीन से भरपूर फूड्स लें।

हल्दी

pollution infection remedy turmeric

हल्दी में एंटी-बैक्टीरियल गुण पाये जाते है, इसलिए हर तरह के इंफेक्‍शन से बचने के लिए हल्‍दी वाला दूध पीने की सलाह दी जाती है। आपने देखा होगा जब भी कभी चोट लगती हैं तब आपके घर के बुजुर्ग आपको हल्‍दी वाला दूध पीने के लिए कहते हैं। ऐसा इसलिए क्‍योंकि हल्‍दी आपके घावों को तेजी से भरती है। हल्‍दी वाला दूध बनाने के लिए बस 1 गिलास दूध में दो चुटकी हल्‍दी पाउडर मिलाकर अच्‍छे से उबाल लें। फिर हल्‍का ठंडा होने पर इसका सेवन करें।

हर्बल टी

अदरक और तुलसी से बनी चाय भी आपको पॉल्‍यूशन से होने वाली समस्‍याओं से बचाता है। इसे बनाने के लिए थोड़ी सी अदरक और 5-6 तुलसी की पत्तियों को 1-2 गिलास पानी में उबालें। इसे 5 मिनट के लिए ऐसे की पकाएं और इसे छानकर पी लें। आप चाहे तो स्‍वाद बढ़ाने के लिए इसमें शहद या गुड़ा मिला सकती हैं।

इसे जरूर पढ़ें: प्रदूषण के कहर से बचने के लिए रोजाना खाएं सिर्फ 1 गुड़ का टुकड़ा, वजन भी होगा तेजी से कम

घी

pollution infection remedy ghee

1 चम्मच गर्म घी को अपने भोजन में शामिल करें। माना जाता है कि घी हवा में सीसा और पारा सहित कई प्रदूषकों के दुष्प्रभाव को कम कर सकता है। ओमेगा 3 फैटी एसिड के एक महान स्रोत के रूप में इसे जाना जाता है, साथ ही यह एंटी-इफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है, इसलिए इसे अपने भोजन में जरूर शामिल करना चाहिए। यह बॉडी में एक क्षारीय वातावरण को बढ़ावा देता है, जिससे बीमारियां आपके शरीर को छू भी नहीं पाती है।