By Smriti Kiran

तांबे के बर्तन में पानी पीने के फायदे

14 September 2021 www.herzindagi.com

आयुर्वेद के अनुसार तांबे के बर्तन में खाना व पीना सेहत के लिए फायदेमंद माना गया है। ऐसी मान्यता है कि तांबे के बर्तन का पानी तीन दोषों वात, कफ और पित्त को संतुलित रखता है। आइए जानते हैं इसके फायदों के बारे में।

# दिल की सेहत का रखे ख्याल

इससे हार्ट की सेहत अच्छी बनी रहती है। यह ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के साथ बेड कोलेस्ट्रॉल को कम करता है।

# डाइजेशन सिस्टम को करे मजबूत

तांबा पेट, लिवर और किडनी सभी को डिटॉक्स करता है। इसमें ऐसे गुण मौजूद होते हैं, जो पेट को नुकसान पहुंचाने वाले बैक्टीरिया को मार देते हैं।

# इम्यूनिटी को करे मजबूत

यह इम्यूनिटी को मजबूत बनाता है। साथ ही कॉपर की पूर्ति कर घावों को तेजी से भरने में मदद करता है।

# पेट की बीमारी में असरदार

अल्सर, अपच और इंफेक्शन जैसी पेट की समस्याओं के लिए ये एक असरदार उपाय है। पेट के रोग मिटाने के लिए रात भर तांबे के बर्तन में रखें और इस पानी को सुबह खाली पेट पीना चाहिए।

# दर्द में दे आराम

तांबा अपने एंटी-बैक्‍टीरियल, एंटीवायरल और एंटी इंफ्लेमेट्री गुणों के लिए भी जाना जाता है। यह शरीर में दर्द, ऐंठन और सूजन की समस्या को कम करता है।

# एनीमिया में कारगर

एनीमिया की समस्या होने पर तांबे में रखा पानी काफी लाभदायक होता है। यह भोज्य पदार्थों से आयरन को आसानी से सोख लेता है। जो एनीमिया से निपटने के लिए बेहद जरूरी है।

# थॉयराइड में मददगार

तांबे में भरपूर मात्रा में मौजूद मिनरल्स थॉयराइड की समस्या को दूर करने में सहायक होते हैं। थॉयराइड ग्रंथि‍ के सही क्रियान्वयन के लिए तांबा बेहद उपयोगी है।

# स्किन के लिए फायदेमंद

तांबे में उपस्थि‍त एंटी-ऑक्सीडेंट तत्व असमय बढ़ती उम्र के निशान को कम करता है। यह त्वचा को झुर्रियों, बारीक लाइनों और दाग-धब्बों से बचाता भी है।

# हड्डियों की परेशानी करे दूर

तांबे में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रॉपर्टीज दर्द से राहत दिलाती है। शरीर की रोग प्रतिरोध प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर हड्डियों को स्ट्रॉंग बनाता है।

# वजन कम करने में कारगर

तांबे के बर्तन का पानी लगातार यूज कर वजन को कम किया जा सकता है। यह डाइजेस्टिव सिस्टम को बेहतर कर बुरे फैट को शरीर से बाहर निकालता है।

# दिमाग को तेज करने में मददगार

मस्तिष्क को सक्रिय बनाए रखने में तांबे का पानी बहुत सहायक होता है। इसके प्रयोग से स्मरणशक्ति मजबूत होती है और दिमाग तेज होता है।

# ऐसे करें इस्तेमाल

आयुर्वेद के अनुसार तांबे के बर्तन में कम से कम 8 घंटे तक पानी रखा जाए। इसलिए लोग रात को तांबे के बर्तन में पानी भरकर रखते हैं ताकि सुबह उठकर इसका सेवन कर सकें। यह लेख सामान्य जानकारी के लिए है। अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर की सलाह लें।

अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर शेयर करें और साथ ही इस तरह की अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जूड़े रहें आपकी अपनी वेबसाइट herzindagi.com के साथ।